comscore कॉल ड्राप पर दूरसंचार कंपनियों को कारण बताओ नोटिस: ट्राई प्रमुख | BGR India
News

कॉल ड्राप पर दूरसंचार कंपनियों को कारण बताओ नोटिस: ट्राई प्रमुख

नये नियमों के अंतर्गत दूरसंचार कंपनियों को कॉल ड्राप के लिये अधिकतम10 लाख रुपये का जुर्माना देना पड़ सकता है।

  • Updated: February 15, 2022 5:03 PM IST
TRAI

दूरसंचार नियामक ट्राई ने आज कहा कि कुछ दूरसंचार परिचालकों को कॉल ड्राप के मामले में सेवा गुणवत्ता के नये नियमों को पूरा करने में विफल रहने को लेकर कारण बताओ नोटिस दिया गया है। उन्हें इस सप्ताह तक जवाब देने को कहा गया है। Also Read - 5G in India: सितंबर से ले सकेंगे सुपरफास्ट 5G सर्विस का आनंद, जानें 5 अहम बातें

Also Read - TRAI करेगा स्पेशल ऑडिट, मोबाइल नंबर पोर्टिंग में 'खेल' करने वाली कंपनियों पर गिरेगी गाज

भारतीय दूरसंचार नियामक प्राधिकरण( ट्राई) के चेयरमैन आर एस शर्मा ने उन कंपनियों का नामसार्वजनिक कर उन्हें शर्मिदा करना नहीं चाहता। उन्होंने उन कंपनियों के नाम बताने से मना कर दिया जिसे कारण बताओ नोटिस दिये गये हैं। Also Read - Truecaller जैसे ऐप्स की बंद होगी 'दुकान', अब अपने आप पता चलेगा फोन करने वाले का असली नाम

उन्होंने पीटीआई भाषा से कहा कि नियामक मानदंडों का पालन नहीं करने वाली कंपनियों का नाम सार्वजनिक नहीं करना चाहेगी। शर्मा ने कहा कि संशोधित गुणवत्ता सेवा मानदंडों का पालन नहीं करने को लेकर विशिष्ट सर्किलों के लिये संबंधित कंपनियों को कारण बताओ नोटिस जारी किया गया है।

आकलन में नये और अधिक कड़े कॉल ड्राप नियमों को मानक बनाया गया है जो एक अक्तूबर2017 में प्रभाव में आया। इन मानदंडों के तहत दिसंबर तिमाही में पहली बार कंपनियों ने अपने नेटवर्क डेटा के बारे में जानकारी दी।

नये नियमों के अंतर्गत दूरसंचार कंपनियों को कॉल ड्राप के लिये अधिकतम10 लाख रुपये का जुर्माना देना पड़ सकता है। इसका आकलन मोबाइल टावर के स्तर पर किया जाएगा न कि दूरसंचार सर्किल के स्तर पर।

उन्होंने कहा कि संबंधित दूरसंचार कंपनियों के जवाब ओने के बाद ट्राई एक महीने में कार्रवाई के बारे में निर्णय करेगा। हालांकि उन्होंने यह नहीं बताया कि कितनी कंपनियों को कारण बताओ नोटिस जारी किये गये हैं।

शर्मा ने कहा, ‘‘ प्रक्रिया के तहत हमने उन्हें कुछ समय दिया है… जवाब देने की समयसीमा इस सप्ताह समाप्त हो रही है।’’ कंपनियों को नोटिस अक्तूबर- दिसंबर2017 में उनके नेटवर्क के प्रदर्शन के आधार पर दिये गये हैं।

यह पूछे जाने पर कि नियामक के पास जो आंकड़े हैं क्या उससे कॉल ड्राप की स्थिति खराब होने का पता चलता है, शर्मा ने कहा, ‘‘ मैं इस पर कोई सामान्य सा बयान नहीं दे सकता क्योंकि कोई सर्किल हो सकता है जहां स्थिति खराब हुई है लेकिन कुछ सर्किल ऐसे भी हो सकते हैं, जहां चीजें बेहतर हुई हैं… ।’’

दुनियाभर की लेटेस्ट tech news और reviews के साथ best recharge, पॉप्युलर मोबाइल पर मिलने वाले एक्सक्लूसिव offers के लिए हमें फेसबुक, ट्विटर पर फॉलो करें। Also follow us on  Facebook Messenger for latest updates.

  • Published Date: March 14, 2018 1:54 PM IST
  • Updated Date: February 15, 2022 5:03 PM IST



new arrivals in india