comscore Google की सिक्योरिटी टीम ने दी वॉर्निंग, दोगुने हुए Zero Day अटैक के मामले
News

Google की सिक्योरिटी टीम ने दी वॉर्निंग, दोगुने हुए Zero Day अटैक के मामले

गूगल की सिक्योरिटी टीम ने पता लगया कि 2021 में Zero Day हैक के मामले सबसे ज्यादा आया है। प्रोजेक्ट टीम जीरो के मुताबिक, जीरो डे हैक के मामले 2020 के मुकाबले दोगुने से ज्यादा हो गए हैं।

Google-Security-Update


Google की इन-हाउस सिक्योरिटी टीम ने चेतावनी दी है कि Zero-Day साइबर थ्रेट्स अपने चरम पर है। कंपनी की इन-हाउस सिक्योरिटी प्रोजेक्ट जीरो टीम ने एनुअल राउंड अप में पाया कि 2021 में साइबर सिक्योरिटी में 58 थ्रेट्स पाए गए हैं। कंपनी ने बताया कि 2021 में जीरो डे हैक्स के दोगुने से भी ज्यादा मामले सामने आए हैं Also Read - iPhone यूजर्स के लिए आया काम का फीचर, Google Chrome में तेजी से ओपन कर सकेंगे एक्सटर्नल लिंक

बता दें कंपनी ने 2014 में प्रोजेक्ट जीरो की घोषणा की थी। इस टीम का मकसद गूगल क्रोम में आने वाले सिक्योरिटी ब्रीच का पता लगाकर उसे फिक्स करना है। साल 2020 में Zero-Day हैक्स के 25 मामले सामने आए थे। Also Read - 50MP कैमरा, 8GB RAM, 4355mAh बैटरी और 30W फास्ट चार्जिंग वाले Google Pixel 7 पर तगड़ा Discount, Flipkart से सस्ते में खरीदें फोन

अटैकर्स ने पैटर्न में नहीं किया बदलाव

गूगल सिक्योरिटी टीम ने पता लगाया कि पिछले कुछ सालों में जीरो डे अटैकर्स की मैथेडोलॉजी में ज्यादा बदलाव नहीं देखा गया है। अटैकर्स ने वही बग पैटर्न और एक्सपल्वाइटेशन तकनीक का इस्तेमाल किया है। Also Read - Google Pixel 7a के खास फीचर्स और रेंडर्स लीक, ऐसा होगा फोन का डिजाइन

Cybersecurity

Image: Pixabay

गूगल ने अपने स्टेटमेंट में कहा कि 2021 में 58 Zero Day थ्रेट के मामले मिले हैं, जो जाने-पहचाने हैं। हम इन अटैक्स और वलनर्बिलिटी को डिटेक्ट करने में सफल रहे हैं। हालांकि, अटैकर्स नए बग क्लास का इस्तेमाल कर सकते हैं या अटैक करने के लिए उन तकनीकों का इस्तेमाल कर सकते हैं, जो उन्होंने पहले कभी नहीं किया है।

Zero-Day हैक का ज्यादा मामला आना अच्छा

यही नहीं, कंपनी का मानना है कि Zero Day हैक के ज्यादा मामले सामने आना अच्छी बात है। इसका मतलब है कि अब ज्यादातर साइबर थ्रेट्स रिपोर्ट किए जा रहे हैं और पब्लिकली सामने आ रहे हैं।

Google के प्रोजेक्ट Zero की टीम ने अपने ब्लॉगपोस्ट में लिखा है कि अटैकर्स के लिए जीरो डे कैपेबिलिटीज को और मुशकिल बनाना चाहते हैं। कंपनी ने यह भी कहा कि वेंडर्स और सिक्योरिटी रिसर्चर्स को और बेहतर करने की जरूरत है, ताकि अटैकर्स द्वारा इस्तेमाल किए जाने वाली तकनीक के बारे में डिटेल्स मिल सके।

Google

Image: Pixabay

फरवरी में डिटेक्ट हुआ था बग

फरवरी 2022 में भी Google Chrome में Zero Day गड़बड़ी का मामला सामने आया था, जिसमें सिक्योरिटी टीम ने बग एनिमेशन कंपोनेंट CVE-2022-0609 का पता लगाया था। गूगल क्रोम ब्राउजर का यह बग सिक्योरिटी अपडेट को स्किप कर देता था। हालांकि, जीरो-डे टीम द्वारा बग डिटेक्ट करने के बाद क्रोम के लिए स्टेबल अपडेट 98.0.4758.102 रोल आउट किया था। इस अपडेट के बाद Google Chrome का यह बग फिक्स हो गया।

  • Published Date: April 21, 2022 1:04 PM IST
  • Updated Date: April 21, 2022 1:07 PM IST

दुनियाभर की लेटेस्ट tech news और reviews के साथ best recharge, पॉप्युलर मोबाइल पर मिलने वाले एक्सक्लूसिव offers के लिए हमें फेसबुक, ट्विटर पर फॉलो करें। Also follow us on  Facebook Messenger for latest updates.