comscore Indian telecom subscribers : टेलीकॉम कस्टमर्स की संख्या बढ़कर 118 करोड़ हुई
News

देशभर में टेलीकॉम कस्टमर्स की संख्या बढ़कर 118 करोड़ से ज्यादा हुई, जियो और बीएसएनएल के ग्राहक बढ़ें

Indian Telecom Subscriber : टेलीकॉम रेगूलेटरी अथॉरिटी ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के मुताबिक, देश में दूरसंचार उपभोक्ताओं की संख्या अप्रैल में मामूली बढ़कर 118.37 करोड़ पर पहुंच गई। रिलायंस जियो और सार्वजनिक क्षेत्र की बीएसएनएल के मोबाइल ग्राहकों की संख्या में बढ़ोतरी से कुल फोन कनेक्शनों की संख्या बढ़ी है।

Telecommunication telephone signal tower 2 Pixabay 805

Indian Telecom Subscribers :देश में दूरसंचार उपभोक्ताओं की संख्या अप्रैल में मामूली बढ़कर 118.37 करोड़ पर पहुंच गई। रिलायंस जियो और सार्वजनिक क्षेत्र की बीएसएनएल के मोबाइल ग्राहकों की संख्या में बढ़ोतरी से कुल फोन कनेक्शनों की संख्या बढ़ी है। भारतीय दूरसंचार नियामक एवं विकास प्राधिकरण (ट्राई) की सोमवार को जारी एक रिपोर्ट में यह जानकारी दी गई है।  ट्राई की रिपोर्ट के अनुसार अप्रैल के अंत तक देश में दूरसंचार उपभोक्ताओं की संख्या मामूली बढ़कर 118.37 करोड़ हो गई, जो मार्च के अंत तक 118.35 करोड़ थी। इस दौरान मोबाइल ग्राहकों (Indian Telecom Subscribers) की संख्या मार्च के 116.18 करोड़ से बढ़कर 116.23 करोड़ पर पहुच गई।

माह के दौरान रिलायंस जियो और बीएसएनएल ने संयुक्त रूप से 83.1 लाख नए ग्राहक जोड़े। लेकिन इस दौरान भारती एयरटेल, टाटा टेलीसर्विसेज, वोडाफोन आइडिया, एमटीएनएल और रिलायंस कम्युनिकेशंस के ग्राहकों की संख्या कम हुई।  इस दौरान जियो के ग्राहकों की संख्या 80 लाख से अधिक बढ़कर 31.48 करोड़ हो गई। बीएसएनएल के ग्राहकों की संख्या 2.32 लाख बढ़कर 11.58 करोड़ पर पहुंच गई।

अप्रैल में भारती एयरटेल के ग्राहकों की संख्या में 32.8 लाख की कमी आई। इसी तरह टाटा टेलीसर्विसेज के ग्राहकों की संख्या 29.5 लाख, वोडाफोन आइडिया की 15.8 लाख, एमटीएनएल की 4,170 और आरकॉम के की 108 घट गई।  माह के दौरान देश में लैंडलाइन कनेक्शनों की संख्या मार्च के 2.17 करोड़ से घटकर 2.14 करोड़ रह गई। बता दें कि जियो के आने के बाद से देशभर में टेलीकॉम कंपनियां एक दूसरे को टक्कर दे रही है। इसका सबसे ज्यादा फायदा टेलीकॉम कस्टमर्स को मिल रहा है। कंपनियां अपनेा ग्राहक बेस बढ़ाने के लिए कस्टमर्स को कई बेनीफिट दे रही हैं।

बता दें कि देश में इन दिनों टेलीकॉम कंपनियां 5G नेटवर्क पर काम कर रही हैं। सरकारी दूरसंचार कंपनी बीएसएनएल और नोकिया मिलकर नई 5G नेटवर्क टेक्नोलॉजी पर काम कर रहे हैं। इसके साथ ही बीएसएनएल नोकिया और चीनी कंपनी जेडटीई के साथ 5जी प्रौद्योगिकी का रोडमैप तैयार करने पर काम कर रही है। इस साल की शुरुआत में नोकिया और बीएसएनएल ने एक नेटवर्क आधुनिकीकरण समझौता किया था, जिसके तहत देश के पश्चिमी और दक्षिणी क्षेत्रों में 4जी और वॉयसओवर एलटीई (वीओएलटीई) सेवाएं लांच की जाएंगी।

  • Published Date: June 25, 2019 2:36 PM IST