comscore RBI ने किया ऐलान, जल्द शुरू होगा E-Rupee का पायलट प्रोजेक्ट-RBI Soon Start pilot project on digital currency e rupee CBDC here all details
News

RBI ने किया ऐलान, जल्द शुरू होगा E-Rupee का पायलट प्रोजेक्ट

RBI (Reserve Bank Of India) अर्थव्यवस्था को मजबूत बनाने और ऑनलाइन धोखाधड़ी को रोकने के लिए जल्द E-Rupee का पायलट प्रोजेक्ट शुरू करने वाला है। इसके अलावा DAKSH मॉनिटरिंग सिस्टम को भी लॉन्च किया गया है।

  • Published: October 7, 2022 8:55 PM IST

Highlights

  • E-Rupee का पायलट प्रोजेक्ट जल्द शुरू होगा
  • DAKSH सिस्टम लॉन्च हो गया है
  • ई-रुपये के आने से मजबूत बनेगी अर्थव्यवस्था
RBI


RBI (Reserve Bank Of India) ने भारत की अर्थव्यवस्था को मजबूत बनाने के लिए E-Rupee के पायलेट प्रोजक्ट जल्द शुरू करने का ऐलान कर दिया है। आरबीआई के इस कदम से पैसों के साथ होने वाली धोखाधड़ी को रोका जा सकेगा। साथ ही, इससे डिजिटलाइजेशन को भी बढ़ावा मिलेगा। Also Read - RBI Digital Rupee आज से होगा यूज, कैश रखने की नहीं पड़ेगी जरूरत!

RBI का बयान

केंद्रीय बैंक ने डिजिटल करेंसी को लेकर कहा कि ई-रुपये का पायलेट प्रोजक्ट जल्द शुरू होगा। इसकी खूबियों और इससे होने वाले फायदे की भी जानकारी दी जाएगी। हमारा मानना है ई-रुपये के आने से देश के लोगों को ऑनलाइन पेमेंट करने के लिए एक नया विकल्प मिलेगा। साथ ही, इससे डिजिटल इकोनॉमी भी तेजी से विकास करेगी। वहीं, ई-रुपये से पेमेंट सिस्टम भी मजबूत होगा। Also Read - RBI ने जारी की 34 गैर-कानूनी Forex Trading प्लेटफॉर्म्स की लिस्ट, यूजर्स को दी चेतावनी

CBDC

केंद्रीय बैंक के मुताबिक, CBDC पर भी काम चल रहा है। यह करेंसी नोट का डिजिटल रूप है, जिसे केंद्रीय बैंक द्वारा जारी किया जाता है। दुनियाभर के केंद्रीय बैंक इस समय CBDC को लॉन्च करने के तरीकों की तलाश कर रहे हैं। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि केंद्र सरकार ने आम बजट के दौरान डिजिटल रुपये लॉन्च करने का ऐलान किया था। Also Read - RBI जल्द करेगा Digital Currency की शुरुआत, अब कैश रखने की नहीं होगी कोई जरूरत

DAKSH सिस्टम हुआ लॉन्च

आरबीआई ने CBDC के अलावा DAKSH एडवांस मॉनिटरिंग सिस्टम को लॉन्च किया है। इस सिस्टम की मदद से पैसों के लेनदेन पर कड़ी निगरानी रखी जा सकेगी। आरबीआई का कहना है कि ‘दक्ष एक वेब बेस्ड एंड-टु-एंड वर्कफ्लो ऐप्लिकेशन है। इसके माध्यम से निगरानी का काम आसानी से किया जा सकेगा।

केंद्रीय बैंक का यह सिस्टम साइबर घटना की जानकारी देने और एनालाइज करने में सक्षम है। वहीं, इस सिस्टम में AI (आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस) और Machine Learning तकनीक का इस्तेमाल करने की भी योजना बनाई जा रही है। इसपर केंद्रीय बैंक की ओर से कोई जानकारी नहीं मिली है। विशेषज्ञों का मानना है कि बैंक इस सिस्टम को बेहतर बनाने के लिए बाहरी एक्सपर्ट्स की भी मदद लेगा।

  • Published Date: October 7, 2022 8:55 PM IST

दुनियाभर की लेटेस्ट tech news और reviews के साथ best recharge, पॉप्युलर मोबाइल पर मिलने वाले एक्सक्लूसिव offers के लिए हमें फेसबुक, ट्विटर पर फॉलो करें। Also follow us on  Facebook Messenger for latest updates.