comscore
News

गूगल ने अपने डूडल के जरिए मशहूर तबला वादक लच्छू महाराज को किया याद, गोविंदा से था ये रिश्ता

बॉलीवुड के मशहूर अभिनेता गोविन्दा लच्छू महाराज के भांजे हैं।

google-doodle-lacchu-maharaj

गूगल ने आज मशहूर तबला वादक स्वर्गीय लच्छू महाराज की 74वीं जयंती पर डूडल बनाया है। गूगल ने अपने शानदार डूडल के जरिए लच्छू महाराज को याद किया है। लच्छू महाराज का जन्म उत्तर प्रदेश के आध्यात्मिक शहर वाराणसी में 16 अक्टूबर 1994 को हुआ था। लच्छू महाराज के  बचपन का नाम लक्ष्मी नारायण सिंह था। लेकिन, बाद में उनका नाम लच्छू महाराज पड़ गया।

बनारस घराने से ताल्लुक रखने वाले लच्छू महाराज अपने तबलावादन के जरिए भारत में ही नहीं दुनियाभर मशहूर थे। लच्छू महाराज के कुल ग्याराह भाई-बहन थे और उनके पिताजी का नाम वासुदेव महाराज था। बड़े होने के बाद उन्होंने टीना नाम की एक महिला से शादी कर ली, जो फ्रांस की रहने वाली थी।

उन्होंने कई सालों तक अपने चाचा बिंदिदिन महाराज और अवध के नवाब के अदालती नर्तक से अपनी तबलावदन की विद्या प्राप्त की थी। तबला वादन के अलावा उन्होंने पखवाज और हिंदुस्तानी शास्त्रीय स्वर संगीत भी सीखा था। इसके बाद वे मुंबई चले गए और उन्होने कई फिल्मों में तबला वादन किया। इनमें से कई बेहद मशहूर फिल्में मुगल-ए-आजम (1960), महल (1949), छोटी छोटी बातें (1965) और पाकीजा (1972) में उन्होने तबला वादन किया है। आपको बता दें कि बॉलीवुड के मशहूर अभिनेता गोविन्दा लच्छू महाराज के भांजे हैं। लच्छू महाराज को साल 1957 में संगीत नाटक अकादमी पुरस्कार भी दिया गया था।

एक और दिलचस्प बात यह भी है 1972 में केंद्र सरकार ने उनको ‘पद्मश्री’ से सम्मानित करने का फैसला किया लेकिन उन्‍होंने ‘पद्मश्री’ लेने से मना कर दि‍या था। 1972 में भारत उन्होनें सरकार की ओर से 27 देशों का दौरा किया था। लच्छू महाराज जी का निधन 28 जुलाई 2016 को हुआ था और उनका अंतिम संस्कार बनारस में किया गया था।

  • Published Date: October 16, 2018 9:15 AM IST
  • Updated Date: October 16, 2018 9:42 AM IST