comscore मोबाइल एड फ्रॉड के मामले में एशियाई देशों में भारत नंबर-1
News

मोबाइल एड फ्रॉड के मामले में एशियाई देशों में भारत नंबर-1

भारत में मोबाइल एड फ्रॉड (Mobile ad frauds) के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं। आपको यह बात जानकार हैरानी होगी कि भारत एशियाई देशों में सबसे ज्यादा मोबाइल एड फ्रॉड के मामले में पहले नंबर पर है। मार्केटर्स के लिए मोबाइल एड फ्रॉड एक बड़ा चैलेंज बन रहा है। मोबाइल मार्केटिंग एसोसिएशन के सर्वे के मुताबिक मार्केटर्स मानते हैं कि मोबाइल एड फ्रॉड उनके लिए बड़ा खतरा है।

FRAUD

भारत में मोबाइल एड फ्रॉड (Mobile ad frauds) के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं। आपको यह बात जानकार हैरानी होगी कि भारत एशियाई देशों में सबसे ज्यादा मोबाइल एड फ्रॉड के मामले में पहले नंबर पर है। मार्केटर्स के लिए मोबाइल एड फ्रॉड एक बड़ा चैलेंज बन रहा है। मोबाइल मार्केटिंग एसोसिएशन के सर्वे के मुताबिक मार्केटर्स मानते हैं कि मोबाइल एड फ्रॉड उनके लिए बड़ा खतरा है।
रिपोर्ट से पता चला है कि इंडियन मार्केटर्स करीब अपने एडवर्टाइजिंग बजट का 20 प्रतिशत बजट ऐसे एड फ्रॉड पर खर्च करते हैं। वहीं भारत में इसका रेट 62 पर्सेंट है।

मोबाइल एड फ्रॉड के सबसे ज्यादा मामले कुकीज स्टफिंग, एडवेयर ट्रैफिक, डाटा फ्रॉड और इंजेक्शन के द्वारा किए जाते हैं। ग्लोबल नॉन-प्रॉफिट ऑर्गनाइजेशन मोबाइल मार्केटिंग एसोसिएशन की रिपोर्ट के मुताबिक 10 में से 9 मार्केटर्स ने माना कि कि एड फ्रॉड रोकने के तरीकों को बेहतर किया जा सकता है। वहीं 95 प्रतिशत ने माना की नियमों में ट्रांसपेरेंसी के अभाव के कारण ऐसा हो रहा है।

रिसर्च फर्म Decision Lab की रिपोर्ट के मुताबिक एड फ्रॉड में कुकिंग स्टफिंग के 74 पर्सेंट, एडवेयर ट्रैफिकिंग 65 पर्सेंट, डाटा फ्रॉड 61 पर्सेंट और एड इंजेक्शन 54 पर्सेंट के सबसे ज्यादा मामले शामिल हैं। इसके अलावा 37 पर्सेंट लोगों को ही इस फ्रॉड से बचने के लिए ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी के बारे में जानकारी थी। इसका मतलब है कि आधे से ज्यादा लोगों को इस  बारे में कोई जानकारी नहीं है। एक एक्सपर्ट ने कहा कि भारत में ब्लॉक चेन टेक्नोलॉजी को समझने की जरूरत है। इसकी मदद से मोबाइल फ्रॉड को रोका जा सकता है। इसके जरिए मोर्केटिंग इकोसिस्टम को बेहतर बनाया जा सकेगा।

  • Published Date: November 19, 2019 8:12 PM IST