comscore अलर्ट! इन 2 एंड्रॉइड वायरस से रहे सावधान, खाली कर देंगे बैंक बैलेंस | BGR India
News

अलर्ट! इन 2 एंड्रॉइड वायरस से रहे सावधान, खाली कर देंगे बैंक बैलेंस

भारत में एंड्रॉइड यूजर्स के फाइनेंशियल डाटा में सेंधमारी करने वाले दो नए वायरस की पहचान हुई है। इन वायरस को लेकर ग्लोबल आईटी सिक्योरिटी फर्म क्विक हील ने चेतावनी जारी की है।

Untitled design (20)

भारत में एंड्रॉइड यूजर्स के फाइनेंशियल डाटा में सेंधमारी करने वाले दो नए वायरस की पहचान हुई है। इन वायरस को लेकर ग्लोबल आईटी सिक्योरिटी फर्म क्विक हील ने चेतावनी जारी की है। क्विक हील का कहना है कि ये एंड्रॉइड वायरस यूजर्स के कॉन्फिडेंशियल डाटा को चुरा रहे हैं। वायरस यूजर्स के मोबाइल बिहेवियर्स के जरिए उसके गोपनीय डाटा तक अपनी पहुंच बना रहे हैं। Also Read - भूल जाइए सभी पासवर्ड! Google Password Manager को मिला जबरदस्त अपडेट

Also Read - 12MP+12MP+12MP कैमरा, A15 Bionic चिपसेट और OLED डिस्प्ले वाले iPhone 13 Mini को सस्ते में खरीदने का सुनहरा मौका, Flipkart पर मिल रहा बंपर Discount

Also Read - Apple नहीं बना पाया खुद का 5G मॉडम, 2023 iPhone में भी होगा Qualcomm का चिप

सिक्योरिटी फर्म क्विक हील का कहना है कि ये एंड्रॉइड बैकिंग ट्रोजन वायरस हैं। दोनों वायरस की पहचान सिक्योरिटी लैब ने ही की है। ये वायरस भारत के लीडिंग बैकिंग ऐप्स के अलावा यूजर्स के फेसबुक, व्हॉट्सऐप, स्काइप, इंस्टाग्राम और ट्विटर प्लेटफॉर्म को भी निशाना बना रहे हैं और वित्तीय जानकारी चुरा रहे हैं।

ये दोनों वायरस Android.Marcher.C और Android.Asacub.T हैं। दोनों वायरस यूजर्स को निशाना बनाकर उसकी ओटीपी को हैकर्स तक पहुंचाकर ऑनलाइन ट्रांजैक्शन को अंजाम दे रहे हैं। यानी हैकर्स इन वायरस के जरिए यूजर्स के खाते से पैसा निकाल रहे हैं।

दरअसल, भारतीय यूजर्स गूगल प्ले स्टोर से अक्सर किसी भी थर्ड पार्टी ऐप को डाउनलोड कर लेते हैं। ये सारे ऐप्स अनवेरिफाइड होते हैं और अक्सर एसएमएस और ईमेल के जरिए यूजर्स को इनके बारे में जानकारी मिलती है। यानी यूजर्स मैसेज पर आने वाले किसी भी लिंक को क्विक करके ऐप को डाउनलोड कर लेते हैं जो कि वायरस होता है। नया वायरस भी ऐसे ही यूजर्स को निशाना बना रहे हैं और फिर उसकी फाइनेंशियल जानकारी को चुरा रहा है।

क्विक हील टेक्नोलॉजी लिमिटेड के सीईओ संजय खट्टर का कहना है कि मैसेज या मेल पर आने वाले लिंक्स से ऐप को डाउनलोड करने पर यूजर्स अपनी जानकारी हैकर्स को दे बैठते हैं और उनके कॉन्फिडेंशियल इंफॉर्मेशन में सेंधमारी हो जाती है। उनका कहना है कि ये दो नए मालवेयर हैं, इनका डिजाइन  वास्तविक ऐप की तरह है जिससे कोई भी धोखा खा सकता है। हालांकि, यह पहली बार नहीं है जब क्विक हील सिक्योरिटी लैब ने किसी वायरस को डिटेक्ट किया है, इससे पहले भी कंपनी कई खतरनाक ऐप्स की पहचान कर चुकी है।

दुनियाभर की लेटेस्ट tech news और reviews के साथ best recharge, पॉप्युलर मोबाइल पर मिलने वाले एक्सक्लूसिव offers के लिए हमें फेसबुक, ट्विटर पर फॉलो करें। Also follow us on  Facebook Messenger for latest updates.

  • Published Date: June 13, 2018 12:15 PM IST
  • Updated Date: February 15, 2022 5:10 PM IST



new arrivals in india