comscore Microsoft ने कहा, अमेरिका-यूरोप में साइबर हमलों के पीछे हैं रूसी हैकर्स
News

Microsoft ने कहा, अमेरिका-यूरोप में साइबर हमलों के पीछे हैं रूसी हैकर्स: जानें पूरा मामला

यह पहली बार नहीं है जब Nobelium ने सोलरविंड्स हमले के बाद वापसी की है। माइक्रोसॉफ्ट ने मई में घोषणा की थी कि इसने सरकारी एजेंसियों, थिंक टैंक, सलाहकारों और अन्य संगठनों पर समूह द्वारा हमलों की एक श्रृंखला का पता लगाया है।

Microsoft

माइक्रोसॉफ्ट ने सोमवार को कहा कि अमेरिका और यूरोपीय टारगेट्स के खिलाफ चल रहे मौजूदा हमलों के पीछे राज्य-समर्थित रूसी हैकिंग समूह है। कंपनी का कहना है कि यह ग्रुप वही है, जिसने पिछले साल बड़े पैमाने पर सोलरविंड्स साइबर हमले को अंजाम दिया था। Also Read - Microsoft Surface Go 3 भारत में हुआ लॉन्च, प्री-आर्डर पर मिलेगा 9,699 रुपये का फायदा

Microsoft के थ्रेट इंटेलिजेंस सेंटर (MSTIC) ने एक ब्लॉग पोस्ट में कहा कि Nobelium ग्रुप क्लाउड कंप्यूटिंग सर्विस और दूसरे IT सर्विस प्रोवाइडर्स के ग्राहकों का एक्सेस लेने की कोशिश कर रहा था, ताकि ये “सरकारों, थिंक टैंक और उनकी सेवा करने वाली अन्य कंपनियों” में घुसपैठ कर सके। Also Read - Microsoft ने लॉन्च किया Windows 11 SE और Surface Laptop SE, नए लैपटॉप के लिए पेश हुआ नया ओएस

साइबर हमले को “नेशन-स्टेट एक्टिविटी” के रूप में वर्णित करते हुए, MSTIC ने कहा कि यह सोलरविंड्स पर हमले के “हॉलमार्क” साझा करता है। AFP की खबर के मुताबिक, Wedbush विश्लेषक Dan Ives ने निवेशकों को एक नोट में कहा, “ऐसा प्रतीत होता है कि पिछले साल के हमले से व्यापक सोलरविंड्स रूस से जुड़े हैकर फिर से संवेदनशील डेटा की तलाश में हैं और बोर्ड भर में आपूर्ति श्रृंखला हमलों को आगे बढ़ा रहे हैं।” Also Read - Microsoft ने Apple को छोड़ा पीछे, बनी सबसे दुनिया की 'Most valuable publicly-traded' कंपनी

सोलरविंड्स हमले में मॉस्को की कथित संलिप्तता, चुनावी हस्तक्षेप और अन्य शत्रुतापूर्ण गतिविधियों के प्रतिशोध में वाशिंगटन ने अप्रैल प्रतिबंध लगाए और रूसी राजनयिकों को निष्कासित कर दिया। MSTIC का कहना है कि नवीनतम हमला कम से कम मई से चल रहा है, जिसमें Nobelium ने “विविध और परिष्कृत मालवेयर वाली टूलकिट” का इस्तेमाल कर रहा है।

Nobelium ग्रुप पर Microsoft ने क्या कहा

Microsoft के वाइस प्रेसिडेंट Tom Burt ने रविवार देर रात प्रकाशित एक ब्लॉग पोस्ट में लिखा, “Nobelium वैश्विक IT आपूर्ति श्रृंखला के अभिन्न संगठनों को लक्षित करके पिछले हमलों में इस्तेमाल किए गए दृष्टिकोण को दोहराने का प्रयास कर रहा है।” इन्होंने लिखा कि इस बार नोबेलियम री-सेलर्स को लक्षित कर रहा है। ये ऐसी कंपनियां हैं, जो व्यवसायों और अन्य संगठनों द्वारा उपयोग के लिए माइक्रोसॉफ्ट की क्लाउड कंप्यूटिंग सेवाओं को अनुकूलित करती हैं।

ये आगे लिखते हैं:

“मई के बाद से, हमने 140 से अधिक पुनर्विक्रेताओं और प्रौद्योगिकी सेवा प्रदाताओं को अधिसूचित किया है जिन्हें नोबेलियम द्वारा लक्षित किया गया है। हमारी जांच अभी भी जारी है, मगर हमें लगता है कि इनमें से 14 री-सेलर्स और सर्विस प्रोवाइडर्स को के साथ समझौता किया गया है।”

Microsoft ने कहा कि इसने नवीनतम हमले के ज्ञात पीड़ितों को सूचित कर दिया है। कंपनी ने इनमें से किसी भी संगठन के नाम का खुलासा नहीं किया, मगर यह बताया कि इनमें “खुफिया लाभ के लिए रुचि के शिकार” शामिल थे।

यह पहली बार नहीं है जब Nobelium ने सोलरविंड्स हमले के बाद वापसी की है। माइक्रोसॉफ्ट ने मई में घोषणा की थी कि इसने सरकारी एजेंसियों, थिंक टैंक, सलाहकारों और अन्य संगठनों पर समूह द्वारा हमलों की एक श्रृंखला का पता लगाया है।

दुनियाभर की लेटेस्ट tech news और reviews के साथ best recharge, पॉप्युलर मोबाइल पर मिलने वाले एक्सक्लूसिव offers के लिए हमें फेसबुक, ट्विटर पर फॉलो करें। Also follow us on  Facebook Messenger for latest updates.

  • Published Date: October 26, 2021 3:36 PM IST



new arrivals in india

Best Sellers