comscore बिक्री में गिरावट के बाद भी 2019 में टॉप लग्जरी वाहन विक्रेता रही मर्सिडीज-बेंज इंडिया | BGR India Hindi
News

बिक्री में गिरावट के बाद भी 2019 में टॉप लग्जरी वाहन विक्रेता रही मर्सिडीज-बेंज इंडिया

मर्सिडीज बेंज इंडिया ने दावा किया कि घरेलू लग्जरी वाहनों की श्रेणी में लगातार पांचवें साल वह सर्वाधिक वाहन बिक्री करने वाली कंपनी रही है। कंपनी ने 2019 में 13,786 वाहनों की बिक्री की। हालांकि, 2018 में कंपनी की कुल वाहन बिक्री 15,538 वाहनों की रही। इसके मुकाबले 2019 में उसकी बिक्री 11.3 प्रतिशत कम रही है।

mercedes-benz-stock-image-getty

मर्सिडीज बेंज इंडिया ने दावा किया कि घरेलू लग्जरी वाहनों की श्रेणी में लगातार पांचवें साल वह सर्वाधिक वाहन बिक्री करने वाली कंपनी रही है। कंपनी ने 2019 में 13,786 वाहनों की बिक्री की। हालांकि, 2018 में कंपनी की कुल वाहन बिक्री 15,538 वाहनों की रही। इसके मुकाबले 2019 में उसकी बिक्री 11.3 प्रतिशत कम रही है। कंपनी ने एक बयान में कहा कि दिसंबर तिमाही में उसकी बिक्री 3.3 प्रतिशत बढ़कर 3,781 इकाइयों पर पहुंच गई। कंपनी 28 जनवरी को नया मॉडल जीएलई पेश करने जा रही है। कंपनी ने कहा कि वह 2020 को लेकर सकारात्मक है और नये उत्पादों को पेश करने के मामले में वह सक्रिय रुख जारी रखने वाली है।


कंपनी ने कहा कि वह जल्दी ही भारत स्टेज छह उत्सर्जन मानकों को अपने सभी उत्पादों पर लागू करने वाली पहली लग्जरी कंपनी बन जाएगी। प्रतिस्पर्धी कंपनी बीएमडब्ल्यू की बिक्री 2019 में 13.8 प्रतिशत गिरकर 9,641 इकाइयों पर आ गयी। बीएमडब्ल्यू ने इससे पहले 2018 में 11,105 वाहनों की बिक्री की थी। इससे पहले लग्जरी कार निर्माता मर्सिडीज बेंज ने सरकार से आग्रह किया था कि वह पूरी तरह इलेक्ट्रिक वाहनों को लेकर हड़बड़ी नहीं करे और भावी पीढ़ियों के लिए बेहतर प्रौद्योगिकी विकल्पों पर विचार करे क्योंकि बाकी दुनिया इलेक्ट्रिसिटी नहीं बल्कि हाइड्रोजन पर जोर दे रही है। इसके साथ ही मर्सीडीज बेंज ने ई-कारों को प्रोत्साहित करने के लिए कम महत्वाकांक्षी योजना अपनाने का आह्वान किया है। उसका कहना है कि वाहन उद्योग का देशव्यापी विद्युतीकरण वाणिज्यिक व प्रौद्योगिकी रूप से व्यावहारिक नहीं है।

मर्सीडीज बेंज इंडिया के प्रबंध निदेशक रोलांद फोल्गर ने कहा, ‘‘2040 तक सारी दुनिया हाइड्रोजन कारें चला रही होगी। मेरे लिए तो देश भर में इलेक्ट्रिक वाहन चलाने का विचार हड़बड़ी भरा लगता है।’ उन्होंने कहा कि इससे भी महत्वपूर्ण यह है कि इस तरह की हड़बड़ी में हम भावी पीढ़ियों के लिए बेहतर प्रौद्योगिकी के विकल्पों को बंद कर रहे हैं। उल्लेखनीय है कि केंद्र सरकार चाहती है कि 2030 तक देश में केवल इ​लेक्ट्रिक वाहन ही बिकें। हालांकि सरकार की इस मंशा को आर्थिक व वाणिज्यिक रूप से अव्यावहारिक बताते हुए आलोचना की गई है।

INPUT: PTI

दुनियाभर की लेटेस्ट tech news और reviews के साथ best recharge, पॉप्युलर मोबाइल पर मिलने वाले एक्सक्लूसिव offers के लिए हमें फेसबुक, ट्विटर पर फॉलो करें।

  • Published Date: January 11, 2020 10:12 AM IST