comscore
News

BGR India Awards 2017: साल की सबसे प्रगतिशील स्मार्टफोन तकनीकी

सामान्य चीजें उबाऊ हैं। कुछ प्रगतिशील सामने आया, और हम आपको एक अवार्ड दे सकते हैं।

bgr india awards 2017 innovative

शुरुआत से इस बात को लेकर क्लियर हो जाते हैं, हमारे समय में स्मार्टफोन ही एक ऐसी तकनीकी है जिसे बेहद प्रगतिशील कहा जा सकता है। इसने हमें कुछ इस तरह से जोड़ा है जिसके बारे में हम कुछ समय पहले तक सोच भी नहीं सकते थे, यानी इसमें हमें अकल्पनीय तरीके से एक दूसरे के साथ जोड़ा है। इसके अलावा पिछले कुछ समय से हमने स्मार्टफोन में काफी बदलाव होते देखें हैं। और अब हम इसके द्वारा वह सब कर सकते हैं, जिसकी हम कभी कल्पना भी नहीं कर सकते थे। अगर इस पोस्ट के माध्यम से पिछले दशक में अवार्ड देने की बात आती है, तो इसके लिए महज एक ही एंट्री नजर आती है, और वह स्मार्टफोन है।

हालाँकि यहाँ हम महज 2017 की ही चर्चा कर रहे हैं। और स्मार्टफोंस के अंदर ही, 2017 में स्मार्टफोंस को लेकर जो प्रगतिशीलता सामने आई है, वह काफी दिलचस्प है। हमने स्मार्टफोन तकनीकी में इस साल हुई 5 प्रगतिशील तकनीकी को इस लेख में शामिल किया है। तो आइये आपको भी इसके बारे में बताते हैं।

Xiaomi Mi MIX 2 का बेजल-लेस डिजाईन

सबसे पहले Xiaomi ने अपने Xiaomi Mi MIX स्मार्टफोन में ऑल-स्क्रीन बेजल-लेस डिजाईन शामिल किया था, और यह पिछले साल की बात है। हालाँकि Xiaomi MI MIX 2 के लॉन्च होने बाद से यह कॉन्सेप्ट पहलू मुख्यधारा में आ गया। अर्थात् Xiaomi MI MIX 2 के लॉन्च होने बाद से यह तकनीकी मुख्य धारा में आ गई और लगभग पूरे ही साल इस तकनीकी का बोलबाला रहा। हालाँकि iPhone X ने भी इस डिजाईन को काफी प्रसिद्द किया है। लेकिन Xiaomi ने इस तकनीको को अफोर्डेबल कीमत में लाने के साथ ही ज्यादा से ज्यादा लोगों तक पहुँचाया। Rs. 35,999 की कीमत में भारत में लॉन्च किया गया Xiaomi Mi MIX 2 एक फ्लैगशिप पॉवर हाउस कहा जा सकता है। और इसका डिजाईन भी अपने आप में काफी आकर्षक है।

हालाँकि यह पूरी तरह से बेजल-लेस नहीं है और इस कीमत में इसे सबसे बढ़िया स्मार्टफोन भी नहीं कहा जा सकता हैं, जिसे आप खरीदना चाहते हैं। लेकिन इस स्मार्टफोन को इस तकनीकी के उदाहरण के रूप में देखा जा सकता है। इसके पूरी तरह से स्क्रीन से कैप्चर फ्रंट के साथ और सेरामिक बैक के कारण, यह 2017 का एक सुपर मॉडल स्मार्टफोन कहा जा सकता है।

एप्पल iPhone X में मौजूद Face ID

iPhone X स्मार्टफोन के लिए कीनोट के दौरान एप्पल ने इस डिवाइस के लिए निर्मित Face ID को ऐसा बताया कि इससे बढ़िया चीज़ अभी तक किसी ने देखी ही नहीं है। हालाँकि अगर आप हमारी मानें तो आपको बता देते हैं कि कुछ अन्य मोबाइल निर्माता कम्पनियाँ अपने स्मार्टफोंस के साथ ऐसा पहले ही कर चुकी हैं- यानी LG ने अपने LG Q6 में पहले ही फेस अनलॉकिंग को शामिल कर लिया था, और यह iPhone X से पहले की ही बात है। हालाँकि इसके बाद भी एप्पल iPhone X की फेस ID को क्या एक इनोवेशन बना देता है?

