comscore Dark Web पर 10 करोड़ डेबिट-क्रेडिट कार्ड यूजर्स का डेटा लीक | BGR India Hindi
News

अलर्ट! 10 करोड़ से अधिक डेबिट-क्रेडिट कार्ड यूजर्स का डेटा लीक

Dark Web, Dark Web Credit Card: डार्क वेब पर 10 करोड़ से अधिक Credit Card और Debit Card यूजर्स का डेटा मौजूद है। इस डेटा को हैकर्स बेच रहे हैं।

credit-card

Representative Image



इंटरनेट के दुनिया में सबसे ज्यादा असुरक्षित किसी व्यक्ति का डेटा होता है। ऑनलाइन शॉपिंग से लेकर किसी दुकान पर की गई पेमेंट तक में यदि आप अपने कार्ड का इस्तेमाल करते हैं तो आपको सावधान रहने की आवश्यकता है। सिक्योरिटी रिसर्चर्स के मुताबिक डार्क वेब (Dark Web) पर 10 करोड़ से ज्यादा क्रेडिट (Credit Card) और डेबिट कार्ड (Debit Card) होल्डर्स का डेटा मौजूद है। Also Read - TikTok के 200 करोड़ से ज्यादा यूजर्स की डिटेल लीक, चुराई गई निजी जानकारियां

इसमें डेबिट और क्रेडिट कार्ड होल्डर्स के नाम, फोन नंबर और ई-मेल के साथ-साथ उनके कार्ड के शुरुआती चार और अंत के चार डिजिट की जानकारी भी है। यह जानकारी पेमेंट प्लेटफॉर्म Juspay से जुड़ी हुई है, जो भारतीय और ग्लोबल मर्चेंट्स के लिए ट्रांजेक्शन प्रॉसेस का काम करता है। इसमें Amazon, MakeMyTrip और Swiggy समेत अन्य मर्चेंट शामिल हैं। Also Read - EPFO के 28 करोड़ PF Account Holders का डाटा लीक! चेक करें कहीं आपका तो नहीं हुआ 'नुकसान'

डार्क वेब (Dark Web) पर मौजूद डेटा ऑनलाइन ट्रांजेक्शन से संबंधित है, जो मार्च 2017 से अगस्त 2020 के बीच किए गए हैं। इस डेटा में कई भारतीय कार्ड होल्डर्स की पर्सनल डीटेल मौजूद है, जिसमें कार्ड एक्सपायरी डेट, कस्टमर आईडी और मास्क्ड कार्ड नंबर उपलब्ध है। हालांकि पर्टिकुलर ट्रांजेक्शन या ऑर्डर की जानकारी लीक नहीं हुई है। इन डीटेल की मदद से यूजर्स को किसी फ्रॉड में फंसाया जा सकता है। Also Read - Amazon की पूर्व महिला इंजीनियर को कोर्ट ने 10 करोड़ यूजर्स का डेटा चोरी करने का पाया दोषी

Dark Web पर बिक रहा डेटा, बिटकॉइन में मांगी जा रही रकम

रिपोर्ट्स के मुताबिक हैकर्स टेलीग्राम पर खरीदारों से संपर्क कर रहे हैं और उनसे बिटकॉइन में पेमेंट की मांग कर रहे हैं। डार्क वेब (Dark Web) पर मौजूद डेटा Juspay के नाम से बेचा जा रहा है। हालांकि Juspay के फाउंडर विमल कुमार की मानें तो 18 अगस्त को अन-ऑथराइज्ड अटैम्ट देखा गया, जिसे प्रोग्रेस के दौरान ही टर्मिनेट कर दिया गया।

उन्होंने बताया है कि कार्ड नंबर, फाइनेंशियल क्रेडेंशियल या ट्रांजेक्शन डेटा के साथ कोई समझौता नहीं हुआ है। उन्होंने बताया कि नॉन सीक्रेट ईमेल, मोबाइल नंबर और मास्क्ड कार्ड की जानकारी ही लीक हुई है। उन्होंने बताया कि ईमेल और मोबाइल नंबर की जानकारी कुछ ही यूजर्स की लीक हुई है और ज्यादातर कंज्यूमर्स का मेटाडेटा है। सभी 10 करोड़ यूजर्स की कार्ड डीटेल लीक नहीं हुई है।

  • Published Date: January 5, 2021 5:30 PM IST

दुनियाभर की लेटेस्ट tech news और reviews के साथ best recharge, पॉप्युलर मोबाइल पर मिलने वाले एक्सक्लूसिव offers के लिए हमें फेसबुक, ट्विटर पर फॉलो करें। Also follow us on  Facebook Messenger for latest updates.