comscore
News

Vivo XPlay 7 स्मार्टफोन में एक 10GB रैम होने के आसार हैं; जानें क्या है इसका असल मतलब

Vivo का आगामी फोन दुनिया का पहला ऐसा स्मार्टफोन हो सकता है जिसमें 10GB रैम हो सकती है। हालाँकि इसके अलावा भी आपको बहुत कुछ देखने को मिल सकता है।

  • Published: February 1, 2018 11:00 AM IST
vivo v5 plus rear camera

अभी दो दिन पहले ही ऐसे खबरें इंटरनेट पर चलना शुरू हुई थी कि Vivo एक ऐसे फ्लैगशिप स्मार्टफोन पर काम कर रहा है, जिसमें कुछ ऐसे फीचर्स होने वाले हैं, जिनके बारे में हमने इसके पहले महज सुना ही है, किसी स्मार्टफोन में देखा नहीं है। इन फीचर्स में एक 4K रेजोल्यूशन वाली डिस्प्ले, 512GB की इंटरनल स्टोरेज और 10GB की बड़ी रैम होने वाली है। हालाँकि इसे लेकर कंपनी क्या सोच रही है, इसके बारे में तो हम ज्यादा कुछ नहीं कह सकते हैं लेकिन एक कंपनी को अपने स्मार्टफोन में इतनी ज्यादा स्टोरेज देने की क्या जरूरत है, या वह ऐसा क्यों करने वाली है, इसके बारे में विचार जरुर किया जा सकता है।

अभी कुछ साल पहले ही स्मार्टफोंस में रैम को शामिल किया जाना शुरू हुआ है, ऐसा इसलिए भी हुआ था क्योंकि इस समय मिड-रेंज में आने वाले लैपटॉप्स की तरह ही इन स्मार्टफोंस को बनाने की कोशिश की जा रही थी। समय बड़ी तेजी से गुजरा, और जल्दी ही हमने देखा कि स्मार्टफोंस को 4GB की रैम के साथ लॉन्च किया जाने लगा है। यह आजकल एक बड़ा चलन भी बन गया है, आजकल आप एक मिड-रेंज स्मार्टफोंस में भी 4GB की रैम को देख सकते हैं। इसके अलावा अगर मिड-रेंज के ऊपर वाले यानी कुछ प्रीमियम स्मार्टफोंस की चर्चा करें तो इन्हें 6GB और 8GB रैम के साथ लॉन्च किया जाने लगा है। हालाँकि ऐसे भी कई स्मार्टफोन मौजूद हैं, जो आपको Rs. 20,000 कीमत के अंदर ही 6GB की रैम ऑफर कर रहे हैं।

कल हमें ज्यादा RAM की जरुरत है?

आप इस बात को लेकर बहस कर सकते हैं कि ज्यादा स्टोरेज से ज्यादा फायदे होते हैं, ऐसा होने से आप वर्तमान में मॉडर्न ग्राफ़िक से लैस गेम्स आदि को खेलते हैं, 360- डिग्री या 4K रेजोल्यूशन वाली विडियो आदि देखते हैं, मल्टीटास्किंग आजकल काफी बढ़ गई है, इसके अलावा आजकल आप AR और VR का भी इस्तेमाल करने लगे हैं। जिसे देखते हुए इस बात को माना भी जा सकता है कि ज्यादा स्टोरेज और ज्यादा रैम आपके फोन के लिए जरुरी है। तो इस मामले में आपको गलत भी नहीं कहा जा सकता है, क्योंकि यह कहीं न कहीं सही भी है। हालाँकि जब हम एप्पल के स्मार्टफोंस की ओर नजर डालते हैं, तो मामला कुछ बदलने लगता है। अगर हम किसी भी iPhone की बात को ले लें तो यह इस रैम से आधी रैम में भी सही प्रकार से स्मूदली काम करता है। क्योंकि सही कहा न हमने, और आप भी इस बात से हमारे साथ तारुफ़ रखते होंगे।

