comscore
News

Google ने लॉन्च किया Android Q का Beta वर्जन, ये हैं खूबियां

गूगल ने दावा किया है कि Android Q प्राइवेसी और सिक्योरिटी सेंट्रिक ओएस है।

android q stock image

Google ने अपने लेटेस्ट ऑपरेटिंग सिस्टम (ओएस) Android Q का बीटा वर्जन लॉन्च कर दिया है। यह गूगल के ऑपरेटिंग सिस्टस Android  का दसवां वर्जन होगा। गूगल ने  Android Developers की वेबसाइट में इसके बीटा वर्जन को लॉन्च करते हुए कहा कि Android Q नई प्राइवेसी और सिक्योरिटी फीचर के साथ आता है। इसके साथ ही ये फोर्डेबल स्मार्टफोन को भी सपोर्ट करेगा। इसके साथ एंड्रॉएड 10 में Vulkan 1.1 सपोर्ट, फास्टर ऐप स्टार्ट टाइम, नए मीडिया कोड्स और कैमरे के लिए नए फीचर्स दिए जाएंगे।

गूगल का कहना है कि उसका लेटेस्ट Android Q का बीटा वर्जन स्मार्टफोन चलाने के एक्सपीरिएंस को पहले से बेहतर कर देगा। एंड्रॉएड का इस लेटेस्ट वर्जन को फिलहाल केवल गूगूल के स्मार्टफोन गूगल पिक्सल और पिक्सल एक्सएल यूजर्स ही यूज कर पाएंगे। आइए आपको बताते हैं कि गूगल के नए Android Q में क्या कुछ नया है।

लोकेशन शेयर करते हुए पहले से ज्यादा कंट्रोल

गूगल का दावा है कि उसने अपने लेटेस्ट Android Q में प्राइवेसी और सिक्योरिटी के फीचर में ज्यादा फोकस किया है। कंपनी का कहना है कि Android Q वर्जन उसके प्रोजेक्ट Strobe का एक हिस्सा है। इस प्रोजेक्ट के तहत यूजर्स को अलग-अलग ऐप को लोकेशन एक्सेस की परमिशन देने पर ज्यादा कंट्रोल मिलेगा। गूगल के मुताबिक अब ऐप सिर्फ उसी समय लोकेशन एक्सेस कर पाएंगे जब ऐप रन करेगी और नए एंड्रॉएड वर्जन में ऐप्स को ऑल टाइम लोकेशन एक्सेस की परमिशन नहीं मिलेगी। इसके साथ यूजर्स को लोकेशन शेयर पर जरूरत के मुताबिक और भी कंट्रोल मिलेंगे।

Android Q: क्या है नया

एंड्रॉएड का नया वर्जन प्राइवेसी सेंट्रिक है जिसमें यूजर्स को इंस्टाल की गई ऐप पर ज्यादा कंट्रोल दिया है। इसके साथ ही गूगल का कहना है कि डिवाइस पर फाइल शेयर के लिए लिमिटेड एक्सेस ही मिलेगी। इसका मतलब है कि यूजर्स को फोटो, वीडियो, और दूसरी मीडिया फाइल्स को शेयर करन के लिए ऐप को परमिशन देनी होंगी। इसके साथ ही कौन सी ऐप फाइल पिक कर सकती हैं इसके लिए डाउनलोड के दौरान यूजर्स को परमिशन देने का ऑपशन मिलेगा। इसके साथ ही बैकग्राउड में चलने वाली ऐप्स पर भी यूजर्स को कंट्रोल मिलेगा।

गूगल ने Android Q के शेयर मेन्यू में बदलाव किए हैं। कंपनी का दवा है कि ये Android 9 पाई के कहीं बेहतर होगा। गूगल का कहना है कि ये पहले से कहीं ज्यादा तेज है तो तेजी से दूसरी ऐप पर जंप करता है। इसके साथ ही गूगल ने नए एंड्रॉएड वर्जन के सेटिंग पैनल में भी काफी बदलाव किए हैं। नए वर्जन में यूजर्स बिना ऐप से हटे इंपोर्टेंस सेटिंग डायरेक्टली चेंज कर पाएंगे। नए एंड्रॉएड में गूगल ने Slices feature यूज किया है Android 9 Pie में देखने को मिला था। इसके साथ ही यूजर्स इंटरनेट कनेक्टिविटी, एनएफपी जैसे मेन्यू पर क्विक एक्सेस करे इसके लिए यूआई में बदलाव किए हैं।

गूगल ने Android Q में WiFi की परफॉर्मेंस में सुधार के लिए काफी चेंज किए हैं। जिससे यूजर्स को रियल टाइम गेमिंग और वाइस कॉल्स का बेहतर अनुभव मिल पाएग। इसके साथ ही WiFi यूज के दौरान पावर कंजमसन कम हो इसके लिए WiFi फ्रेमवर्क में काफी बदलाव किए हैं। स्मार्टफोन के कैमरे की परफॉरमेंस सुधरे इसके लिए भी गूगूल ने ऩए ओएस में काफी सुधार करने का दावा किया है।

  • Published Date: March 14, 2019 12:31 PM IST