comscore Google ने महान दर्शनिक एलेना कोरनारो को याद कर बनाया डूडल, जानें कौन हैं एलेना | BGR India
News

Google ने महान दर्शनिक एलेना कोरनारो को याद कर बनाया डूडल, जानें कौन हैं एलेना

एलेना कोरनारो पिस्कोपिया पीएचडी की डिग्री हासिल करने वाली दुनिया की पहली महिला हैं। एर्लोना एलेना का जन्म आज के ही दिन साल 1646 में इटली के वेनिस में हुआ था।

google

Google Doodle : Elena Cornaro Piscopia


सर्च इंजन Google ने आज यानी 5 जून को इटली की महान दर्शनिक और थेअलोजियन (धर्मशास्त्र) एलेना कोरनारो पिस्कोपिया की 373वीं जयंती मना रहा है। एलेना कोरनारो पिस्कोपिया पीएचडी की डिग्री हासिल करने वाली दुनिया की पहली महिला हैं।एलेना का जन्म आज के ही दिन साल 1646 में इटली के वेनिस में हुआ था। उनके पिता का नाम जियानबेटिस्ता कॉर्नारो और माता का नाम जानेटा बोनी था।

एलेना जब मात्र सात वर्ष की थी, तब ही उनके घरवालों ने उनकी प्रतिभा को पहचान लिया था। एलेना के एक पारिवारिक मित्र ने उन्हें ग्रीक और लैटिन भाषा का अध्ययन करवाया। इसके साथ ही एलेना को हार्पसीकोर्ड, क्लैविकॉर्ड, वीणा और वायलिन के साथ-साथ हिब्रू, स्पेनिश, फ्रेंच और अरबी में भी महारत हासिल थी। एलेना ने गणित और खगोल विज्ञान जैसे विषयों का भी अध्ययन किया था, लेकिन उनकी सबसे ज्यादा रुचि दर्शन और धर्मशास्त्र में थी।

विनीशियन सोसाइटी एकेडेमिया डे पैसिफिक की प्रेजिडेंट बनने के बाद, उन्होंने 1672 में पडुआ यूनिवर्सिटी में दाखिला लिया था। उन्हें यहां अध्ययन करने की अनुमति दी गई थी, लेकिन डॉक्टरेट के लिए ऐलेना का आवेदन को अस्वीकार कर दिया गया था, क्योंकि चर्च के अधिकारी एक महिला को टाइटल नहीं देना चाहते थे। अपने पिता के समर्थन के बाद एलेना ने डॉक्टरेट ऑफ फिलॉसफी के लिए आवेदन किया। साल 1678 में उनकी मौखिक परीक्षा ने इतनी आकर्षित करने वाली थी कि इस समारोह में इटली के सभी विश्वविद्यालय से मेहमान, छात्र, प्रोफेसर, सीनटरों को आमंत्रित किया गया था।

एलेना ने इस समारोह में लैटिन भाषा में अरस्तू के कठिन विचारों का आसानी से समझाकर और अपनी वाक् पटुता से इस समारोह में शामिल सभी लोगों को प्रभावित कर दिया। उनके मुल्यांकन के लिए आई समिति ने उनका मुल्यांकन सीकरेट बैलट से करना था लेकिन उन्हें भरी सभा में उन्हें रिजल्ट बता दिया।

इसके बाद उनके सर पर लॉरेल का ताज और अंगूली में सोने की अंगूठी, हाथ में दर्शनशात्र की किताब और कंधे पर अरमाइन केप पहना कर सम्मानित किया गया। इस तरह 32 साल की उम्र में एलेना डॉक्टरेट की डिग्री लेने वाली पहली महिला बन गई, जिसने महिलाओं के लिए उच्च शिक्षा के रास्ते खोल दिए।

दुनियाभर की लेटेस्ट tech news और reviews के साथ best recharge, पॉप्युलर मोबाइल पर मिलने वाले एक्सक्लूसिव offers के लिए हमें फेसबुक, ट्विटर पर फॉलो करें।

  • Published Date: June 5, 2019 9:22 AM IST