comscore वनप्लस स्मार्टफोन यूजर्स सावधान: प्राइवेसी है खतरे में! | BGR India
News

वनप्लस स्मार्टफोन यूजर्स सावधान: प्राइवेसी है खतरे में!

कंपनी के द्वारा ऑपरेटिंग सिस्टम की कुछ इंटर्नल फाइल में किए बदलाव वनप्लस स्मार्टफोन के GPS संबंधित डाटा को असुरक्षित HTTP चैनल के जरिए जबरदस्ती डाउनलोड कराता है।

oneplus-6-rear-camera

आज के समय में ज्यादातर यूजर्स स्मार्टफोन का इस्तेमाल करते हैं और उनमें से कई यूजर्स को अपने स्मार्टफोन के बारे में काफी कम जानकारी होती है। यदि ऐसे में हम आपको बताए कि आपका स्मार्टफोन आपकी कई प्राइवेट जानकारियों से समझौता कर रहे हैं। कुछ ऐसा ही एक हालिया रिपोर्ट के जरिए सामने आया है कि यदि आप वनप्लस कंपनी का स्मार्टफोन इस्तेमाल करते हैं, तो ऐसा हो सकता है कि आपकी प्राइवेसी के साथ समझौता हो रहा हो। आपको बता दें कि आपके स्मार्टफोन में केवल एक OS नहीं होता है। Punika Web नाम की एक वेबसाइट की रिपोर्ट में बताया गया है कि स्मार्टफोन में बातचीत करने के लिए एक सेल्युलर मॉडम भी शामिल होता है। यह मॉडम खुद के ऑपरेटिंग सिस्टम के जरिए काम करता है, जिसे बेसबैंड कहते हैं।
यह रेडियो इंटरफेस लेयर (RIL) के जरिए एंड्रॉइड के साथ मिलकर काम करता है। इसी तरह स्मार्टफोन में शामिल GPS, WiFi, Bluetooth जैसे हार्डवेयर कंपोनेंट भी खुद का फर्मवेयर यूज करते हैं। ये सब कंपोनेंट वेंडर द्वारा बनाए गए इंटरफेस के जरिए एंड्रॉइड ऑपरेटिंग सिस्टम के साथ मिलकर काम करते हैं।

Punika वेब की रिपोर्ट से पता चला है कि OnePlus के इंजीनियरों ने एंड्रॉइड की स्टैंडर्ड AOSP पॉलिसी को बदलकर gps.conf नाम की फाइल का डिबग बिल्ड अपने कस्टम स्किन OxygenOS में दे दिया है। रिपोर्ट से पता चला है कि OnePlus के इंजीनियर ने एक फाइल में असुरक्षित XTRA डाटा सर्वर को एक्टिवेट कर दिया है।

LineageOS में योगदान देने वाले Louis Popi (h2o64) के साथ मिलकर वेबसाइट ने पता लगाया है कि यह बदलाव वनप्लस स्मार्टफोन के GPS संबंधित डाटा को असुरक्षित HTTP चैनल के जरिए जबरदस्ती डाउनलोड कराता है। इस विषय पर वनप्लस को रिपोर्ट करने पर भी वेबसाइट को कोई उत्तर नहीं मिला है। बाद में वनप्लस की बग हंटर टीम के सदस्य Jeff H ने वेबसाइट को कहा कि यह समस्या आने वाली अपडेट में फिक्स कर दी जाएगी।

  • Published Date: March 29, 2019 10:27 AM IST