comscore बड़े साइबर अटैक की जद में भारतीय एजुकेशन सेक्टर, रिपोर्ट में खुलासा
News

बड़े साइबर अटैक की जद में भारतीय एजुकेशन सेक्टर, रिपोर्ट में खुलासा

पिछले दो साल से स्कूल और कॉलेज के साथ-साथ एजुकेशनल इंस्टीट्यूट्स भी ऑनलाइन क्लासेज ऑफर कर रही है जिसकी वजह से साइबर हमलों का खतरा भी बढ़ा है। एक रिपोर्ट के मुताबिक, अमेरिका, यूके, इंडोनेशिया और ब्राजील के साथ-साथ भारत के एजुकेशनल इंस्टिट्यूट्स पर बड़ा साइबर अटैक हो सकता है।

Cyber-Attacks

Image: Pixabay


COVID-19 के बाद से वर्क फ्रॉम होम के साथ-साथ ऑनलाइन क्लासेज का भी चलन बढ़ा है। पिछले दो साल से स्कूल और कॉलेज के साथ-साथ एजुकेशनल इंस्टीट्यूट्स भी ऑनलाइन क्लासेज ऑफर कर रही हैं। हालांकि, इसकी वजह से साइबर हमलों का खतरा भी बढ़ा है। एक रिपोर्ट के मुताबिक, अमेरिका, यूके, इंडोनेशिया और ब्राजील के साथ-साथ भारत के एजुकेशनल इंस्टिट्यूट्स पर बड़ा साइबर अटैक हो सकता है। Also Read - Budget 2022: राष्ट्रपति ने Digital India को सराहा, 5G को लेकर कही बड़ी बात

रिपोर्ट में कहा गया है कि कोरोनाकाल में एजुकेशन सेक्टर के डिजिटाइज होने की वजह से ऑनलाइन लर्निंग प्लेटफॉर्म्स बड़ी मात्रा में बढ़े हैं, जो साइबर क्रिमिनल्स के मेन टारगेट पर हैं। “Cyber Threats Targeting Global Education Sector” के नाम से पब्लिश हुए रिपोर्ट में कहा गया है कि 2022 के शुरुआती तीन महीनों में ग्लोबल एजुकेशन सेक्टर में साइबर थ्रेट के मामले 2021 के मुकाबले 20 प्रतिशत तक बढ़े हैं। Also Read - भारत सरकार ने शुरू किया Digital Government Mission का काम, अब लोगों को आसानी से मिलेगा सभी सेवाओं का लाभ

सिंगापुर बेस्ड AI डिजिटल रिस्क मैनेजमेंट एंटरप्राइज के थ्रेट रिसर्च एंड इंफॉर्मेशन एनालटिक्स डिविजन CloudSEK ने इस रिपोर्ट को तैयार किया है। रिपोर्ट में हजारों सोर्स जैसे कि डार्क और डीप वेब के साइबर थ्रेट, डेटा लीक्, ब्रांड थ्रेट्स और आइडेंटिटी थ्रेट का इस्तेमाल किया गया है। Also Read - Facebook इस साल के अंत में लॉन्च करेगा अपना डिजिटल वॉलेट Novi और Diem, यूजर्स क्रिप्टोकरेंसी को कर पाएंगे स्टोर

Image: Pixabay

भारत में 58 प्रतिशत साइबर थ्रेट्स के मामले

रिपोर्ट में कहा गया है कि पिछले साल एशिया और पेसिफिक में जो साइबर थ्रेट्स डिटेक्ट हुए हैं उनमें 58 प्रतिशत भारत और भारत बेस्ड एजुकेशनल इंस्टीट्यूशन्स और ऑनलाइन प्लेटफॉर्म्स शामिल हैं। दूसरे नंबर पर इंडोनेशिया शामिल है, जहां के इंस्टीट्यूट्स में केवल 10 प्रतिशत का साइबर थ्रेट देखा गया है। भारतीय इंस्टीट्यूट्स में BYJU, IIM Kojhikode और तामिलनाडु का DTE (Directorate of Technical Education) शामिल हैं।

ग्लोबल साइबर थ्रेट्स की बात की जाए तो अमेरिका साइबर क्रिमिनल्स के निशाने पर दूसरा सबसे बड़ा देश है, जहां साइबर हमलों के 19 मामले रिकॉर्ड किए गए हैं। अमेरिकी इंस्टीट्यूट्स में हावर्ड यूनिवर्सिटी और यूनिवर्सिटी ऑफ कैलिफॉर्निया आदि शामिल हैं। इसके अलावा API गड़बड़ियों के मामले भी शामिल हैं, जो ओपन ऑनलाइन कोर्स प्रोवाइडर Courera में देखा गया है।

CloudSEK के प्रिंसिपल थ्रेट रिसर्चर दर्शित अशारा के मुताबिक, 2025 तक ग्लोबल एजुकेशन और ट्रेनिंग मार्केट की रीच USD 7.3 ट्रिलियन तक पहुंच जाएगी। डिजिटल पेनिट्रेशन बढ़ने से एजुकेशन टेक्नोलॉजी मार्केट में भी लगातार ग्रोथ देखा जा रहा है। ऐसे में यह मार्केट भी अब साइबर क्रिमिनल्स के निशाने पर आ गई है।

दुनियाभर की लेटेस्ट tech news और reviews के साथ best recharge, पॉप्युलर मोबाइल पर मिलने वाले एक्सक्लूसिव offers के लिए हमें फेसबुक, ट्विटर पर फॉलो करें। Also follow us on  Facebook Messenger for latest updates.

  • Published Date: May 2, 2022 1:43 PM IST



new arrivals in india