ऐसे परिदृश्य में, आप कुछ भी नहीं कह सकते हैं, हालाँकि इसके बाद भी एक बात यहाँ यह देखी जा सकती है कि जिसे हम एक दूसरा दृष्टिकोण कह सकते हैं कि आखिर एक कंपनी को अपने स्मार्टफोन में ज्यादा रैम क्यों चाहिए। इसी को देखते हुए अगर हम एक स्मार्टफोन में 10GB रैम होने की बात को लेकर आगे बढें तो आप देखते हैं कि यह एक स्मार्टफोन के लिए काफी ज्यादा है, लेकिन इसे ख़राब भी नहीं कहा जा सकता है, क्योंकि यह एक मार्केटेबल टर्म है, इस तरह की रैम को कंपनी अपने स्मार्टफोन को ज्यादा प्रीमियम बनाने के लिए इस्तेमाल में ले सकती है। वहीँ दूसरी और से एक ज्यादा बढ़िया डिवाइस न होने के बाद भी इसे उसके प्रति ओवरकमपेंसेटिंग कहा जा सकता है।

हम बहुत से काम कम रैम के साथ भी कर सकते हैं!

यूँ तो Vivo के फोंस को बढ़िया फीचर्स के साथ अच्छी कीमत के एक कॉम्बिनेशन के तौर पर पेश किया जाता है। हलांकि अपने UI के चलते यह मार खा जाते हैं। हालाँकि मैं इस बात को भी मान सकता हूँ कि मेरा झुकाव स्टॉक एंड्राइड की ओर ज्यादा है। हालाँकि इसके अलावा Vivo फोन्स में मुझे लगता है कि स्टॉक एंड्राइड पर यह बिना किसी मतलब के ही ज्यादा रंगों और एनीमेशन की लेयर बना देते हैं, जिसकी असल में कोई जरूरत नहीं है। इसे महज कुछ अलग दिखाने के लिए ही किया जाता है। जो बिना इसके भी अच्छा रह सकता है।

ऐसा ही कुछ वर्तमान में चर्चा में बने हुए Vivo XPlay 7 स्मार्टफोन के साथ भी हो सकता है, हालाँकि जहां आप UI में किसी तरह का बदलाव नहीं कर सकते हैं, और न ही यह हमारे हाथ में है। अब यह एक समस्या है, लेकिन कंपनी ने इससे बाहर निकलने का एक आसान तारिका खोजा है। यह तरीका अपने फोन में ज्यादा रैम को जोड़ देने का है। इससे कंपनी यह सुनिश्चित करने की कोशिश करती है कि एक हैवी UI होने के बाद भी स्मार्टफोन आसानी से स्मूदली काम करने वाला है।

आप इस बारे में क्या सोचते हैं? क्या आप एक 10GB रैम के साथ आने वाला स्मार्टफोन चाहते हैं? या आप एक ऐसा स्मार्टफोन चाहते हैं जो कम रैम के साथ भी अच्छे से काम करे और उसके स्पेक्स भी ठीक ठाक हों? अपनी प्रतिक्रियाएं आप नीचे कमेंट बॉक्स में जाकर लिख सकते हैं।

You Might be Interested

Vivo Xplay 5
Android OS, v5.1 (Lollipop) with Funtouch OS 2.5.1
Qualcomm Snapdragon 652 octa-core processor
16 MP, f/2.0, phase detection autofocus, dual-LED (dual tone) flash
Vivo Xplay 5 Elite
Android OS, v5.1 (Lollipop) with Funtouch OS 2.5.1
Qualcomm Snapdragon 820
16 MP, f/2.0, phase detection autofocus, dual-LED (dual tone) flash
Vivo Xplay 6
Android 6.0.1 Marshmallow
Qualcomm Snapdragon 820 2.15GHz Processor
12 MP + 5 MP
  • Published Date: February 1, 2018 11:00 AM IST