comscore Crypto Trading volume declines up to 72 percent in India days after new Crypto Tax - Crypto Tax लागू होते ही ठंडे पड़े ट्रेडर्स, भारत में 72% तक घटी क्रिप्टो ट्रेडिंग
News

Crypto Tax लागू होते ही ठंडे पड़े ट्रेडर्स, भारत में 72% तक घटी क्रिप्टो ट्रेडिंग

Crypto Tax के लागू होने के बाद, WazirX, ZebPay, CoinDCX और BitBnS पर ट्रेडिंग वॉल्यूम क्रमशः 72 प्रतिशत, 59 प्रतिशत, 52 प्रतिशत और 41 प्रतिशत घटी हैं।

Crypto-Trading-India-Crypto-Tax

(Image: Pixabay)



भारत के नए क्रिप्टोकरेंसी टैक्स नियम इस महीने (1 अप्रैल 2022) से लागू हो गए हैं। इसके साथ ही देश में क्रिप्टोकरेंसी ट्रेडिंग की वॉल्यूम में काफी गिरावट आई है। रिसर्च फर्म Crebaco के मुताबिक, CoinDCX और WazirX सहित देश के लगभग सभी क्रिप्टो एक्सचेंज पर क्रिप्टो ट्रेडिंग वॉल्यूम घट गई है। Also Read - Bitcoin की वैल्यू में एक बार फिर हुई बड़ी गिरावट, कीमत जानकर हैरान रह जाएंगे आप

नए कानून के तहत, क्रिप्टो ट्रेडिंग वाले करने वाले यूजर्स को मुनाफे का 30 प्रतिशत टैक्स के रूप में चुकाना होगा। इसके साथ ही एक वर्चुअल डिजिटल एसेट के ट्रांसफर पर होने वाले नुकसान की भरपाई दूसरे एसेट पर मिलने वाले फायदे से नहीं कर सकते। Also Read - Apex Legends Mobile कर बैठा गलती, वक्त से पहले जोड़ दिया Crypto लेजेंड

Crypto Tax के बाद कम हुई ट्रेडिंग

रिपोर्ट के मुताबिक WazirX, ZebPay, CoinDCX और BitBnS पर ट्रेडिंग वॉल्यूम क्रमशः 72 प्रतिशत, 59 प्रतिशत, 52 प्रतिशत और 41 प्रतिशत घटी हैं। Crebaco के सीईओ और फाउंडर Sidharth Sogani का मानना है कि सरकार के नए क्रिप्टो टैक्स की वजह यह वॉल्यूम और भी नीचे जा सकती है। Also Read - Top 5 Stable Coins: Tether (USDT) से TrueUSD (TUSD) तक टॉप 5 स्टेबल Cryptocurrency, जिनकी कीमत रहती है डॉलर के बराबर

Coindesk ने Sogani के हवाल से लिखा, “1, 2 और 3 अप्रैल को छुट्टियों के दिन थे। इसके बाद से वॉल्यूम लगातार गिर रही है। यह और नीचे जा सकती है, लेकिन इसके दोबारा बढ़ने की संभावना कम है।” इन्होंने आगे कहा:

“यह स्पष्ट है कि नए टैक्स ने मार्केट पर नकारात्मक असर डाला है। सरकार को इस पर विचार करना चाहिए। चूंकि क्रिप्टो को रोकने का कोई तरीका नहीं है, इसलिए सरकार को टेक्नोलॉजी को स्वीकार करना चाहिए।”

भारत सरकार ने बजट 2022 में वर्चुअल डिजिटल एसेट के ट्रांसफर से होने वाली आय पर टैक्स लगाने की घोषणा की थी। इस दायरे में क्रिप्टो ट्रेडिंग और NFT की खरीद-फरोख्त शामिल है। अनाउंसमेंट के बाद से ही यह मुद्दा क्रिप्टो इंडस्ट्री से जुड़े लोगों के बीच विवाद का एक कारण बना हुआ है।

कुछ एक्सपर्ट्स और शेयर होल्डर्स ने सेगमेंट पर प्रतिबंध लगाने के बजाय रेगुलेट करने के सरकार के फैसले की तारीफ की है। मगर, कुछ अन्य का मानना है कि क्रिप्टो से मिलने वाले प्रॉफिट पर टैक्स की दर थोड़ी कम होनी चाहिए।

  • Published Date: April 12, 2022 6:19 PM IST

दुनियाभर की लेटेस्ट tech news और reviews के साथ best recharge, पॉप्युलर मोबाइल पर मिलने वाले एक्सक्लूसिव offers के लिए हमें फेसबुक, ट्विटर पर फॉलो करें। Also follow us on  Facebook Messenger for latest updates.