iPhone X के साथ कंपनी ने Touch ID को रिप्लेस किया है, इसका मतलब है कि इस तकनीकी को कुछ ज्यादा ही अलग होना जरुरी है। हालाँकि यह उतनी अलग और तेज नहीं है, जितना सोचा या कहा जा रहा था। हालाँकि यह एक दिलचस्प तकनीकी है जिसे हम इस्तेमाल कर रहे हैं। इसके माध्यम से आप अपने फोन को बड़ी आसानी से और तेजी से अनलॉक कर सकते हैं। इसके अलावा अन्य एंड्राइड फोंस में मौजूद इस तकनीकी पर ज्यादा भरोसा किया जा सकता है, यह काफी सिक्योर कही जा सकती है। इस तकनीकी को इस्तेमाल करके आप अपनी खुद कि Animoji भी बना सकते हैं। और इसके कारण ही यह एक बढ़िया फीचर के तौर पर सामने आ रही है। इसके कारण ही इसे 2017 की एक बढ़िया तकनीकी के रूप में देखा जा सकता है।

Google Pixel 2 और Google Pixel 2 XL का कैमरा एल्गोरिदम

Google Pixel 2 और Pixel 2 XL स्मार्टफोंस के लॉन्च जसे पहले ही, कुछ रुमर्स के माध्यम से यह सामने आ गया था कि इन स्मार्टफोंस में सिंगल कैमरा सेटअप होने वाला है। इस ड्यूल कैमरा सेटअप वाले स्मार्टफोंस के युग में जहां आपको सैमसंग, एप्पल, Xiaomi और OnePlus जैसे प्रतिद्वंदी मिलते हैं। वहां इस तकनीकी को शामिल करना अपने आप में एक ख़राब बात होती, लेकिन के समय, यह बात भी साफ़ हो गई कि आखिर गूगल जानता है कि वह क्या कर रहा था।

Google Pixel 2 और Pixel 2 XL में मौजूद सिंगल कैमरा के बाद भी फोंस वैसी ही पोर्टेट तसवीरें ले सकते हैं, जैसी अन्य स्मार्टफोंस लेते हैं। और महज 12-मेगापिक्सल का कैमरा होने के बाद भी यह अभी तक किसी भी स्मार्टफोन से सबसे बेहतर तसवीरें लेने में सक्षम है। हमने Google Pixel 2 XL के कैमरा को एप्पल iPhone X और सैमसंग गैलेक्सी Note 8 की तुलना में परिक्षण करने देखा है, और हर मामले में यह आगे है।

इसके लिए सबसे बड़ा श्रेय कंपनी के बेस्ट कैमरा एल्गोरिदम को जाता है, जो इन स्मार्टफोन्स में इस्तेमाल किया गया है, इसके कारण ही Google Pixel 2 XL सबसे शानदार कैमरा वाला स्मार्टफोन कहा जा सकता है। क्योंकि इसने अपने इस स्मार्टफोन में कुछ शानदार तकनीकों को इस्तेमाल किया है, जिनका कोई मोल नहीं है। इसके कारण ही यह कैमरा के मामले में सबसे आगे है।

सैमसंग पे

2016 में अंत में विमुद्रीकरण के बाद, भारत में डिजिटल पेमेंट को मानो एक बड़ा रास्ता मिल गया था। और इसके बाद से लोग अपने स्मार्टफोन के माध्यम से पेमेंट्स आदि करने लगे थे। अगर हम विकसित देशों की चर्चा करें तो यहाँ इस तरह की पेमेंट ही जीवन का अभिन्न हिस्सा हैं। हालाँकि भारत में यह धीरे धीरे विकसित हो रही है, आपको इसके अलावा बता दें कि सैमसंग ने मार्च 2017 में भारत में अपनी सैमसंग पे सेवा को लॉन्च किया था।

