comscore Apple को इस गलती के लिए देने होंगे करोड़ों डॉलर | BGR India Hindi
News

महंगा पड़ा आईफोन का अपडेट, इस गलती के लिए Apple को देने होंगे करोड़ों डॉलर

एप्पल एक मुकदमे को सेटल करने के लिए 50 करोड़ डॉलर (लगभग 3644.63 करोड़ रुपये) देने को तैयार हो गई है। कंपनी पर पुराने आईफोन को स्लो करने का (स्पीड कम करने) का आरोप लगा था।

apple-iphone-11-pro-first-impressions-bgr-3

एप्पल (Apple) एक मुकदमे को सेटल करने के लिए 50 करोड़ डॉलर (लगभग 3644.63 करोड़ रुपये) देने को तैयार हो गई है। कंपनी पर पुराने आईफोन को स्लो करने का (स्पीड कम करने) का आरोप लगा था। कंपनी ने नए मॉडल लॉन्च होने के बाद पुराने आईफोन की स्पीड कम कर दी थी, जिससे उपभोक्ता नया फोन या फिर बैटरी रिप्लेस कराने को मजबूर हो जाएं। इस मामले में शुरुआती क्लास एक्शन सेटलमेंट पिछले हफ्ते बंद हो गया है और अब इसके लिए यूएस डिस्ट्रिक्ट जज एडवर्ड डविला की मंजूरी की आवश्यकता होगी। Also Read - एप्पल (Apple) ने मेक के लिए स्विफ्ट प्लेग्राउंड एप को लॉन्च किया

एप्पल को प्रत्येक प्रभावित ग्राहकों को 25 डॉलर देने के लिए कहा गया, जिसमें लगभग 31 करोड़ डॉलर देने होंगे। कंपनी को ये राशि प्रभावित हुए ग्राहकों को देनी होगी। एप्पल ने किसी भी गलत कार्य से इनकार किया है और इस मामले को रफादफा करने के लिए तैयार है। हालांकि सोमवार तक कंपनी ने इस संबंध में कोई टिप्पणी नहीं की है। कोर्ट में दायर काजगों के मुताबिक मीडिया रिपोर्ट्स में बताया गया है कि कंपनी इस मामले से बाहर निकलना चाहती है। Also Read - नोवेल कोरोनावायरस (Novel Coronavirus) से एप्पल के बिजनेस पर भी पड़ेगा असर!

क्या है Apple की इस हार का मामला

पिछले हफ्ते हुए इस सेटलमेंट में अमेरिकी iPhone 6, iPhone 6 Plus, iPhone 6s, iPhone 6s Plus, iPhone 7, iPhone 7Plus और iPhone SE ग्राहक शामिल हैं। जिन यूजर्स के आईफोन आईओएस 10.2.1 या इसके बाद के ऑपरेटिंग सिस्टम पर काम करते हैं। इसमें अमेरिकी आईफोन 7 और आईफोन 7 प्लस उपभोक्ता भी शामिल हैं, जिनका फोन आईओएस 11.2 पर या इसके बाद के ओएस पर काम करता है। Also Read - 'iPhone SE2' मॉडल्स को 2020 में लॉन्च करेगा एप्पल!

ग्राहकों ने आरोप लगाया था कि उनके फोन की परफॉर्मेंस प्रभावित हुई है। नए एप्पल सॉफ्टवेयर अपडेट को डाउनलोड करने के बाद उनका फोन स्लो हो गया है। उन्होंने आरोप लगाया है कि कंपनी ने उन्हें ऐसा महसूस कराया है कि उनके फोन की लाइफ खत्म हो गई है। जिसके बाद या तो उन्हें नया फोन लेना होगा या फिर नई बैटरी। एप्पल ने इस समस्या के पीछे तापमान में बदलाव, ज्यादा इस्तेमाल और अन्य समस्याओं को कारण बताया है। उसने बताया कि उसके इंजीनियर्स को इस पर तेजी से काम किया और उन्हें इस मामले की जानकारी दी। कंपनी को प्रत्येक ग्राहक को भुगतान के अतिरिक्त 9.3 करोड़ डॉलर, 31 करोड़ डॉलर का लगभग 30 फीसदी हिस्सा, लीगल फीस और 15 लाख डॉलर खर्च के लिए देने पड़ेंगे।

दुनियाभर की लेटेस्ट tech news और reviews के साथ best recharge, पॉप्युलर मोबाइल पर मिलने वाले एक्सक्लूसिव offers के लिए हमें फेसबुक, ट्विटर पर फॉलो करें।

  • Published Date: March 3, 2020 12:23 PM IST



new arrivals in india

Best Sellers