comscore 35 डॉलर में Aakash टैबलेट बनाने वाली DataWind ने भारत में दो प्रॉडक्शन फैसिलिटी को किया बंद, जानें क्या है कारण | BGR India
News

35 डॉलर में Aakash टैबलेट बनाने वाली DataWind ने भारत में दो प्रॉडक्शन फैसिलिटी को किया बंद, जानें क्या है कारण

सस्ते एंड्रॉइड बेस्ड टैबलेट (Aakash) बनाने वाली कंपनी DataWind ने अमृतसर और हैदराबाद में अपनी प्रॉडक्शन फैसिलिटी को बंद कर दिया है। कंपनी ने 35 डॉलर (लगभग 2400 रुपये) में टैबलेट को लॉन्च करके भारत समेत पूरी दुनिया में काफी सुर्खिया बंटोरी थी। कंपनी के ये सभी टैबलेट Make in India थे और इन्हें भारत में ही तैयार किया गया था।

Aakash-tablet

दुनिया के सबसे सस्ते एंड्रॉइड बेस्ड टैबलेट (Aakash) बनाने वाली कंपनी DataWind ने अमृतसर और हैदराबाद में अपनी प्रॉडक्शन फैसिलिटी को बंद कर दिया है। दरअसल कंपनी को डीमॉनिटाइजेशन (नोटबंदी) के बाद फाइनेंशिलय क्राइसिस का सामना करना पड़ा था, जिसके बाद कंपनी अपने बिजनेस को समेटने में लगी हुई है। ET Telecom की एक रिपोर्ट से इस बात का खुलासा हुआ है। रिपोर्ट के मुताबिक कंपनी (DataWind) ने अमृतसर और हैदराबाद में मौजूद दोनों असेंबली यूनिट को बंद कर दिया है। इंडस्ट्री सोर्सज के मुताबिक ये दोनों असेंबली यूनिट निवेश के बाद डीमॉनिटाइजेशन और जीएसटी के बाद इनवेस्टमेंट रिटर्न देने में असफल हुई हैं, जिसके बाद कंपनी ने यह फैसला किया है।
कंपनी ने 35 डॉलर (लगभग 2400 रुपये) में टैबलेट को लॉन्च करके भारत समेत पूरी दुनिया में काफी सुर्खिया बंटोरी थी। कंपनी ने अपने टैबलेट को मास कवरजे के तौर पर तैयार किया था और कंपनी ने इस स्ट्रैटजी में सफलता भी हासिल की थी। कंपनी के ये सभी टैबलेट Make in India थे और इन्हें भारत में ही तैयार किया गया था।

कंपनी का हमेशा से कहना था कि उसका टारगेट ऑडियंस देश की जनसंख्या के पिरामिड का निचला हिस्सा है। कंपनी को नोटबंदी और जीएसटी के बाद फाइनेंशियल क्राइसिस का सामना करना पड़ रहा था और इसके बाद ही कंपनी ने यह फैसला लिया है। कंपनी के एक लीडर ने एक बयान में कहा था कि नोटबंदी और जीएसटी का असर देश के गरीब तबके को हुआ था, जिसके कारण कंपनी को नुकसान उठाना पड़ा रहा है।

2017 में ब्रिटिशन कनाडियन कंपनी ने हैदराबाद में अपने प्रॉडक्शन को आधा कर दिया था और कंपनी ने दो फैसिलिटी में अपने प्रॉडक्शन को पूरी तरह बंद कर दिया है। ऐसी खबर है कि इसके जरिए 1,000 लोगों को अपनी नौकरियां गंवानी पड़ी है।

  • Published Date: May 9, 2019 4:43 PM IST