सैमसंग पे का यूनीक होना इस बात को लेकर सामने आया है कि यह NFC और MST को सपोर्ट करता है। इसका मतलब है कि जब आपने फोन में अपने कार्ड की डिटेल्स को दर्ज कर देते हैं तो आपको बार बार अपने कार्ड को इस्तेमाल करने की जरूरत नहीं है आपको महज अपने डिवाइस को ही इस तरह की पेमेंट के लिए इस्तेमाल में लिया जा सकता है। हालाँकि यह फीचर अभी महज कुछ टॉप-एंड स्मार्टफोंस में ही उपलब्ध है और इसके अलावा इसे कुछ अपर मिड-रेंज सैमसंग डिवाइसों में भी देखा जा सकता है। हालाँकि ऐसा माना जा रहा है कि भविष्य में यह हर स्मार्टफोन में काम करना शुरू कर देगा।

AR Kit/ AR Core

ऑगमेंटेड रियलिटी, वर्चुअल रियलिटी और मिक्स्ड रियलिटी के बारे में हमने कई बार सुना है, लेकिन 2017 में हमने देखा है कि यह अवधारणा वास्तविकता की ओर बढ़ी हैं। जहां वर्चुअल रियलिटी और मिक्स्ड रियलिटी अभी भी हमने कुछ एक्सेसरीज के अभाव में दूर हैं, लेकिन ऑगमेंटेड रियलिटी महज आपके फोन को इस्तेमाल करके भी काम कर सकती है। इसके अलावा आपको बता दें कि इस साल दोनों ही यानी एप्पल और गूगल ने अपने अपने ऑगमेंटेड रियलिटी प्लेटफॉर्म्स की घोषणा की है। जो परिवेश का विश्लेषण करने और AR एलिमेंट्स को सम्मिलित और फ़ील्ड बनाने के लिए फोन के कैमरे का उपयोग करते हैं।

हालांकि ऐप्पल के बंद पारिस्थितिकी तंत्र का मतलब है कि एआर किट का लाभ पहले से ही संगत डिवाइसेस (आईफोन 6s और नए, साथ ही चुनिंदा आईपैड डिवाइसेज) के लिए शुरू हो रहा है। Google AR Core केवल पिक्सेल डिवाइस और सैमसंग गैलेक्सी S के लिए उपलब्ध है। दिशा-निर्देशों का मतलब है कि ऐप डेवलपर्स अब समर्थित डिवाइस पर कार्यात्मक AR अनुभव रोल आउट कर सकते हैं, जिससे सॉफ्टवेयर और डिवाइस दोनों पर उपयोगकर्ता के अनुभव को बढ़ाया जा सके। iOS पर क्वार्ट्ज समाचार ऐप सहित कई ऐप्स, पहले से ही बेहतर अनुभव के लिए AR लागू कर चुके हैं।

You Might be Interested

Xiaomi Mi MIX
Android 6.0.1 Marshmallow with MIUI 8
Qualcomm Snapdragon 821 Quad Core 2.35GHz Processor
16 MP with PDAF, EIS, dual tone LED flash
Xiaomi Mi MIX Pro
Android 6.0.1 Marshmallow with MIUI 8
Qualcomm Snapdragon 821 Quad Core 2.35GHz Processor
16 MP with PDAF, EIS, dual tone LED flash
Apple iPhone X

95390

iOS 11
A11 Bionic 64-bit chipset with M11 motion coprocessor
dual 12MP camera f/1.8 and f/2.8 apertures with dual OIS
Google Pixel 2

42000

Android 8.0.1, Oreo
Qualcomm Snapdragon 835 Octa-Core 2.35GHz + 1.9GHz, 64-Bit Processor
12.2 MP with f/1.8 aperture
Google Pixel 2 XL

57000

Android 8.0.0, Oreo
Qualcomm Snapdragon 835 Octa-Core 2.35GHz + 1.9GHz, 64-Bit Processor
12.2 MP with f/1.8 aperture
Xiaomi Mi MIX 2

32999

Android Nougat with Xiaomi’s MIUI 9
Qualcomm Snapdragon 835 Octa-Core 2.45GHz 64-bit Processor
12 MP with IMX386 sensor, 4-axis OIS, f/2.0 aperture, 5P lens, PDAF, HDR
Xiaomi Mi MIX 2s
Android 8.0 Oreo
Qualcomm Snapdragon 845 octa-core SoC
Dual 12MP + 12MP
Xiaomi Mi MIX 3
Android 8.1 Oreo
Snapdragon 845 octa core SoC
Dual 12MP + 12MP
Apple iPhone XC
iOS 12
Apple A12 octa-core SoC
Dual 12MP + 12MP
  • Published Date: January 16, 2018 9:00 AM IST