comscore Yes Bank Impact: PhonePe की सेवाओं पर पड़ा असर | BGR India Hindi
News

Yes Bank Impact: PhonePe, Swiggy, Flipkart की सेवाओं पर पड़ा असर, उपभोक्ता कर रहे शिकायत

रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने गुरुवार को सरकार से मशविरा करने के बाद यस बैंक पर रोक लगायी और उसके निदेशक मंडल को तत्काल प्रभाव से भंग कर दिया है।

phonepe App

Yes Bank Impact: रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने गुरुवार को सरकार से मशविरा करने के बाद यस बैंक पर रोक लगायी और उसके निदेशक मंडल को तत्काल प्रभाव से भंग कर दिया है। वहीं बैंक के ग्राहकों पर भी 50,000 रुपये मासिक तक निकासी करने की रोक लगायी है। यस बैंक किसी भी तरह का नया ऋण वितरण या निवेश भी नहीं कर सकेगा। यानी यस बैंक के खाताधारक अगले एक महीने तक 50 हजार रुपये से ज्यादा की निकासी नहीं कर पाएंगे। इसका प्रभाव ना सिर्फ यस बैंक के खाताधारकों पर पड़ा है, बल्कि थर्ड पार्टी एप्स भी प्रभावित हैं। Also Read - UPI ट्रांजैक्शन में पेटीएम पहले स्थान पर, गूगल पे और PhonePe को छोड़ा पीछे

Yes Bank Impact

सबसे ज्यादा इसका प्रभाव फोनपे पर पड़ा है, जो शीर्ष बैंक के फैसले के बाद से पूरी तरह से काम नहीं कर रहा है। हालांकि इसका असर सिर्फ यस बैंक के ग्राहक और फोन पे तक ही सीमित नहीं है। बल्कि इसकी जद में स्विगी और फ्लिपकार्ट भी हैं। फोन पे के उपभोक्ताओं ने इस संबंध में ट्विटर पर शिकायत की है। गुरुवार को फोन पे ने एक ट्वीट के जरिए “unscheduled maintenance activity” की जानकारी दी है। फोन पे एप ओपन करने पर भी यही मैसेज नजर आ रहा है। शुक्रवार सुबह से ही फोन पे की सेवा ठप्प चल रही है। Also Read - फोन पे, फ्री चार्ज में साझेदारी

PhonePe के फाउंडर और सीईओ समीर निगम ने इस बात की पुष्टि की है कि ये दिक्कत यस बैंक संकट के कराण ही हुई है। निगम ने ट्वीट कर बताया, ‘इस लंबे आउटरेज के लिए हमें खेद है। हमारे पार्टनर (यस बैंक) पर आरबीआई द्वारा रोक लगाई गई है। पूरी टीम रात भर से काम कर रही है, जिससे सर्विस जल्द से जल्द शुरू की जा सके। हम कुछ घंटे में लाइव हो जाएंगे। आपके धैर्य के लिए शुक्रिया। अपडेट के लिए जुड़े रहें।’ Also Read - फ्लिपकार्ट करेगी फोन पे में 50 करोड़ डॉलर का निवेश

फोन पे उन फिनटेक स्टार्टअप से एक है, जिसका एक्वायर बैंक या पेमेंट सर्विस प्रोवाइडर यस बैंक है। इसलिए आरबीआई द्वारा लगाई गई रोक का सीधा असर फोन पे पर पड़ा है। अगले एक महीने के लिए रिजर्व बैंक ने भारतीय स्टेट बैंक के पूर्व मुख्य वित्त अधिकारी प्रशांत कुमार को यस बैंक का प्रशासक नियूक्त किया है। वहीं देश के सबसे बड़े बैंक एसबीआई के निदेशक मंडल ने नकदी संकट से जूझ रहे यस बैंक में निवेश के लिए ‘सैद्धांतिक’ स्वीकृति दे दी है।

दुनियाभर की लेटेस्ट tech news और reviews के साथ best recharge, पॉप्युलर मोबाइल पर मिलने वाले एक्सक्लूसिव offers के लिए हमें फेसबुक, ट्विटर पर फॉलो करें।

  • Published Date: March 6, 2020 5:10 PM IST



new arrivals in india

Best Sellers