comscore Google I/O 2017: गूगल ने पेश किया स्टैंडअलोन वर्चुअल रियलिटी हेडसेट | BGR India
News

Google I/O 2017: गूगल ने पेश किया स्टैंडअलोन वर्चुअल रियलिटी हेडसेट

इस कॉन्फ्रेंस के पहले दिन कंपनी ने कई ऐलान किए गए।

google vt

गूगल की डेवलपर कॉन्फ्रेंस गूगल I/O 2017 इवेंट की शुरूआत बुधवार से हो चुकी है। इस कॉन्फ्रेंस के पहले दिन कंपनी ने कई ऐलान किए गए। कंपनी ने बताया कि एंड्राइड ओएस अब 2 बिलियन से ज्यादा एक्टिव डिवाइस में मौजूद है और गूगल फोटोज को करीब हर महीने 500 मिलियन से ज्यादा लोग इस्तेमाल कर रहे हैं। इसके अलावा एक नया टूल गूगल लेंस भी पेश किया गया। वहीं, कंपनी ने एंड्राइड ओ, एंड्राइड गो और स्मार्ट रिप्लाई जैसे फीचर का ऐलान किया। वहीं, कंपनी ने लेटेस्ट VR और AR का ऐलान किया। Also Read - भूल जाइए सभी पासवर्ड! Google Password Manager को मिला जबरदस्त अपडेट

वीआर (वर्चुअल रियलिटी) की मदद से आप सिर्फ देख ही नहीं बल्कि उस जगह को महसूस और अनुभव कर सकते हैं कि वहां क्या हो रहा है। इसके साथ ही एआर आपकी दुनिया में कंप्यूटिंग लाता है, जिससे आप अपने वातावरण में डिजिटल जानकारी के साथ बातचीत कर सकते हैं। Also Read - Google ऐप डेवलपर्स को 711 करोड़ रुपये देने को तैयार, जानें क्या है मामला

वर्चुअल रियलिटी
गूगल ने पिछले साल पिक्सल स्मार्टफोन के साथ पिछली बार VR प्लेटफॉर्म डेड्रीम लॉन्च किया था। पिक्सल के अलावा इसका सपोर्ट दूसरे स्मार्टफोन में भी दिया गया था। आज उपभोक्ता के पास चुनने के लिए बहुत सारे डेड्रीम फोन मौजूद हैं। गूगल ने ऐसे नए फोन की घोषणा की जो डेड्रीम रेडी होगा इसमें गैलेक्सी एस 8 और एस 8+ भी शामिल हैं, जो कि इस साल गर्मियों में सॉफ्टवेयर अपडेट के माध्यम से तैयार होगा और एलजी का अगला फ्लैगशिप फोन, जिसे इस साल के अंत में लॉन्च किया जाएगा। Also Read - Google Switch to Android ऐप Pixel के अलावा इन स्मार्टफोन को भी करेगा सपोर्ट

डेड्रीम जल्द ही नई कैटगरी के डिवाइस को सपोर्ट करेगा, जिसे स्टैंडअलोन वीआर हैडसेट का नाम दिया जाएगा। स्टैंडअलोन हैडसेट का इस्तेमाल करने के लिए यूजर्स को पीसी और फोन की जरूरत नहीं होगी। इसे वीआर में शामिल करना उतना ही आसान है जितना उस डिवाइस को उसमें सेट करना। हार्डवेयर पूरी तरह से वीआर के लिए अनुकूलित है और वर्ल्डसेन नामक एक नई हेडसेट ट्रैकिंग तकनीक को दिखाता है। वर्ल्डसाइड स्थितिगत ट्रैकिंग सक्षम बनाता है, जिसका अर्थ है हेडसेट अंतरिक्ष में आपके सटीक आंदोलनों को ट्रैक करता है और यह किसी भी बाहरी सेंसर के बिना स्थापित करने के लिए यह सब करता है।

यहां देखें वीडियो

ऑग्मेंटेड रियलिटी
गूगल वर्चुअल और ऑग्मेंटेड रियलिटी दोनों के लिए वर्षों तक टैंगो में कोर टेक्नोलॉजी के रूप में निवेश कर रहा है। टैंगो के साथ डिवाइस गति को ट्रैक कर सकते हैं और वर्चुअल दुनिया में दूरी और उनकी स्थिति को समझ सकते हैं। वीआर के लिए, टेंगो से प्रौद्योगिकी को विश्वसेन की नींव के रूप में इस्तेमाल किया गया है एआर के लिए, इसका प्रयोग वास्तविक वस्तुओं में डिजिटल ऑब्जेक्ट्स डालकर स्मार्टफोन एआर अनुभव को सक्षम करने के लिए किया जा सकता है। टैंगो टैकनोलॉजी वाला अगला फोन ASUS ZenFone AR होगा, इस गर्मी में उपलब्ध है।

दुनियाभर की लेटेस्ट tech news और reviews के साथ best recharge, पॉप्युलर मोबाइल पर मिलने वाले एक्सक्लूसिव offers के लिए हमें फेसबुक, ट्विटर पर फॉलो करें। Also follow us on  Facebook Messenger for latest updates.

  • Published Date: May 18, 2017 10:55 AM IST



new arrivals in india