comscore 70 लाख से ज्यादा भारतीयों के बैंक अकाउंट खतरे में, 'डार्क वेब' में निजी जानकारियां हुई लीक
News

70 लाख से ज्यादा भारतीयों के बैंक अकाउंट खतरे में, 'डार्क वेब' में निजी जानकारियां हुई लीक

Personal Data of more than 70 Lakh Indians are on stake cyber security researcher warns: साइबर सिक्युरिटी (Cyber Security) रिसर्चर ने कहा कि ये फाइनेंशियल डाटाबेस है इसलिए ये हैकर्स और स्कैमर्स के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण है क्योंकि इसमें फिशिंग अटैक करने के लिए निजी डिटेल्स शामिल हैं। सिक्युरिटी फर्म का मानना है कि इस तरह के डाटा थर्ड पार्टी सर्विस प्रोवाइडर्स द्वारा लीक हुए हैं जो बैंक के क्रेडिट या डेबिड कार्ड्स कस्टमर्स को सेल कर रहे हैं।

21767-cyber-security-pixabay


इन दिनों यूजर्स के निजी डाटा लीक्स की घटनाएं आम हो गई हैं। आपके निजी डाटा (Personal Data) जैसे कि फोन नंबर, ई-मेल आईडी, क्रेडिट और डेबिट कार्ड तक की जानकारी हैकर्स के हाथों लग जाती हैं। सिक्युरिटी रिसर्चर राजशेखर रजारिया ने 8 दिसंबर को आगाह किया है कि 70 लाख से ज्यादा भारतीयों का निजी डाटा ‘डार्क वेब’ (हैकर्स द्वारा इस्तेमाल किया जाने वाला इंटरनेट सर्विस) पर लीक हुआ है। इसमें यूजर्स के नाम, उनके एनुअल इनकम और एंप्लायर की जानकारियां आदि शामिल हैं। Also Read - TikTok के 200 करोड़ से ज्यादा यूजर्स की डिटेल लीक, चुराई गई निजी जानकारियां

डार्क वेब पर लीक हुए इस डाटाबेस की साइज 2GB है जिनमें ये जानकारियां भी शामिल हैं कि यूजर्स किस तरह का अकाउंट इस्तेमाल कर रहे हैं और उन्होंने मोबाइल अलर्ट सर्विस ली है या नहीं। सिक्युरिटी रिसर्चर ने IANS को बताया कि, ये डाटाबेस साल 2010 से लेकर 2019 के बीच का है जो कि हैकर्स और साइबर क्रिमिनल्स के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण हो सकता है। Also Read - EPFO के 28 करोड़ PF Account Holders का डाटा लीक! चेक करें कहीं आपका तो नहीं हुआ 'नुकसान'

5 लाख यूजर्स के PAN कार्ड नंबर भी हैं शामिल

साइबर सिक्युरिटी (Cyber Security) रिसर्चर ने कहा कि ये फाइनेंशियल डाटाबेस है इसलिए ये हैकर्स और स्कैमर्स के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण है क्योंकि इसमें फिशिंग अटैक करने के लिए निजी डिटेल्स शामिल हैं। सिक्युरिटी फर्म का मानना है कि इस तरह के डाटा थर्ड पार्टी सर्विस प्रोवाइडर्स द्वारा लीक हुए हैं जो बैंक के क्रेडिट या डेबिड कार्ड्स कस्टमर्स को सेल कर रहे हैं। साथ ही, उन्होंने ये भी कहा है कि लीक डाटा में करीब 5 लाख यूजर्स के PAN कार्ड नंबर आदि भी शामिल हैं। Also Read - Amazon की पूर्व महिला इंजीनियर को कोर्ट ने 10 करोड़ यूजर्स का डेटा चोरी करने का पाया दोषी

हालांकि, रिसर्चर ने इस डाटा की एक्यूरेसी के बारे में कंफर्म नहीं किया है। 70 लाख से ज्यादा यूजर्स का ये डाटा असली है या नहीं इसके बारे में उन्होंने कोई दावा नहीं किया है। सिक्युरिटी रिसर्चर का मानना है कि किसी ने इस डाटा को पहले डार्क वेब मे बेचा होगा जो बाद में पब्लिकली लीक हो गया है। इस समय इंटरनेट पर फाइनेंशियल डाटा सबसे मंहगे में बिकता है।

  • Published Date: December 9, 2020 7:34 PM IST
  • Updated Date: December 9, 2020 7:40 PM IST

दुनियाभर की लेटेस्ट tech news और reviews के साथ best recharge, पॉप्युलर मोबाइल पर मिलने वाले एक्सक्लूसिव offers के लिए हमें फेसबुक, ट्विटर पर फॉलो करें। Also follow us on  Facebook Messenger for latest updates.