comscore 5G स्पेक्ट्रम नीलामी का असर, Jio - Airtel - Vi बढ़ा सकते हैं 4G रिचार्ज प्लान रेट
News

5G स्पेक्ट्रम नीलामी का असर, Jio - Airtel - Vi बढ़ा सकते हैं 4G रिचार्ज प्लान रेट

5G स्पेक्ट्रम की नीलामी में जियो ने सबसे ऊंची बोली लगाई थी, जिससे इसका कुल खर्च 88,078 करोड़ बना है। भारती एयरटेल ने नीलामी में 43,084 करोड़ का खर्च उठाया और वोडाफोन आइडिया के हिस्से में 18,799 करोड़ रुपये का खर्च आया है।

5G-4G-pack-rate-hike

भारत में 5G स्पेक्ट्रम की नीलामी प्रक्रिया पूरी हो चुकी है, जहां 71 प्रतिशत एयरवेव्स के लिए 1.5 ट्रिलियन रुपये की बोली लगाई गई। मगर सभी टेलिकॉम ऑपरेटर्स को इस रकम को अदा करने के लिए अपने टैरिफ में 4 प्रतिशत की बढ़ोतरी करनी होगी। Also Read - BSNL भी 5G की रेस में शामिल, अगले साल पेश करेगा देश में 5G नेटवर्क

चूंकि Reliance Jio ने इस नीलामी में सबसे ऊंची बोली लगाई है, इसलिए इसे Bharti Airtel और Vodafone Idea के मुकाबले ज्यादा रेट बढ़ाने की जरूरत पड़ेगी। आइए इसके बारे में डिटेल में जानते हैं और यह भी देखते हैं कि देश में 5G प्लांस कितने महंगे या सस्ते हो सकते हैं। Also Read - Vi plans under 300: वोडाफोन के सस्ते रिचार्ज प्लान, कम खर्च में मिलेंगे कई बेनिफिट्स

Jio, Airtel, Vi को बढ़ाने होंगे 4G प्लांस के रेट

Nomura Research ने कहा कि बड़ी SUC बचत के साथ, टेलिकॉम ऑपरेटर्स को स्पेक्ट्रम के सालाना खर्च को सहन करने के लिए दो में से एक काम करना होगा। पहले ऑप्शन के तहत टेलिकॉम ऑपरेटर्स को कुल ग्राहकों पर 4 प्रतिशत इंक्रीमेंटल टैरिफ वृद्धि करनी होगी। Also Read - 5G Spectrum की नीलामी में जियो ने मारी बाजी, 1,50,173 करोड़ की रेस में सबसे पीछे रहा अडानी नेटवर्क

दूसरे ऑप्शन के तहत कंपनियों को 5G प्लांस पर 84 दिन की वैलिडिटी और 1.5GB डेली डेटा देने वाले पॉपुलर 4G प्लान के मुकाबले 30 प्रतिशत ज्यादा प्रीमियम चार्ज करना होगा।

Nomura Research के मुकाबले जियो को ऊंची बोली लगाने की वजह से अपने प्लान में सबसे ज्यादा बढ़त करनी होगी। SUC सेविंग्स के बाद Jio का स्पेक्ट्रम खर्च 5,290 करोड़ होगा, जो Bharti Airtel के 1,430 करोड़ के खर्च और Vi के 720 करोड़ के खर्च से बहुत ज्यादा है।

रिपोर्ट के मुताबिक, Bharti Airtel और Vodafone Idea को अपने रिचार्ज प्लान की कीमतों को 2 प्रतिशत बढ़ाना होगा, जबकि Reliance Jio को खर्च सहन करने के लिए प्लान में 7 प्रतिशत की बढ़त करनी होगी।

जैसा कि हमने पहले बताया, 5G स्पेक्ट्रम की नीलामी में जियो ने सबसे ऊंची बोली लगाई थी। इसकी वजह से इसका कुल खर्च 88,078 करोड़ बना है। भारती एयरटेल ने नीलामी में 43,084 करोड़ का खर्च उठाया और वोडाफोन आइडिया के हिस्से में 18,799 करोड़ रुपये का खर्च आया है।

सरकार ने कहा है कि इस नीलामी में खरीदे गए और भविष्य में खरीदे गए स्पेक्ट्रम पर कोई स्पेक्ट्रम शुल्क नहीं लगेगा। इसलिए, अगर कोई टेलिकॉम कंपनी जीरो SUC के साथ बड़ी मात्रा में 5G एयरवेव्स खरीदती है, तो उसका कुल भुगतान तेजी से गिर जाएगा।

दुनियाभर की लेटेस्ट tech news और reviews के साथ best recharge, पॉप्युलर मोबाइल पर मिलने वाले एक्सक्लूसिव offers के लिए हमें फेसबुक, ट्विटर पर फॉलो करें। Also follow us on  Facebook Messenger for latest updates.

  • Published Date: August 3, 2022 11:56 AM IST
  • Updated Date: August 3, 2022 1:22 PM IST



new arrivals in india