comscore OPPO ColorOS 7 गेमिंग को अगले लेवल पर ले जाएगा | BGR India Hindi
News

OPPO ColorOS 7 भारत में गेमिंग को अगले लेवल पर ले जाएगा

चीन की स्मार्टफोन बनाने वाली कंपनी ओप्पो ने कहा कि उसका लेटेस्ट फीचर पैक्ड 'ColorOS 7' गेमिंग को अगले लेवल में ले जाने के लिए पूरी तरह तैयार है। कंपनी ने कहा कि भारत में गेमर्स की जरूरतों को पूरा करने के लिए उसके दोनों हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर पहलू पूरी तरह से तैयार है।

ColorOS 7

चीन की स्मार्टफोन बनाने वाली कंपनी ओप्पो ने कहा कि उसका लेटेस्ट फीचर पैक्ड ‘ColorOS 7‘ गेमिंग को अगले लेवल में ले जाने के लिए पूरी तरह तैयार है। कंपनी ने कहा कि भारत में गेमर्स की जरूरतों को पूरा करने के लिए उसके दोनों हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर पहलू पूरी तरह से तैयार है। गेल स्पेस और गेम अस्सिटेंट फीचर के साथ-साथ एक टेक सोल्यूशन कवरिंग टच के सेट और फ्रेम ऑप्टेमाइजेशन सहित स्मार्ट सिस्टम लेयर्स के एक संयोजन के माध्यम से कलरओएस7 यूजर को स्मूथ और एफर्टलेस गेमप्ले का अनुभव प्रदान करता है।
ओप्पो कलरओएस के सीनियर स्ट्रेटजी मैनेजर मार्टिन लियु ने एक बयान में कहा, “मोबाइल गेमिंग बाजार का एक अभिन्न हिस्सा है, यही कारण है कि हमारी हैदराबाद स्थित आर एंड डी टीम कलरओएस7 को और अधिक अनुकूल बनाने के लिए प्रतिबद्ध है, जो विशेष रूप से देश के बढ़ते मोबाइल गेमिंग प्रशंसक आधार के लिए डिजाइन किए गए ²श्य और गेमिंग विशेषताओं पर केंद्रित है।” कलरओएस7 के माध्यम से ओप्पो का उद्देश्य गैर-जवाबदेही, लैगिंग और ड्रॉप्ड फ्रेम रेट जैसी समस्याओं को हल करना है।


इसमें यूजर्स की प्राइवेसी को प्रमुखता देने वाले डॉक वॉल्ट, प्राइवेट सेफ जैसे कई फीचर जोड़े गए हैं। डॉक वॉल्ट में ग्राहक अपने ड्राइविंग लाइसेंस, आधार कार्ड, पैन कार्ड जैसे जरूरी दस्तावेजों को डिजिटल स्वरूप में रख सकते हैं। इस एप को लेकर डाटा निजता उल्लंघन से जुड़ी चिंताओं के बारे में कुमार ने कहा कि ‘डॉक वॉल्ट’ एप पूरी तरह से कूट भाषा (इन्क्रिप्टेड) में तैयार की गयी है। कंपनी ने यह एप सरकार के दिशानिर्देशों के अनुरूप तैयार की है। इसे तैयार करने में उनके शोध इंजीनियरों ने छह माह से अधिक समय लगाया है।

कंपनी के हैदराबाद स्थित शोध-विकास केंद्र में नए ऑपरेटिंग सिस्टम के लिए कई स्थानीय फीचर जोड़े गए हैं। डॉक वॉल्ट उन्हीं में से एक है। इसके अलावा ‘दोपहिया वाहन मोड’, ‘कार मोड’ भी इसमें जोड़े गए हैं। कंपनी के इस शोध-विकास केंद्र पर करीब 300 इंजीनियर काम करते हैं।

  • Published Date: December 16, 2019 7:20 PM IST
  • Updated Date: December 17, 2019 1:34 PM IST