comscore Truecaller जैसे ऐप्स की बंद होगी 'दुकान', अब अपने आप पता चलेगा फोन करने वाले का असली नाम
News

Truecaller जैसे ऐप्स की बंद होगी 'दुकान', अब अपने आप पता चलेगा फोन करने वाले का असली नाम

भारतीय दूरसंचार विभाग की विशेष सलाह पर TRAI अब एक ऐसा सिस्टम बनाने जा रहा है, जिससे कॉल करने वाले यूजर्स को KYC-Based नाम यूजर्स के मोबाइल स्क्रीन पर आ जाएगा। ऐसे में Truecallers जैसे ऐप्स की यूजर्स को कोई जरूरत नहीं होगी। आइए हम आपको इस खबर के बारे में बताते हैं।

Truecaller-Message-Features

(Image: Truecaller)


जब आपके फोन में कोई अंजान व्यक्ति फोन करता है, जिसका नंबर आपके फोन में सेव ना हो तो आप क्या सोचते हैं? आप यह जरूर सोचते होंगे कि खास फोन करने वाले का नाम पता चल जाता। अब इसके लिए आप ट्रूकॉलर जैसे ऐप्स का इस्तेमाल करते हैं, ताकि आपको कॉल करने वाले व्यक्ति का नाम पता चल सके। अब ट्रूकॉलर जैसे ऐप्स में एक समस्या होती है कि आप उनके द्वारा बताए गए नामों पर यकीन नहीं कर सकते क्योंकि वो गलत भी होते हैं। Also Read - Truecaller लाया 5 मजेदार फीचर्स, अब Caller ID के लिए बना सकेंगे क्रिएटिव वीडियो

इसके अलावा Truecaller के जरिए उन्हीं व्यक्तियों का नाम पता चलता है, जिसने खुद को ट्रूकॉलर पर रजिस्टर किया हो। इन सभी समस्याओं से अब यूजर्स को निजात मिलने वाली है क्योंकि भारतीय दूरसंचार विभाग अब एक ऐसा सिस्टम तैयार कर रहा है, जिससे आपको फोन करने वाले व्यक्ति का वही नाम दिखाई देगा, जिस नाम से उसने आधार कार्ड आधारित केवाईसी कराया होगा। इसका मतलब आपको आसानी से कॉल करने वाले व्यक्ति की असली पहचान पता चल सकेगी और इसके लिए आपको ट्रूकॉलर टाइप किसी तरह के ऐप्स की भी जरूरत नहीं होगी। Also Read - TRAI करेगा स्पेशल ऑडिट, मोबाइल नंबर पोर्टिंग में 'खेल' करने वाली कंपनियों पर गिरेगी गाज

कॉलर्स की आसानी से होगी पहचान

आपको बता दें कि इस सिस्टम को तैयार करने के लिए भारत सरकार ने भी अब हरी झंडी दिखा दी है। भारतीय टेलीकॉम क्षेत्र का लेखा-जोखा रखने वाला भारतीय दूरसंचार विनियामक प्राधिकरण यानी TRAI ने इस मैक्निज़म को बनाने की पहल पहले ही शुरू कर दी थी लेकिन अब भारत सरकार ने इस विषय पर जोर देते हुए इसपर तेजी से काम करने के निर्देष दिए हैं। Also Read - पीएम मोदी ने भारत का पहला '5G टेस्टबेड' देश को किया समर्पित, 5G टेस्टिंग के लिए बनेंगे 'आत्मनिर्भर'

ऐसे में अब उम्मीद है कि ट्राई जल्द ही एक ऐसा सिस्टम तैयार कर लेगी, जिसकी मदद से अगर किसी यूजर्स को कोई अनजान व्यक्ति भी कॉल करेगा तो यूजर्स को अपने फोन पर वही नाम दिखाई देगा, जिस नाम से केवाईसी आधारिक उस मोबाइल कनेक्शन को लिया गया होगा। ऐसे में कॉलर की असली पहचान मिल जाएगी और इसके लिए ट्रूकॉलर जैसे किसी ऐप की भी जरूरत नहीं होगी। वहीं सरकारी रिकॉर्ड्स की जानकारी होगी तो इसका मतलब वो बिल्कुल सटीक यानी सही भी होगी।

जल्द शुरू होगा काम

इस सिस्टम के बारे में बात करते हुए भारतीय दूरसंचार विनियामक प्राधिकरण (ट्राई) के चेयरमैन पी डी वाघेला ने जानकारी दी कि, ‘इस सिस्टम को बनाने पर जल्द ही एक मीटिंग होने वाली है, जिसमें किसी यूजर्स को कॉल करने वाले कॉलर का KYC आधारित नाम उसके मोबाइल स्क्रीन पर दिखेगा। उन्होंने बताया कि अब उन्हें भारतीय दूरसंचार विभाग की तरफ से भी इस पर काम करने के निर्देष मिले हैं। ऐसे में अब जल्द ही इस तंत्र पर काम शुरू किया जाएगा’

दुनियाभर की लेटेस्ट tech news और reviews के साथ best recharge, पॉप्युलर मोबाइल पर मिलने वाले एक्सक्लूसिव offers के लिए हमें फेसबुक, ट्विटर पर फॉलो करें। Also follow us on  Facebook Messenger for latest updates.

  • Published Date: May 21, 2022 10:37 AM IST



new arrivals in india