comscore 9 करोड़ रुपये में बिका ये लैपटॉप, इसमें मौजूद हैं दुनिया के 6 सबसे खतरनाक वायरस | BGR India
News

9 करोड़ रुपये में बिका ये लैपटॉप, इसमें मौजूद हैं दुनिया के 6 सबसे खतरनाक वायरस

लैपटॉप में Wanna Cry रैनसमवेयर, BlackEnery वायरस, MyDoom वायरस और ILOVEYOU जैसे वायरस भी मौजूद हैं।

worlds-most-dangerous-laptop

Image Credit: The Verge



दुनिया के 6 सबसे खतरनाक वायरस वाला सैमसंग का लैपटॉप करीब 9 करोड़ रुपये में बिका है। ऑन लाइन नीलामी के दौरान इंटरनेट आर्टिस्ट गुओ ओ डॉन्ग ने Samsung NC10 लैपटॉप को एक आर्टवर्क के रूप में बेचा है। माइक्रोसॉफ्ट के Windows XP ऑपरेटिंग सिस्टम पर चलने वाले इस लैपटॉप में मौजूद 6 वायरस के कारण अब तक करीब 95 अरब डॉलर का नुकसान हो चुका है। इस लैपटॉप को The Persistence of Chaos नाम दिया गया है। Also Read - Xiaomi Smart TV X Series और Notebook Pro 120G लैपटॉप भारत में लॉन्च, जानें कीमत और स्पेसिफिकेशन

लैपटॉप में मौजूद हैं ये खतरनाक वायरस

The Persistence of Chaos लैपटॉप में Wanna Cry रैनसमवेयर, BlackEnery वायरस, MyDoom वायरस और ILOVEYOU जैसे वायरस भी मौजूद हैं। बता दें कि Wanna Cry रैनसमवेयर वायरस के कारण साल 2017 में 150 देशों के 200,000 से ज्यादा कंप्यूटर प्रभावित हुए थे। Wanna Cry के कारण ब्रिटेन की नेशनल हेल्थ सर्विस और फ्रांस में रेनॉ की फैक्ट्री में काम ठप हो गया था। Also Read - चीनी हैकर्स के निशाने पर तिब्बती शरणार्थी, खतरनाक वायरस Follina के जरिए पहुंचा रहे नुकसान

वहीं BlackEnery वायरस के कारण यूक्रेन और आसपास के इलाकों में पावर ग्रिड को बंद कर दिया था। वायरस से भरे इस लैपटॉप में ILOVEYOU वायरस भी है। इस वायरस ने साल 2000 में 5 लाख से ज्यादा कंप्यूटर प्रभावित किया। इसके साथ साथ इस लैपटॉप में MyDoom, SoBig और DarkTequila जैसे वायरस भी हैं। Also Read - Gaming Laptops under 50k: Intel Core i5 प्रोसेसर, 8GB RAM और 512GB SSD स्टोरेज से लैस बेस्ट गेमिंग लैपटॉप, जिनकी कीमत है 50 हजार रुपये से कम

इंटरनेट आर्टिस्ट गुओ ओ डॉन्ग ने साइबर सिक्यॉरिटी कंपनी डीप इन्स्टिंक्ट के साथ मिलकर इस लैपटॉप को तैयार किया है। सिक्यॉरिटी कंपनी डीप इन्स्टिंक्ट ने इस लैपटॉप के लिए वायरस सप्लाई किए हैं। कंपनी का दावा है कि ये वायरस यूजर्स के लिए किसी तरह से खतरा पैदा नहीं करेंगे। इसके लिए प्रर्याप्त कदम उठाए गए हैं। कंपनी ने इस लैपटॉप को ‘एयर-गैप्स’ मोड में रखा है। इसमें यूएसबी, वाईफाई, लैन कनेक्टिविटी नहीं दी गई है। यानी इसे खरीदने वाला यूजर इस लैपटॉप को इंटरनेट से कनेक्ट नहीं नहीं कर सकता है इसलिए इसमें मौजूद खतरनाख वायरस इसी लैपटॉप में रहेंगे और दूसरे नेटवर्क में सर्कुलेट नहीं होंगे।

  • Published Date: May 29, 2019 4:59 PM IST

दुनियाभर की लेटेस्ट tech news और reviews के साथ best recharge, पॉप्युलर मोबाइल पर मिलने वाले एक्सक्लूसिव offers के लिए हमें फेसबुक, ट्विटर पर फॉलो करें। Also follow us on  Facebook Messenger for latest updates.