comscore Android यूजर्स के लिए खतरा बना FluBot वायरस, जानें कैसे बचें
News

Android यूजर्स सावधान! यह खतरनाक वायरस चुराता है बैंकिग डिटेल्स, जानें कैसे बचें

कई साइबर सिक्योरिटी रिसर्चर्स ने एंड्रॉइड के इस FluBot वायरस को खतरनाक बताया है। उनके मुताबिक, यह वायरस यूजर की बैंकिग डिटेल चोरी करके अनऑथोराइज्ड परचेज को अंजाम देता है यानी यूजर की परमिशन के बिना ऑनलाइन खरीदारी कर सकता है।

Android-Virus

Android स्मार्टफोन पर एक नए खतरनाक वायरस FluBot के जरिए अटैक किया जा रहा है। इस वायरस को हम खतरनाक इसलिए कह रहे हैं, क्योंकि ये आपके स्मार्टफोन से बैंकिंग डिटेल्स जैसे कि क्रेडिट कार्ड, डेबिट कार्ड नंबर की चोरी करता है। यही नहीं, आपके कॉन्टैक्ट को भी एक्सेस कर सकता है। Also Read - How to update Android Smartphone: बस एक क्लिक में अपडेट करें अपना स्मार्टफोन, मिलेंगे नए फीचर्स

कई साइबर सिक्योरिटी रिसर्चर्स ने एंड्रॉइड के इस वायरस को खतरनाक बताया है। सिक्योरिटी रिसर्चर्स के मुताबिक, यह वायरस यूजर की बैंकिग डिटेल चोरी करके अनऑथोराइज्ड परचेज को अंजाम देता है यानी यूजर की परमिशन के बिना ऑनलाइन खरीदारी कर सकता है। Also Read - Facebook पर प्रमोट हो रहे दर्जनों खतरनाक ऐप्स, 7 मिलियन से ज्यादा है डाउनलोड

FluBot कैसे करता है काम?

साइबर क्रिमिनल्स FluBot वायरस को यूजर के स्मार्टफोन में वॉयसमेल (Voicemail) के नाम पर भेजे गए ट्रांजिट पैकेज के जरिए इंजेक्ट कर रहे हैं। साइबर क्रिमिनल Android यूजर्स को एक वॉयसमेल मैसेज के जरिए टारगेट कर रहे हैं। मैसेज में आए वॉयसमेल प्ले करने के लिए यूजर्स से ऐप डाउनलोड करने को कहा जाता है। Also Read - Android 13 launch timeline: जानें कब लॉन्च होगा Google का नया ऑपरेटिंग सिस्टम

यूजर्स को लगता है कि ऐप डाउनलोड करने के बाद मैसेज में आए वॉयस मेल को ओपन कर सकेंगे, जबकि ऐसा नहीं होता है। यूजर्स के फोन में FluBot की एंट्री हो जाती है और साइबर अपराधी बैंकिंग डिटेल के जरिए बिना यूजर की अनुमति के खरीदारी को अंजाम देते हैं।

Cyber Crime, Indian govt, crime, MHA, MyGov, i4c

Initiatives by govt to fight cybercrime

सिक्योरिटी रिसर्चर्स का कहना है कि यूजर्स द्वारा ऐप डाउनलोड करते समय यह स्मार्टफोन की एक्सेसिबिलिटी का परमिशन मांगता है, परमिशन मिलते ही वायरस यूजर के डिवाइस में एंटर हो जाता है। यही नहीं, यह खतरनाक FluBot वायरस यूजर के कॉन्टैक्ट लिस्ट को भी खंगालने लगता है ताकि अन्य यूजर को टारगेट किया जा सके।

Bitdefender ने किया रेड फ्लैग

रोमानिया की साइबर सिक्योरिटी फर्म Bitdefender ने FluBot को रेड फ्लैग किया है। इस वायरस की वजह से जर्मनी के यूजर्स सबसे ज्यादा प्रभावित हुए हैं। वहीं, कई यूरोपीय देशों में भी यह अपने पैर पसार रहा है। इससे पहले भी इस तरह के कई मेलवेयर अटैक एंड्रॉइड डिवाइस पर हुए हैं, जिनमें साइबर क्रिमिनल्स ने यूजर्स को ई-मेल, मैसेज आदि के जरिए टारगेट किया है।

Apple यूजर्स को इस मेलवेयर से कोई खतरा नहीं है क्योंकि ऐप स्टोर थर्ड पार्टी ऐप को डिवाइस में इंस्टॉल करने की परमिशन नहीं देता है। अब सवाल यह है कि FluBot नाम के इस वायरस से कैसे बचा जाए?

FluBot से कैसे बचें?

– एंड्रॉइड यूजर्स किसी भी अनजाने नंबर से आए मैसेज या ई-मेल में दिए गए लिंक को ओपन न करें।
– अपने स्मार्टफोन में किसी भी तरह के थर्ड पार्टी ऐप को इंस्टॉल न करें।
– गूगल प्ले स्टोर से ऐप डाउनलोड करने से पहले ऐप डेवलपर और ऐप की रेटिंग आदि की जांच कर लें।
– स्मार्टफोन की सेटिंग्स में जाकर “Install from Unknown Source” वाले ऑप्शन को इनेबल न करें। अगर इनेबल है तो तुरंत डिसेबल कर दें।

दुनियाभर की लेटेस्ट tech news और reviews के साथ best recharge, पॉप्युलर मोबाइल पर मिलने वाले एक्सक्लूसिव offers के लिए हमें फेसबुक, ट्विटर पर फॉलो करें। Also follow us on  Facebook Messenger for latest updates.

  • Published Date: May 26, 2022 12:39 PM IST



new arrivals in india