comscore Google Doodle ISRO Founder Vikaram Sarabhai 100th Birthday
News

Google Doodle : इसरो की नींव रखने वाले महान भारतीय वैज्ञानिक विक्रम साराभाई को गूगल ने यूं किया याद

Google Doodle :  आज भारतीय वैज्ञानिक विक्रम साराभाई की सौवीं सालगिरह (ISRO Founder Vikaram Sarabhai 100th Birthday) है। इस मौके पर सर्च इंच गूगल ने अपना डूडल उन्हें समर्पित किया है। विक्रम साराभाई (Vikaram Sarabhai) का जन्म 12 अगस्त 1919 को अहमदाबाद में हुआ था। भारतीय अंतरिक्ष एजेंसी ISRO (इंडियन स्पेस रिसर्च ऑर्गनाइजेशन) के अभियानों की सफलता न सिर्फ भारतीय बल्कि विश्व की सुर्खियों पर रहती है। इस संगठन को दिशा और नींव महान वैज्ञानिक विक्रम साराभाई ने ही रखी थी।

Vikram Sarabhai Google Doodle

Google Doodle :  आज भारतीय वैज्ञानिक विक्रम साराभाई की सौवीं सालगिरह (ISRO Founder Vikaram Sarabhai 100th Birthday) है। इस मौके पर सर्च इंच गूगल ने अपना डूडल उन्हें समर्पित किया है। विक्रम साराभाई (Vikaram Sarabhai) का जन्म 12 अगस्त 1919 को अहमदाबाद में हुआ था। भारतीय अंतरिक्ष एजेंसी ISRO (इंडियन स्पेस रिसर्च ऑर्गनाइजेशन) के अभियानों की सफलता न सिर्फ भारतीय बल्कि विश्व की सुर्खियों पर रहती है। इस संगठन को दिशा और नींव महान वैज्ञानिक विक्रम साराभाई ने ही रखी थी। बता दें कि भारत ने कुछ ही हफ्तों पहले अपने चंद्रयान 2 को लॉन्च किया है। कहा जाता है कि भारत के मून मिशन (चंद्र अभियान) की नींव विक्रम साराभाई ने ही रखी थी। उन्होंने साल 1969 को 15 अगस्त  के दिन इसरो की स्थापना की थी। तब से लेकर अब तक इसरो सफलता की कई इबारतें लिख चुका है।

विक्रम साराभाई की बचपन से ही रुची विज्ञान में थी। वे एक समृद्ध परिवार से आते थे और उन्हें उन्हें परिवार के काफी मदद मिली। विक्रम साराभाई ने पिता की मदद से 28 साल की उम्र में भौतिक विज्ञान के अध्ययन के लिए अनुसंधान केंद्र PRL की स्थापना की थी। इस संस्थान ने कुछ ही सालों में विश्वस्तरीय संस्थानों में अपना नाम बना लिया था। विज्ञान के क्षेत्र में किए इन्हीं असाधारण कार्यों के लिए उन्हें 1966 में पद्म विभूषण से सम्मानित किया गया।

इसके बाद साल 1669 में उन्होंने भारतीय अंतरिक्ष एजेंसी ISRO (इंडियन स्पेस रिसर्च ऑर्गनाइजेशन) की स्थापना की थी। इसरो की स्थापना करते हुए उन्होंने चांद पर पहुंचे का लक्ष्य रखा था। आज उनकी सौवीं जयंती पर भारत ने इस ओर महत्वपूर्ण कदम भी बढ़ा लिए हैं। विक्रम साराभाई की मृत्यु 52 वर्ष की उम्र में 30 दिसंबर, 1971 को कोवलम बीच पर हुई थी। ये दिलचस्प बात है कि इसी जगह पर भारत ने अपने पहले रॉकेक का परीक्षण किया था।

स्मार्टफोन, मोबाइल रिव्यू हिंदी, ऐप्स, टेलीकॉम और टेक जगत की ताजा खबरों के लिए यहां क्लिक करें…

BGR India हिन्दी के फेसबुक और ट्विटर पेज से जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें…

दुनियाभर की लेटेस्ट tech news और reviews के साथ best recharge, पॉप्युलर मोबाइल पर मिलने वाले एक्सक्लूसिव offers के लिए हमें फेसबुक, ट्विटर पर फॉलो करें।

  • Published Date: August 12, 2019 8:51 AM IST
  • Updated Date: August 12, 2019 9:03 AM IST