comscore थाईलैंड: गुफा में फंसे लड़कों को निकालने के लिए मस्क भेजेंगे पनडुब्बी | BGR India
News

थाईलैंड: गुफा में फंसे लड़कों को निकालने के लिए मस्क भेजेंगे पनडुब्बी

अमेरिकी उद्यमी एलन मस्क ने थाईलैंड की गुफा में फंसे लड़कों को सुरक्षित निकालने के लिए एक छोटी पनडुब्बी भेजने का प्रस्ताव दिया है।

  • Updated: February 15, 2022 5:13 PM IST
elon-musk-stock-getty

अमेरिकी उद्यमी एलन मस्क ने थाईलैंड की गुफा में फंसे लड़कों को सुरक्षित निकालने के लिए एक छोटी पनडुब्बी भेजने का प्रस्ताव दिया है। उन्होंने यह प्रस्ताव सोशल मीडिया पर दिया है।लड़कों तक पहुंचने के लिए गुफा के भीतर एक विशाल हवाई ट्यूब लगाने और रेडार के जरिए छेद करने के शुरूआती विचारों से सुर्खियों में छाए रहने के बाद मस्क ने अब पॉड का आइडिया दिया है। Also Read - Twitter पर Elon Musk ने बनाया एक 'अनोखा' रिकॉर्ड, बराक ओबामा और क्रिस्टियानो रोनाल्डो की लिस्ट में हुए शामिल

Also Read - Elon Musk की Twitter डील को बोर्ड ने दी हरी झंडी, लेकिन अभी बाकी हैं '3 मुश्किल'

Also Read - Elon Musk ने Twitter खरीदा तो कंपनी में हो सकती है छंटनी, जानें मीटिंग में हुई क्या बात

मस्क ने ट्वीट कर कहा कि मुख्य रास्ता संकरा होने के चलते छोटी आकार की पनडुब्बी तैयार की गई है जो फाल्कन रॉकेट के तरल ऑक्सीजन स्थानांतरण ट्यूब से संचालित होगी। उन्होंने कहा , “ यह इतनी हल्की है कि दो गोताखोर इसे अपने साथ ले जा सकते हैं और इतनी छोटी है कि संकरे रास्तों से भी गुजर सकती है। यह बेहद मजबूत है। ”

गौरतलब है कि यह सभी बच्चे एक मैच पूरा होने के बाद गुफा में घूमने गए थे। ये सभी अंडर-16 फुटबॉल टीम के खिलाड़ी हैं, जिनकी उम्र 11 से 16 साल के बीच है। बच्चे जिस गुफा में मौजूद हैं वह 10 किलोमीटर लंबी है बारिश के मौसम में ये गुफा जुलाई से नवंबर के बीच बंद कर दी जाती है. बताया जा रहा है कि जिस वक्त बच्चे और उनके कोच गुफा में गए थे, उस वक्त वहां पर बारिश होने लगी, जिसके कारण वह वहां पर फंस गए।

दुनियाभर की लेटेस्ट tech news और reviews के साथ best recharge, पॉप्युलर मोबाइल पर मिलने वाले एक्सक्लूसिव offers के लिए हमें फेसबुक, ट्विटर पर फॉलो करें। Also follow us on  Facebook Messenger for latest updates.

  • Published Date: July 9, 2018 5:32 PM IST
  • Updated Date: February 15, 2022 5:13 PM IST



new arrivals in india