comscore
News

ये 200 गेम्स ऐप फैला रही थी वायरस, कहीं आपने तो नहीं किया था डाउनलोड?

SimBad नाम का यह एडवेयर एड-सर्विंग प्लेटफॉर्म बनकर अभी तक लगभग 200 ऐप्स में घुस चुका है।

Google Android Malware Stock Pixabay

Source: Pixabay


गूगल द्वारा डेवलप किया गया एंड्रॉइड इकोसिस्टम आज दुनिया के ज्यादातर स्मार्टफोन में यूज होता है। भले ही यह ज्यादातर स्मार्टफोन्स में यूज होता हो, लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि यह सिक्योर प्लेटफॉर्म है। हम शुरुआत से ही यह सुनते आए हैं कि एंड्रॉइड कई मालवेयर, वायरस या एडवेयर का शिकार बनता रहता है। इसका ओपन सोर्स प्लेटफॉर्म होना हैकर्स के लिए इसकी सिक्योरिटी से छेड़छाड़ करना आसान बना देता है। अब सिक्योरिटी फर्म Check Point के कुछ रिसर्चर ने पाया है कि एंड्रॉइड में पाएं जाने वाली कई ऐप्स में एडवेयर है, जिन्हें गूगल प्ले स्टोर से 150 मिलियन यानी 15 करोड़ से ज्यादा बार डाउनलोड किया जा चुका है।
SimBad नाम का यह एडवेयर एड-सर्विंग प्लेटफॉर्म बनकर अभी तक लगभग 200 ऐप्स में घुस चुका है। सिक्योरिटी रिसर्चर ने कहा है कि इन ऐप्स के डेवलपर्स को इसके बारे में कोई जानकारी नहीं है। यहां तक की ये एडवेयर संक्रमित ऐप्स में दूसरे एडवेयर के आने का रास्ता बना देते हैं, जिससे वें गूगल द्वारा प्ले स्टोर के लिए डेवलप किए स्कैनिंग सिस्टम को भी चकमा दे सके।

TechCrunch के मुताबिक, यह एडवेयर यूजर के स्मार्टफोन में इंस्टॉल होने के साथ ही ऐप के आइकॉन को हटा कर बैकग्राउंड में काम करते रहने की क्षमता रखता है। अपने कमांड और कंट्रोल सेंटर से आदेश मिलने के बाद यह एडवेयर स्मार्टफोन के अंदर कई वेबसाइट्स में रन करता है और वहां से एड दिखा कर उससे रेवेन्यू जनरेट करता है।

सिक्योरिटी रिसर्चर ने उन ऐप्स की लिस्ट भी रिलीज की है, जिन्हें इस एडवेयर ने अफेक्ट किया है और गूगल ने इन्हें अपने प्ले स्टोर से हटा भी दिया है। गूगल द्वारा इन्हें केवल ऐप स्टोर से हटाया गया है, लेकिन यह यूजर्स के फोन से नहीं हटे हैं। इनमें Snow Heavy Excavator Simulator, Hoverboard Racing और Real Tractor Farming Simulator जैसे कुछ टॉप गेम्स भी शामिल हैं।

  • Published Date: March 15, 2019 12:50 PM IST