comscore क्या iPhone को हैक नहीं किया जा सकता? Apple iMessage की सिक्योरिटी को लेकर बड़ा दावा
News

क्या iPhone को हैक नहीं किया जा सकता? Apple iMessage की सिक्योरिटी को लेकर बड़ा दावा

क्या Apple iPhone को हैक किया जा सकता है? इस सवाल का जवाब हाल में आई एक रिपोर्ट से मिला है। Pegasus Spyware के मामले में Apple iMessage को लेकर बड़ा दावा किया गया है। आइए जानते हैं क्या है पूरा मामला।

iphone-11-pro

Apple iPhone क्या सच में उतने सिक्योर हैं, जितने का दावा कंपनी करती है? मीडिया आउटलेट्स और Amnesty International की रिपोर्ट्स की मानें तो आईफोन शायद उस हद तक सिक्योर नहीं है। सिटजन लैब के सीनियर रिसर्च फेलो Bill Marczak ने रविवार को बताया, ‘एप्पल के आईमैसेज के साथ सिक्योरिटी की बड़ी समस्या है।’ हैकर्स कथित रूप से रिमोटली इसे एक्सेस कर सकते हैं और इसके डेटा को कॉपी भी कर सकते हैं। हाल में पेगासस स्पाईवेयर को लेकर हुए खुलासे में यह बात सामने आई है। Also Read - Apple ने सबको पछाड़ नंबर-1 पर किया कब्जा, जानें Samsung और Xiaomi का क्या हुआ हाल?

NSO ग्रुप द्वारा डेवलप किया गया यह स्पाईवेयर 37 मीडियाकर्मी और एक्जीक्यूटिव्स के डेटा को एक्सेस करने में सामने आया है। इस सॉफ्टवेयर का इस्तेमाल विभिन्न सरकारें भी कर रही हैं। रिपोर्ट्स की मानें तो यह एक मिलिट्री-ग्रेड की हैकिंग सर्विस है। इस स्पाईवेयर की मदद से हैकर्स जीरो क्लिक टेक्स्ट मैसेज के जरिए यूजर के फोन को प्रभावित कर सकते हैं। यानी यूजर्स को किसी फिशिंग मैसेज को क्लिक करने की जरूरत नहीं है, सिर्फ टेक्स्ट मैसेज के फोन में पहुंच जाने भर से उसे हैक किया जा सकता है। Also Read - Apple और Samsung 2022 में बना सकते हैं 37 हजार करोड़ रुपये के स्मार्टफोन, PLI स्कीम के तहत होगा काम

कितना सिक्योर है iPhone

रिपोर्ट्स की मानें तो आईफोन के लेटेस्ट फर्मवेयर और हार्डवेयर भी इसके प्रभाव से बच नहीं सके हैं। Amnesty International की रिपोर्ट की मानें तो iOS 14.6 पर काम कर रहे iPhone के भी हैक होने की संभावना है। इस रिपोर्ट की पुष्टि सिटीजन लैब ने की है। Bill Marczak ने बताया, ‘इन सभी संकेतों से साफ है कि NSO ग्रुप लेटेस्ट आईफोन में भी सेंधमारी कर सकते हैं।’ Also Read - iPhone SE 2022 का नाम होगा iPhone SE+, अगले साल आएगा नई डिजाइन वाला iPhone SE 3

ऐसा एक मामला वाशिंग्टन पोस्ट के रिपोर्टर जमाल खशोगी का है। बता दें कि जमाल खशोगी की हत्या 2 अक्टूबर 2018 को की गई थी। उनकी मंगेतर Hatice Cengiz की आईफोन को अक्टूबर 2018 में कई बार हैक किया गया था। इसके बाद उन्होंने वाशिंग्टन पोस्ट की रिपोर्ट से पूछा था कि आखिर लोग ऐसा क्यों कहते हैं कि iPhone ज्यादा सुरक्षित फोन है, जिसे कोई हैक नहीं कर सकता है।

क्या है Apple का कहना?

इस मामले में एप्पल की ओर से जारी बयान में कहा गया है, ‘Apple पत्रकारों, मानवाधिकार कार्यकर्ताओं और दुनिया को एक बेहतर जगह बनाने की कोशिश करने वाले अन्य लोगों के खिलाफ साइबर हमले की स्पष्ट रूप से निंदा करता है। एक दशक से अधिक समय से, Apple ने इंडस्ट्री में सिक्योरिटी इनोवेशन का नेतृत्व किया है और इसके परिणाम स्वरूप, सिक्योरिटी रिसर्चर्स इस बात से सहमत हैं कि iPhone बाजार पर सबसे सुरक्षित कंज्यूमर मोबाइल डिवाइस है।’

एप्पल ने कहा, ‘ऐसे हमले बेहद जटिल होते हैं और इन्हें विकसित करने में लाखों डॉलर खर्च होते हैं। अक्सर इनकी लाइफ भी बहुत कम होती है और इनका इस्तेमाल विशेष लोगों को टार्गेट करने के लिए किया जाता है। इसका मतलब है कि ऐसे स्पाईवेयर हमारे अधिकांश यूजर्स के लिए खतरा नहीं हैं। हालांकि, हम अपने सभी ग्राहकों की रक्षा के लिए अथक प्रयास करते रहेंगे और हम उनके डिवाइस और डेटा के लिए लगातार नए प्रोटेक्शन जोड़ते रहेंगे।’

दुनियाभर की लेटेस्ट tech news और reviews के साथ best recharge, पॉप्युलर मोबाइल पर मिलने वाले एक्सक्लूसिव offers के लिए हमें फेसबुक, ट्विटर पर फॉलो करें। Also follow us on  Facebook Messenger for latest updates.

  • Published Date: July 20, 2021 11:18 AM IST



new arrivals in india

Best Sellers