comscore भारत के बाद US में भी TikTok होगा बैन? Google-Apple को मिला ऑर्डर
News

भारत के बाद US में भी TikTok होगा बैन? Google-Apple को मिला स्टोर से हटाने का ऑर्डर

Brendan Carr ने TikTok पर निशाना साधते हुए कहा, "यह ऐप सिर्फ एक वीडियो ऐप नहीं है। यह बस भेड़ की खाल है। यह ऐप सेंसिटिव डेटा को हार्वेस्ट करती है, जो रिपोर्ट्स के मुताबिक, बीजिंग में एक्सेस किया जा रहा है।"

TikTok

TikTok एक पॉपुलर वीडियो ऐप है, लेकिन इसका चीनी कनेक्शन इसके लिए मुसीबत बना हुआ है। इस ऐप की पैरेंट कंपनी बीजिंग-स्थित ByteDance है। भारत में TikTok को 58 अन्य ऐप्स समेत सिक्योरिटी चिंता के मद्देनजर जून 2020 में बैन कर दिया गया था और अब USA ने भी इसे हटाने का फैसला किया है। Also Read - TikTok और BGMI की भारत में होगी वापसी! Skyesports के CEO ने दी 100% गारंटी

United States Federal Communications Commission (US-FCC) कमिशनर Brendan Carr ने कहा कि इन्होंने एप्पल और गूगल को अपने ऐप स्टोर्स से हटाने के लिए लेटर भेजा है। आइए इस मामले को डिटेल में जानते हैं। Also Read - भारत समेत इन देशों में मोबाइल Apps पर यूजर्स डेली बिता रहे 4 से 5 घंटे

US-FCC कमिशनर क्यों चाहते हैं TikTok पर बैन

Brendan Carr ने TikTok पर निशाना साधते हुए कहा, “यह ऐप सिर्फ एक वीडियो ऐप नहीं है। यह बस भेड़ की खाल है। यह ऐप सेंसिटिव डेटा को हार्वेस्ट करती है, जो रिपोर्ट्स के मुताबिक, बीजिंग में एक्सेस किया जा रहा है।” ये आगे कहते हैं: Also Read - YouTube से ज्यादा TikTok देखने में 'बिजी' बच्चे, नई रिसर्च में खुलासा

“इसके मूल में, टिकटॉक एक परिष्कृत निगरानी उपकरण के रूप में कार्य करता है जो व्यक्तिगत और संवेदनशील डेटा की व्यापक मात्रा में हार्वेस्ट करता है।”

Carr ने कहा कि एप्पल और गूगल को इस ऐप को इसकी गुप्त डेटा प्रैक्टिस की वजह से हटा देना चाहिए। इन्होंने ट्वीट के जरिए दोनों कंपनियों को भेजे हुए लेटर भी शेयर किए हैं। इन्हें आप नीचे मौजूद ट्वीट में देख सकते हैं।

US-FCC लेटरहेड पर Carr के लेटर की तारीख 24 जून लिखी हुई है। इन्होंने एप्पल और गूगल को कहा है कि अगर ये दोनों कंपनियां TikTok को अपने स्टोर से नहीं हटाती हैं तो इन्हें 8 जुलाई तक इस बारे में जवाब देना होगा।

इस स्टेटमेंट में दोनों कंपनियों को अपने निष्कर्ष के बारे में बताना होगा कि “TikTok के भ्रामक प्रतिनिधित्व और आचरण के पैटर्न समेत US यूजर्स का निजी और संवेदनशील डेटा बीजिंग में स्थित व्यक्तियों द्वारा एक्सेस करना, कैसे किसी भी ऐप स्टोर नीति का उल्लंघन नहीं करता है।”

Carr ने लेटर में बजफीड न्यूज की एक रिपोर्ट का हवाला दिया। इसमें कहा गया है कि चीन में ByteDance के कर्मचारियों ने बार-बार गैर-सार्वजनिक अमेरिकी यूजर डेटा का उपयोग किया है। पब्लिकेशन द्वारा एक्सेस की गई TikTok की इंटर्नल मीटिंग की ऑडियो रिकॉर्डिंग में, नौ अलग-अलग कर्मचारियों ने चौदह अलग-अलग बयान दिए, जो दर्शाता है कि सितंबर 2021 और जनवरी 2022 के बीच अमेरिकी उपयोगकर्ता डेटा तक उनकी पहुंच थी।

TikTok की US स्क्रूटिनी प्रेसीडेंट Donald Trump के काल में हुई थी।

दुनियाभर की लेटेस्ट tech news और reviews के साथ best recharge, पॉप्युलर मोबाइल पर मिलने वाले एक्सक्लूसिव offers के लिए हमें फेसबुक, ट्विटर पर फॉलो करें। Also follow us on  Facebook Messenger for latest updates.

  • Published Date: June 30, 2022 11:33 AM IST
  • Updated Date: June 30, 2022 12:50 PM IST



new arrivals in india