comscore भारत में 2020 तक एक अरब डॉलर निवेश करेगी हुंडई | BGR India
News

भारत में 2020 तक एक अरब डॉलर निवेश करेगी हुंडई

हुंडई की अगले तीन साल में भारत में एक अरब डालर से अधिक (लगभग 6300 करोड़ रुपए) निवेश करने की योजना है।

  • Updated: February 15, 2022 4:59 PM IST
hyundai-stock-photo

दक्षिण कोरियाई वाहन कंपनी हुंडई की अगले तीन साल में भारत में एक अरब डालर से अधिक (लगभग 6300 करोड़ रुपए) निवेश करने की योजना है। कंपनी यह निवेश नये वाहन लाने और एक नये कार्यालय भवन की स्थापना सहित अन्य मदों में करेगी। Also Read - फोटोज देखकर उड़ जाएंगे होश! आ रही गजब डिजाइन और फीचर्स वाली Hyundai Ioniq 6 इलेक्ट्रिक कार

Also Read - Hyundai Ioniq 6: 'गजब' डिजाइन वाली हुंडई की इलेक्ट्रिक कार से हटा पर्दा, Tesla Model 3 को मिलेगी टक्कर

हुंडई मोटर इंडिया लिमिटेड (एचएमआईएल) के प्रबंध निदेशक वाई के कू ने यहां पीटीआई- भाषा को यह जानकारी दी। उन्होंने कहा कि कंपनी की अगले साल एक इलेक्ट्रिक वाहन पेश करने की योजना है। इसके साथ ही कंपनी अपने लोकप्रिय मॉडल सेंट्रो को इस साल ​दीवाली के आसपास फिर से पेश करने की संभावना भी तलाश रही है। Also Read - Hyundai Stargazer MPV: धमाल मचाने आ रही हुंडई की नई कार, मारुति और किआ की गाड़ियों को मिलेगी टक्कर

एचएमआईएल 2018 से 2020 के बीच नौ नए वाहन पेश करेगी। उन्होंने कहा, ‘2020 तक हमारा कुल निवेश एक अरब डॉलर से अधिक होगा।’ कू ने कहा, ‘यह निवेश उन नौ नए उत्पादों में ​किया जाएगा जो कि इस साल और 2020 के दौरान पेश किए जाने हैं। इसी तरह गुरुग्राम में हमारा नया कार्यालय भवन स्थापित किया जा रहा है।’

नए वाहनों के बारे में उन्होंने कहा कि दो पूरी तरह नए मॉडल होंगे, एक इलेक्ट्रिक वाहन होगा, दो उन्नत माडल होंगे जबकि चार मौजूदा वाहनों का पूरी तरह से नया रूप होगा। उन्होंने कहा कि कंपनी भारत में अपना पहला इ​लेक्ट्रिक वाहन अगले साल पेश करेगी। हालांकि, कंपनी ने अभी इस वाहन के बारे में कोई फैसला नहीं किया है।

दुनियाभर की लेटेस्ट tech news और reviews के साथ best recharge, पॉप्युलर मोबाइल पर मिलने वाले एक्सक्लूसिव offers के लिए हमें फेसबुक, ट्विटर पर फॉलो करें। Also follow us on  Facebook Messenger for latest updates.

  • Published Date: January 31, 2018 10:30 PM IST
  • Updated Date: February 15, 2022 4:59 PM IST



new arrivals in india