comscore ISRO स्पाई सैटेलाइट RISAT-2BR1 11 दिसंबर को होगा लॉन्च | BGR India Hindi
News

ISRO 11 दिसंबर को जासूसी सहित 10 उपग्रह लॉन्च करेगा

भारत का ध्रुवीय उपग्रह प्रक्षेपण यान (पीएसएलवी) रॉकेट 11 दिसंबर को देश के नवीनतम जासूसी उपग्रह आरआईएसएटी-2बीआर1 और नौ विदेशी उपग्रहों को लॉन्च करेगा। भारतीय अंतरिक्ष एजेंसी ने यह जानकारी दी। भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) के अनुसार, रॉकेट पीएसएलवी-सी48 अपरान्ह 3.25 बजे आरआईएसएटी-2बीआर1 के साथ उड़ान भरेगा।


देश के अंतरिक्ष एजेंसी इसरो (Indian Space Research Organisation – ISRO) का  Polar Satellite Launch Vehicle (PASL) रॉकेट 11 दिसंबर को देश के नवीनतम जासूसी उपग्रह आरआईएसएटी-2बीआर1 और नौ विदेशी उपग्रहों को लॉन्च करेगा। भारतीय अंतरिक्ष एजेंसी ने यह जानकारी दी। भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) के अनुसार, रॉकेट पीएसएलवी-सी48 अपरान्ह 3.25 बजे आरआईएसएटी-2बीआर1 के साथ उड़ान भरेगा। आआईएसएटी-2बीआर1, एक रडार इमेजिंग पृथ्वी निगरानी उपग्रह है, जिसका भार 628 किलो है।


रॉकेट, आंध्र प्रदेश के श्रीहरिकोटा रॉकेट पोर्ट के पहले लॉन्च पैड से लॉन्च होगा और आरआईएसएटी-2बीआर1 को 576 किमी की कक्षा में स्थापित करेगा। उपग्रह की आयु पांच साल की होगी।

भारतीय उपग्रह के साथ नौ विदेशी उपग्रह भी जाएंगे, जिसमें अमेरिका (मल्टी-मिशन लेमूर-4 उपग्रह), टेक्नोलॉजी डिमॉस्ट्रेशन टायवाक-0129, अर्थ इमेजिंग 1हॉपसैट), इजरायल (रिमोट सेंसिंग डुचिफट-3), इटली (सर्च एंड रेस्क्यू टायवाक-0092) व जापान (क्यूपीएस-एसएआर-एक रडार इमेजिंग अर्थ ऑब्जरर्वेशन सैटेलाइट) शामिल हैं। इन अंतर्राष्ट्रीय उपभोक्ता उपग्रहों को एक वाणिज्यिक व्यवस्था के साथ न्यूस्पेस इंडिया लिमिटेड (एनएसआईएल) के तहत लॉन्च किया जा रहा है।

बता दें कि इसरो के PASLV ने बीते बुधवार सुबह Cartosat-3 सेटेलाइट को पृथ्वी की कक्षा में सफलतापूर्वक स्थापित किया। इसके साथ ही इसरो ने अमेरिका के 13 वाणिज्यिक छोटे उपग्रहों को भी उनकी निर्धारित कक्षा में स्थापित कर दिया। पीएसएलवी-सी47 को श्रीहरिकोटा स्थित सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र शार से बुधवार सुबह 9.28 बजे अंतरिक्ष के लिए छोड़ा गया। इस दौरान आसमान में बादल छाए हुए थे। काटरेसैट-3 उपग्रह उच्च गुणवत्ता की तस्वीरें लेने की क्षमता से लैस तीसरी पीढ़ी का उन्नत उपग्रह है। यह 509 किलोमीटर ऊंचाई पर स्थित कक्षा में 97.5 डिग्री पर स्थापित होगा।

बता दें कि पृथ्वी पर नजर रखने वाले भारत के उपग्रह  Cartosat-3 तीसरी पीढ़ी का बेहद चुस्त और उन्नत उपग्रह है जिसमें हाई रिजोल्यूशन तस्वीर लेने की क्षमता है। इस कार्टोसैट श्रृंखला का नौवां उपग्रह है जिसे यहां से 120 किलोमीटर दूर श्रीहरिकोटा स्थित सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र के द्वितीय लांच पैड से प्रक्षेपित किया जाएगा।

(इनपुट – आईएएनएस हिंदी से भी)

  • Published Date: December 9, 2019 2:04 PM IST
  • Updated Date: December 9, 2019 3:27 PM IST