comscore Cryptocurrency Wallet से हो रही चोरी, जानें क्रिप्टो इंवेस्टर्स को कैसे ठग रहे हैं हैकर
News

Cryptocurrency Wallet से हो रही चोरी, जानें क्रिप्टो इंवेस्टर्स को कैसे ठग रहे हैं हैकर

ट्रोजन मालवेयर से लैस ये जाली वॉलेट, बिलकुल असली ऐप की तरह दिखते और काम करते हैं। लेकिन ये यूजर्स की क्रिप्टोकरेंसी का ऐक्सेस साइबर क्रिमिनल को दे देते हैं।

Crypto Wallet

Image for representation only (Source: Pixabay/Shutter_Speed)


साल 2022 के शुरू में हमें मालवेयर BHUNT के बारे में पता चला था। इसकी मदद से हैकर्स अपने विक्टिम के Cryptocurrency Wallet (क्रिप्टोकरेंसी वॉलेट) से चोरी करते थे। अब साइबर क्रिमिनल्स ने एक कदम और आगे बढ़कर जाली क्रिप्टोकरेंसी वॉलेट तैयार कर डाले हैं। Also Read - Crypto Market Today (21 May): Terra कॉइंस में जारी जोरदार गिरावट, LUNA की कीमत हुई 1 पैसे से भी कम

ट्रोजन मालवेयर से लैस ये जाली वॉलेट, बिलकुल असली ऐप की तरह दिखते और काम करते हैं। लेकिन ये यूजर्स की क्रिप्टोकरेंसी का ऐक्सेस साइबर क्रिमिनल को दे देते है। इन नकली क्रिप्टोकरेंसी वॉलेट के जरिए हैकर्स ज्यादातर नए क्रिप्टो इंवेस्टर्स को निशाना बना रहे हैं। आइए इस मामले के बारे में डिटेल में जानते हैं। Also Read - Crypto Market Today (20 May 2022): Terra (LUNA) में एक बार फिर देखने को मिली गिरावट, Nekocoin (NEKOS) में हुई 1180.70% की बढ़ोतरी

जाली Cryptocurrency Wallet को फैलाने का तरीका

ESET के साइबर सिक्योरिटी रिसर्चर्स ने ऐसी 40 नकली वेबसाइट्स की खोज की है, जो पॉप्युलर क्रिप्टोकरेंसी वेबसाइट्स की नकल हैं। ये यूजर्स को जाली Cryptocurrency Wallet ऐप्स डाउनलोड करने का लिंक देती हैं। Also Read - Crypto Market Today (18 May): कल की बढ़त को ले डूबी आज की गिरावट, Terra (LUNA) की कीमत हुई 1 पैसा

रिपोर्ट के मुताबिक, अटैकर ऑनलाइन ऐड की मदद से भी इन जाली वॉलेट ऐप्स का प्रचार करते हैं। इसके साथ ही ये साइबर क्रिमिनल्स Telegram और Facebook Groups की मदद से ऐसे लोगों को तलाश करते हैं, जो इस मालवेयर को आगे फैलाने में मदद कर सकें। ख़बर के मुताबिक, ऐसा करने वाले यूजर्स को चुराई हुई क्रिप्टोकरेंसी में से कमीशन दिया जाता है।

असली वॉलेट की तरह दिखते हैं ट्रोजन मालवेयर से लैस ऐप्स

ESET ने बताया कि ये जाली Cryptocurrency Wallet बिलकुल असली ऐप की तरह दिखते हैं और ठीक उसी तरह काम भी करते हैं। लेकिन इनमें ट्रोजन मालवेयर मौजूद होता है।

सिक्योरिटी फर्म का कहना है कि जिसने भी यह जाली वॉलेट बनाए हैं, उसने पहले असली के ऐप्स को अच्छी तरह से परखा और फिर इनके कोड के साथ अपने मालवेयर को छिपा कर जाली ऐप तैयार कर लिया।

यूजर्स को ये ऐप्स बिलकुल असली लगते हैं। लेकिन जब इनमें क्रिप्टोकरेंसी स्टोर की जाती है तो इन्हें बनाने वाले साइबर क्रिमिनल्स सारे क्रिप्टो कॉइन और टोकन चुरा लेते हैं। फर्म का कहना है कि ये कैम्पेन अभी भी चल रहा है, इसलिए क्रिप्टो इंवेस्टर्स को सावधानी बरतनी होगी।

दुनियाभर की लेटेस्ट tech news और reviews के साथ best recharge, पॉप्युलर मोबाइल पर मिलने वाले एक्सक्लूसिव offers के लिए हमें फेसबुक, ट्विटर पर फॉलो करें। Also follow us on  Facebook Messenger for latest updates.

  • Published Date: March 27, 2022 10:11 PM IST
  • Updated Date: March 28, 2022 1:20 PM IST



new arrivals in india