comscore भारत तक पहुंची फेसबुक डाटा लीक की आंच, 5.62 लाख के प्रभावित होने की आशंका | BGR India
News

भारत तक पहुंची फेसबुक डाटा लीक की आंच, 5.62 लाख के प्रभावित होने की आशंका

फेसबुक ने कल स्वीकार किया था कि लगभग 8.7 करोड़ लोगों से जुड़ी जानकारी कैंब्रिज एनालिटिका के साथ अनुचित तरीके से साझी की गई।

  • Updated: February 15, 2022 5:04 PM IST
facebook-login-stock-image


जैसी की आशंका थी फेसबुक के डेटा लीक घोटाले की आंच भारत तक पहुंच गई है जहां करोड़ों लोग इस सोशल मीडिया मंच का इस्तेमाल करते हैं। भारत में फेसबुक से जुड़े साढ़े पांच लाख से अधिक उपयोक्ताओं से जुड़ी जानकारी लीक होने की आशंका है। हालांकि सीधे तौर पर प्रभावित उपयोक्ताओं की संख्या काफी कम है। Also Read - कब है आपका बर्थडे? फेसबुक से किसी को नहीं चलेगा पता, इस तरह छिपा सकते हैं आप

Also Read - Facebook, Instagram और WhatsApp के सब्सक्रिप्शन सर्विस की तैयारी, Meta कर रहा बड़ी प्लानिंग

इस बीच फेसबुक ने कहा है कि भारत में इस साल होने वाले चुनाव उसके लिए बहुत महत्वपूर्ण है और वह अपनी सुरक्षा को चाकचौबंद करने पर काम कर रही है। फेसबुक ने आज कहा कि कैंब्रिज एना​​लिटिका से जुड़े डेटा लीक प्रकरण से भारत में5.62 लाख लोगों के संभावित प्रभावित होने की आशंका है। Also Read - Facebook-Instagram ने हटाए 2.7 करोड़ पोस्ट, नग्नता और स्पैम कॉन्टेन्ट की थी भरमार

कंपनी के प्रवक्ता ने कहा कि इस मामले में भारत में335 लोग एप इंस्टाल करने के कारण सीधे तौर पर प्रभावित हुए हैं। इन335 लोगों के दोस्तों के रूप में5,62,120 अन्य लोगों के प्रभावित होने की आशंका है।

फेसबुक के प्रवक्ता ने कहा, ‘ इस तरह से भारत में कुल मिलाकर5,62,455 संभावित प्रभावित उपयोक्ता हैं जो कि वैश्विक स्तर पर संभावित प्रभावितों का0.6 प्रतिशत है।’

कंपनी का कहना है कि वह जांच कर रही है कि किन उपयोक्ताओं से जुड़ी जानकारी लीक हुई। देश में फेसबुक के20 करोड़ से अधिक उपयोक्ता हैं। भारत सरकार ने पिछले महीने डेटा लीक के इस मुद्दे में फेसबुक व कैंब्रिज एनालिटिका को नोटिस जारी किया था।

डेटा विश्लेषण करने वाली फर्म कैंब्रिज एनालिटिका पर आरोप है कि उसने फेसबुक के करोड़ों उपयोक्ताओं की व्यक्तिगत जानकारी हासिल की और इसका अवैध रूप से इस्तेमाल कई देशों में चुनावों को प्रभावित करने के लिए किया।

फेसबुक ने कल स्वीकार किया था कि लगभग 8.7 करोड़ लोगों से जुड़ी जानकारी कैंब्रिज एनालिटिका के साथ अनुचित तरीके से साझी की गई। इनमें से ज्यादातर लोग अमेरिका के हैं।

फेसबुक से जुड़े उपयोक्ताओं की जानकारी तीसरे पक्षों को लीक किए जाने के इस घोटाले से हाल ही मेंसोशल मीडिया कंपनी की खूब किरकिरी हुई है। कंपनी को सार्वजनिक रूप से माफी मांगनी पड़ी है।

भारत में आईटी मंत्री रविशंकर प्रसाद ने ​भी पिछले महीने फेसबुक को कड़ी कार्रवाई की चेतावनी दी थी। उल्लेखनीय है कि फेसबुक के सीईओ मार्क जुकरबर्ग ने कल स्वीकार किया कि8.7 करोड़ उपयोक्ताओं की जानकारी अनुचित रूप से कैंब्रिज एनालिटिका के साथ साझा की गई। जुकरबर्ग ने इस बड़ी गलती माना। अब तक यह माना जा रहा था कि पांच करोड़ फेसबुक उपयोक्ताओं से जुड़ी जानकारी लीक हुई है।

इसके साथ ही कंपनी ने कहा है कि इस साल भारत सहितकई देशों में होने वाले चुनाव उसके लिए बहुत महत्वपूर्ण है तथा वह भ्रामक सूचनाओं पर लगाम लगाने के लिए कमर कस रही है।

जुकरबर्ग ने कल संवाददाताओं से कहा, ‘ अमेरिका में अलबामा में पिछले साल हुए विशेष चुनाव में हमने मनमर्जी की सूचना फैलाने वाले ट्रोल को पकड़ने के लिए कुछ नये कृत्रिम मेधा( एआई) टूल सफलतापूर्वक लागू किए। इस समय हमारे15,000 लोग सुरक्षा व सामग्री समीक्षा पर काम क रहे हैं और यह संख्या इस साल के आखिर तक20,000 से अधिक होगी।’

जुकरबर्ग ने कहा, ‘ अमेरिका के साथ साथ भारत, ब्राजील, पाकिस्तान व हंगरी सहित अनेक देशों में होने वाले चुनावों के मद्देनजर हमारे लिए यह साल महत्वपूर्ण है। हमारे लिए यह काफी महत्वपूर्ण होगा।’

उल्लेखनीय है कि भारत में इस साल कर्नाटक, मध्य प्रदेश, राजस्थान व छत्तीसगढ़ मेंविधानसभा चुनाव होने हैं। आम चुनाव भी अगले साल होने हैं।

  • Published Date: April 6, 2018 1:56 PM IST
  • Updated Date: February 15, 2022 5:04 PM IST

दुनियाभर की लेटेस्ट tech news और reviews के साथ best recharge, पॉप्युलर मोबाइल पर मिलने वाले एक्सक्लूसिव offers के लिए हमें फेसबुक, ट्विटर पर फॉलो करें। Also follow us on  Facebook Messenger for latest updates.