comscore Xiaomi यूजर्स की एक्टिविटी ट्रैक कर रिमोट सर्वर पर भेज रहा है डाटा | BGR India Hindi
News

Xiaomi सुन रहा है यूजर्स की बातें, रिमोर्ट सर्वर में भेजा रहा है फोन का डाटा

रिपोर्ट के मुताबिक, Gabi Cirlig ने पाया कि शाओमी के डिफॉल्ट ब्राउजर में उन सभी वेबसाइट को रिकॉर्ड किया है जिनपर डिवाइस से विजिट किया गया है। इसमें गूगल और DuckDuckGo पर सर्च किए एक्टिविटीज भी हैं। उन्होंने यह भी पाया कि इनकॉग्निटो मोड की एक्टिविटीज भी रिकॉर्ड की गई  है। इसके साथ ही न्यूज फीड को भी रिकॉर्ड किया गया है।

Xiaomi Redmi Note 9 Pro 1

Photo: Dharmik Patel


चाइनीज स्मार्टफोन ब्रांड शाओमी (Xiaomi) को लेकर चौंकाने वाली खबर आ रही है। शाओमी अपने लाखों यूजर्स का डाटा रिकॉर्ड कर रहा है। Forbes की रिपोर्ट के मुताबिक, शाओमी अपने यूजर्स का डाटा दूसरी चाइनीज कंपनी Alibaba के रिमोर्ट सर्वर पर भेज रहा है। साइबर सिक्योरिटी रिसर्चर Gabi Cirlig ने इस रिपोर्ट में कहा है कि वे Redmi Note 8 स्मार्टफोन में वे जो कुछ कर रहे थे फोन यह डाटा रिकॉर्ड कर रहा था। यह डाटा रिमोर्ट सर्वर पर भेजा जा रहा है। Also Read - HTC Desire 20 Pro स्मार्टफोन का स्कैच हुआ लीक, सामने आया डिजाइन

रिपोर्ट के मुताबिक, Gabi Cirlig ने पाया कि शाओमी के डिफॉल्ट ब्राउजर में उन सभी वेबसाइट को रिकॉर्ड किया है जिनपर डिवाइस से विजिट किया गया है। इसमें गूगल और DuckDuckGo पर सर्च किए एक्टिविटीज भी हैं। उन्होंने यह भी पाया कि इनकॉग्निटो मोड की एक्टिविटीज भी रिकॉर्ड की गई  है। इसके साथ ही न्यूज फीड को भी रिकॉर्ड किया गया है। Also Read - किसी भी एंड्रॉयड स्मार्टफोन पर मिलेगा MIUI 12 का ये खास फीचर

इसके साथ ही शाओमी स्मार्टफोन दूसरे टास्क और एक्टिविटीज जैसे कौन सा फोल्डर ओपन किया और स्क्रीन का डाटा रिकॉर्ड किया गया है। यह डाटा कॉम्पाइल कर सिंगापुर और रूस के बीजिंग स्थित वेब डोमेन पर भेजा गया है। एक और साइबर सिक्योरिटी रिसर्चर Andrew Tierney ने पाया है कि Xiaomi browsers — Mi Browser Pro और Mint Browser जोकि Google Play Store  पर लिस्ट है वह भी इसी तरह का डाटा कलेक्ट करता है। Also Read - Xiaomi Mi Note 10 Lite स्मार्टफोन 4 बैक कैमरों, 32MP सेल्फी कैमरा के साथ लॉन्च, जानें कीमत

Gabi Cirlig ने अपनी रिपोर्ट में यह भी दावा किया है कि Xiaomi के दूसरे स्मार्टफोन जैसे Mi 10, Redmi K20 स्मार्टफोन के ब्राउजर कोड समान हैं। ऐसे में इन डिवासेज के जरिए भी डाटा चोरी किया जा सकता है। फोर्ब्स की रिपोर्ट पर शाओमी ने प्रतिक्रिया देते हुए इन आरोपों का खंडन किया है। शाओमी का कहना है कि प्राइवेसी और सिक्योरिटी कंपनी की शीर्ष प्राथमिकता है। उसका कहना है कि वह यूजर की डाटा प्राइवेसी को लेकर लोकल कानून और रेगूलेशन का सख्ती से पालन करता है।

दुनियाभर की लेटेस्ट tech news और reviews के साथ best recharge, पॉप्युलर मोबाइल पर मिलने वाले एक्सक्लूसिव offers के लिए हमें फेसबुक, ट्विटर पर फॉलो करें।

  • Published Date: May 1, 2020 4:38 PM IST