comscore चीनी कंपनियों के खिलाफ एक्शन में सरकार, टेलीकॉम सेक्टर से किया 'आउट'
News

चीनी कंपनियों के खिलाफ एक्शन में सरकार, टेलीकॉम सेक्टर से किया 'आउट'

दूरसंचार विभाग (DoT) ने चीनी कंपनियों Huawei और ZTE के लिए भारतीय टेलीकॉम सेक्टर के दरवाजे हमेशा के लिए बंद कर दिए हैं। DoT के नए नियम के मुताबिक, टेलीकॉम ऑपरेटर्स को नेटवर्क अपग्रेडेशन और एक्सपेंशन के लिए केवल ट्रस्टेड वेंडर से ही इक्वीपमेंट्स लेने होंगे।

Telecom

DoT (Department of Telecom) ने टेलीकॉम लाइसेंस के नियमों को और सख्त कर दिया है। विभाग ने टेलीकॉम ऑपरेटर्स को यह निर्देश दिया है कि वो नेटवर्क अपग्रेडेशन और एक्सपेंशन के लिए केवल सर्टिफाइड और भरोसेमंद वेंडर्स के इक्वीपमेंट्स का ही इस्तेमाल करें। DoT ने कहा कि 15 जून 2021 से यह नियम लागू है कि केवल उन्हीं टेलीकॉम ऑपरेटर्स को मौजूदा नेटवर्क को अपग्रेड या एक्सपेंशन की अनुमति मिलेगी, जो ट्रस्टेड प्रोडक्ट्स इक्वीपमेंट के तौर पर यूज करेंगे। Also Read - बेहतर सपेक्स और डिजाइन के साथ लॉन्च हुआ Huawei Mate Xs 2 फोल्डेबल फोन, पिक्चर्स में देखें पहली झलक

दूरसंचार विभाग द्वारा लाया गया यह अमेंडमेंट प्रोकूरमेंट नियमों के लूपहोल को खत्म करना है, ताकि Huawei और ZTE जैसे चीनी वेंडर्स भारतीय टेलीकॉम सेक्टर में एंट्री न ले सके। इंडस्ट्री एक्जीक्यूटिव्स का मानना है कि दूरसंचार विभाग के इस फैसले से चीनी वेंडर्स नेटवर्क अपग्रेडेशन के साथ-साथ एक्सपेंशन से भी दूर रहेंगे। Also Read - Huawei ला रहा जबरदस्त टेक्नोलॉजी, 5 मिनट में इलेक्ट्रिक गाड़ियां होंगी चार्ज!

शिकायत के बाद लिया फैसला

रिपोर्ट्स के मुताबिक, दूरसंचार विभाग को यह शिकायत मिली थी कि कुछ टेलीकॉम ऑपरेटर्स ने नेटवर्क एक्सपेंशन और अपग्रेडेशन के लिए इन दोनों चीनी कंपनियों Huawei और ZTE को कॉन्ट्रैक्ट दिए थे, जो लाइसेंस की शर्त्तों में शामिल नहीं थे। Also Read - Huawei ने लॉन्च किया Smart School Bag, बच्चों की एक्टिविटी कर सकेंगे ट्रैक

दूरसंचार विभाग यानी DoT के इस फैसले के बाद टेलीकॉम ऑपरेटर्स नेटवर्क अपग्रेडेशन के लिए हार्डवेयर केवल भरोसेमंद वेंडर्स यानी ट्रस्टेड वेंडर्स से ही ले सकेंगे। हालांकि, ये टेलीकॉम कंपनियां सॉफ्टवेयर अपग्रेडेशन के लिए थर्ड पार्टी वेंडर्स का सहारा ले सकते हैं।

पुराने AMC पर नियम नहीं होगा लागू

सरकार ने कहा है कि नियमों में हुए इस बदलाव से पहले से चले आ रहे AMC यानी एनुअल मेंटेनेंस कॉन्ट्रैक्ट्स प्रभावित नहीं होंगे। यह नियम 15 जून 2021 से प्रभावी होगा। इसके बाद नेटवर्क ऑपरेटर्स और टेलीकॉम सर्विस प्रोवाइडर्स केवल भरोसेमंद वेंडर्स से ही नेटवर्क अपग्रेडेशन और एक्सपेंशन के लिए इक्वीपमेंट खरीद सकेंगे।

DoT के इस नियम को आसान भाषा में समझा जाए तो अगर कोई टेलीकॉम कंपनी Huawei का राउटर यूज कर रही है, तो उसके खराब होने पर वो Huawei के दूसरे राउटर से उसे बदला जा सकेगा, लेकिन टेलीकॉम कंपनी Huawei के किसी नए राउटर को नेटवर्क एक्सपेंशन और अपग्रेडेशन के लिए यूज नहीं कर सकेगी यानी किसी नए जगह पर इसे यूज नहीं कर सकेगी।

टेलीकॉम कंपनियां जिन वेंडर्स के इक्वीपमेंट्स नेटवर्क अपग्रेड करने के लिए यूज करेगी, उनके पास ट्रस्टेड सोर्स टैग का होना जरूरी है। DoT का यह फैसला भारत के नए सिक्योरिटी डायरेक्टिव को ध्यान में रखकर लिया गया है।

दुनियाभर की लेटेस्ट tech news और reviews के साथ best recharge, पॉप्युलर मोबाइल पर मिलने वाले एक्सक्लूसिव offers के लिए हमें फेसबुक, ट्विटर पर फॉलो करें। Also follow us on  Facebook Messenger for latest updates.

  • Published Date: July 13, 2022 11:45 AM IST



new arrivals in india