comscore इस खतरनाक वायरस ने 5 लाख लोगों को बनाया निशाना | BGR India
News

इस खतरनाक वायरस ने 5 लाख लोगों को बनाया निशाना

इस वायरस ने भारत समेत 54 देशों को बनाया अपना निशाना।


इस वक्त दुनियाभर में एक खतरनाक वायरस फैल रहा है। यह वायरस वाई-फाई राउटर के जरिए एंड्रॉइड और आईओएस यूजर्स को निशाना बना रहा है। इस वायरस ने अभी तक 5 लाख राउटर्स और दूसरे स्टोरेज डिवाइसिस को अपना निशाना बनाया है। इस वायरस के बारे में सबसे पहले सिक्योरिटी एजेंसी ने अलर्ट जारी किया था और अब सिसको (CISCO) ने भी इसे लेकर चेतावनी दी है। Also Read - चीनी हैकर्स के निशाने पर तिब्बती शरणार्थी, खतरनाक वायरस Follina के जरिए पहुंचा रहे नुकसान

Also Read - नोवेल कोरोनावायरस (Novel Coronavirus) से एप्पल के बिजनेस पर भी पड़ेगा असर!

रूस से हो सकता है इस खतरनाक वायरस का संबंध Also Read - Android यूजर्स सावधान: यह ऐप आपको मिनटों में कर देगी कंगाल, अभी कर दें अनइंस्टॉल

सिसको का कहना है कि इस वायरस के पीछे रूस का हाथ हो सकता है। सिसको ने कहा है कि इस वायरस का संबंध यूक्रेन में रूस की साइबर अटैक की तैयारी से हो सकता है। सिसको के मुताबिक, यह VPNFilter वायरस असेंबल कम्युनिकेशन और दूसरे डिवाइसिस को निशाना बना सकता है। यह डिवाइस को बर्बाद कर सकता है। यह मालवेयर ब्रॉडबैंड और वाई-फाई राउटर के जरिए निशाना बना रहा है। इसने भारत समेत 54 देशों को अपना निशाना बनाया है। इसके अलावा यूक्रेन में यह सबसे ज्यादा डिवाइसिस को निशाना बना रहा है।

भारत और जापान समेत कई देशों के यूजर्स प्रभावित

इससे पहले बुधवार को बताया गया था कि राउटर के जरिए डिवाइसिस को निशाना बनाने वाले इस वायरस ने कोरिया, जापान, चीन, भारत और बांग्लादेश के यूजर्स को चपेट में लिया है। उस वक्त  साइबर सिक्योरिटी फर्म  Kaspersky ने इस वायरस के प्रति यूजर्स को गंभीर तौर पर आगाह किया था।

कई भाषाओं में आ रहा है यह वायरस

यह वायरस कई भाषाओं में यूजर्स को निशाना बना रहा है। बताया जा रहा है कि यह वायरस 27 भाषाओं में यूजर्स को निशाना बना रहा है। इसमें हिंदी, बंगाली, चाइनीज, अरबी, बुल्गारियन और रूशियन भाषा शामिल है। यह खतरनाक वायरस एंड्रॉइड स्मार्टफोन और टैबलेट्स को भी निशाना बना रहा है। इसके अलावा  iOS  यूजर्स को भी यह वायरस निशाना बना रहा है।

ऐसे बना रहा है निशाना

यह वायरस यूजर्स से अकाउंट की जानकारी मांग रहा है। मैसेज सेंड और रिसीव करने पर इस वायरस का अटैक हो रहा है। इसके अलावा वॉयस कॉल, फाइल्स के जरिए भी यह वायरस यूजर्स को निशाना बना रहा है। अगर आप इस वायरस से बचना चाहते हैं तो किसी भी अननॉन लिंक्स को ओपन ना करें।

 

दुनियाभर की लेटेस्ट tech news और reviews के साथ best recharge, पॉप्युलर मोबाइल पर मिलने वाले एक्सक्लूसिव offers के लिए हमें फेसबुक, ट्विटर पर फॉलो करें। Also follow us on  Facebook Messenger for latest updates.

  • Published Date: May 24, 2018 12:28 PM IST
  • Updated Date: February 15, 2022 5:07 PM IST



new arrivals in india