comscore Apple ने भारतीय मूल के पूर्व कर्मचारी और स्टार्ट-अप कंपनी पर दर्ज किया मुकदमा
News

Apple ने भारतीय मूल के पूर्व कर्मचारी और स्टार्ट-अप कंपनी पर दर्ज किया मुकदमा, जानें वजह

Apple कंपनी में सेंधमारी करने के आरोप में भारतीय मूल के पूर्व कर्मचारी और एक स्टार्ट अप कंपनी पर मुकदमा दर्ज किया गया है। आईफोन बनाने वाली कंपनी के मुताबिक, स्टार्ट अप कंपनी एप्पल के कर्मचारियों को अपने यहां कंपनी के टॉप सीक्रेट चोरी करने पर जॉब ऑफर कर रही है।

Apple

iPhone बनाने वाली कंपनी Apple ने सैंटा कलारा बेस्ड स्टील्थ मोड सेमीकंडक्टर बनाने वाले स्टार्ट-अप फर्म Rivos और दो पुराने कर्मचारियों के खिलाफ केस दर्ज कराया है। इन कर्मचारियों में रिकी वेन के अलावा एक भारतीय मूल का भासी कैथामना भी शामिल है। स्टार्ट-अप फर्म और इन दोनों पुराने कर्मचारियों पर कंपनी ने चिप बनाने के सीक्रेट कोड्स चोरी करने का आरोप लगाया है। Also Read - Apple iPhone 14 Pro में मिलेगा Always On Display फीचर! बिना डिस्प्ले ऑन किए देख पाएंगे टाइम, डेट और बहुत कुछ

कैलिफॉर्निया में दर्ज लॉ सूट में आईफोन बनाने वाली कंपनी ने कहा कि स्टार्ट-अप फर्म Rivos ने गैरकानूनी तरीके से एक कोर्डनिटेड कैंपेन चलाया है, जिसमें एप्पल के कर्मचारियों को जॉब छोड़ने से पहले एप्पल के सीक्रेड और कॉन्फिडेंशियल डॉक्यूमेंट चोरी करने के लिए उकसाया जा रहा है। Also Read - Apple की नई पॉलिसी: 30 जून से बंद होगी ऐप डेवलपर्स की मनमानी, यूजर्स के हाथ में स्पेशल 'पावर'

चुराए कंपनी के सीक्रेट डॉक्यूमेंट्स

एप्पल द्वारा फाइल किए गए लॉ सूट के मुताबिक, भारतीय मूल का कैथामना एप्पल में सितंबर 2013 से लेकर अगस्त 2021 तक तकरीबन 8 साल कर्मचारी रह चुका है। एप्पल में अपने कार्यकाल के दौरान कैथामना एक CPU इंप्लीमेंटेशन इंजीनियर के पद पर काम कर रहा था, जो कंपनी के CPU डिजाइन और एप्पल के SoC (सिस्टम ऑन चिप) के डिजाइन को मैनेज कर रहा था। Also Read - Apple iPhone e-SIM Bug: iMessage और Facetime यूज करने में आ रही दिक्कत, लाखों यूजर्स परेशान

भारतीय मूल के कैथामना ने ओसमानिया यूनिवर्सिटी से ग्रेजुएशन किया है और एप्पल में CPU और SoC डिवीजन के अलावा डिजाइन एवं डेवलपमेंट प्रोपराइटरी के साथ-साथ ट्रे़ड सीक्रेट फिजिकल स्ट्रक्चर की भी देख-रेख करता था।

एप्पल द्वारा फाइल किए गए लॉ सूट के मुताबिक, कैथामना ने अगस्त 2021 में कंपनी छोड़ने से पहले एप्पल के कई सीक्रेट डॉक्यूमेंट्स कॉपी कर लिए, जिनमें सैकड़ों स्प्रेड शीट, प्रजेंटेशन और टेक्स्ट फाइल्स शामिल हैं। कैथामना ने ये सभी डॉक्यूमेंट्स एक एक्सटर्नल USB ड्राइव में टांसफर किए थे, जिसका नाम “APPLE_WORK_DOCS” था।

SoC डिजाइन की चोरी का आरोप

कैथामना के अलावा दूसरे आरोपी वेन ने एप्पल ट्रे़ड सीक्रेट फाइल्स को गैरकानूनी तरीके से एक्सेस किया था, जिनमें एप्पल के उस SoC का डिजाइन भी शामिल था, जो अब तक रिलीज नहीं हुआ है। कंपनी का आरोप है कि वेन ने कंपनी छोड़ने से पहले इस डिजाइन को कंपनी द्वारा इश्यू किए गए कम्प्यूटर के हार्ड ड्राइव में कॉपी किया था।

लॉ सूट के मुताबिक, एप्पल के पुराने कर्मचारियों द्वारा कंपनी के चुराए गए डॉक्यूमेंट्स काफी सेंसिटिव थे और कम्पीटिटर्स को फायदा पहुंचा रहे हैं।

इस लॉ सूट में शामिल होने वाले फर्म Rivos को मई 2021 में फाउंड किया गया था। कंपनी फुल स्टैक कम्प्यूटर सॉल्यूशन प्रदान करती है, जिसमें कस्टम डिजाइन कम्प्यूटर बेस्ड SoC भी शामिल है, जो एप्पल के ARM SoC को चुनौती दे सकता है।

एप्पल द्वारा फाइल किए गए लॉ सूट के मुताबिक, जून 2021 से अब तक 40 से ज्यादा एप्पल के पुराने कर्मचारियों ने Rivos ज्वॉइन किया है। Rivos लगातार एप्पल के इंजीनियर्स को टारगेट कर रहा है। कंपनी को आशंका है कि कई और कर्मचारी इस महीने नौकरी छोड़ने वाले हैं, जिनमें ज्यादातर डिजाइन इंजीनियर्स शामिल हैं, जो एप्पल के कटिंग एज प्रोपराइटरी डिजाइन करते हैं।

दुनियाभर की लेटेस्ट tech news और reviews के साथ best recharge, पॉप्युलर मोबाइल पर मिलने वाले एक्सक्लूसिव offers के लिए हमें फेसबुक, ट्विटर पर फॉलो करें। Also follow us on  Facebook Messenger for latest updates.

  • Published Date: May 5, 2022 11:19 AM IST



new arrivals in india