comscore
News

5G पर चीन से लेकर अमेरिका क्यों है जल्दी में? 1 सेकंड में मूवी डाउनलोड का नहीं वॉर, सिक्योरिटी और आर्थिक तरक्की का भी है मामला

5G का मुख्य उद्देश्य हाई डाटा रेट, लेटेंसी रेट को कम करना( 5G की लेटेंसी बहुत कम है, टच या क्लिक के बाद डाटा रिक्वेस्ट भेजने और डाउनलोड होने में जितना समय लगता है उसे लेटेंसी कहते हैं), एनर्जी सेविंग, कॉस्ट रिडक्शन, हाई सिस्टम कैपेसिटी और बड़े पैमाने पर डिवाइसों को एक दूसरे के साथ कनेक्ट करना है।

5g-stock-image

दुनियाभर में इस समय 5G को लेकर काफी जोर-शोर से बातें हो रही हैं। कई देशों में 5G सर्विस की शुरुआत भी हो गई है। सबसे पहले 5G सर्विस शुरू करने की रेस में दक्षिण कोरिया ने बाकी देशों से बाजी मार ली है। इस रेस में चीन, अमेरिका और जापान जैसे कई देश थे। आखिर यहां सवाल उठता है कि आखिर क्यों ये सभी देश 5G को लेकर इतनी जल्दबाजी कर रहे हैं। भारत में भी 5G सर्विस अगले साल यानी 2020 में शुरू होने की उम्मीद है। दरअसल ये सभी देश 5G सर्विस को शुरू करने को लेकर इसलिए अग्रेसिव स्ट्रेटजी अपना रहे हैं क्योंकि इसका सीधा असर इकनॉमी से जुड़ा है। निश्चित तौर पर 5G सर्विस देश में इकनॉमी के बूस्टअप में बड़ा किरदार निभाएगी। 5G को लेकर जो बाते हो रही हैं वह सिर्फ एंटरटेनमेंट तक ही सीमित नहीं है।

बात सिर्फ इतनी सी नहीं है कि 5G सर्विस के बाद आप 1 मूवी को एक सेकंड या दो सेकंड में डाउनलोड कर लेंगे, बल्कि बात इससे कही अधिक हैं, जिसके चलते सभी देश 5G सर्विस को शुरू करने के लिए अग्रेसिव स्ट्रैटजी को अपना रहे हैं। 5G से देश की सिक्योरिटी, ट्रांसपोर्ट लॉजिस्टिक बिजनेस, हेल्थकेयर सभी चीजें जुड़ी हुई हैं। सेल्फ ड्राइविंग कार, ऑटोनोमस वेपन और रिमोट रोबोटिक सर्जरी सभी इसी 5G सर्विस से जुड़ी हुई है। हम आपको यहां इसी से जुड़ी जानकारी दे रहे हैं।

क्या है 5G सर्विस

5G सेल्युलर मोबाइल कम्युनिकेशन की पांचवी जनरेशन है। इसे अल्ट्रा फास्ट हाई कनेक्विटी भी कहा जा सकता है। यह 4G (LTE/WiMax), 3G (UMTS) and 2G (GSM) सिस्टम का अगला वर्जन है। 5G का मुख्य उद्देश्य हाई डाटा रेट, लेटेंसी रेट को कम करना( 5G की लेटेंसी बहुत कम है, टच या क्लिक के बाद डाटा रिक्वेस्ट भेजने और डाउनलोड होने में जितना समय लगता है उसे लेटेंसी कहते हैं), एनर्जी सेविंग, कॉस्ट रिडक्शन, हाई सिस्टम कैपेसिटी और बड़े पैमाने पर डिवाइसों को एक दूसरे के साथ कनेक्ट करना है। शुरुआत से बात करें तो पहली 3 सर्विसों का मकसद सिर्फ ह्यूमन (मनुष्य) से ह्यूमन था। इनमें 1G, 2G और 3G सर्विसें शामिल हैं। 1G सर्विस जहां वॉयस के लिए थी तो 2G सर्विस में वॉयस के साथ SMS सर्विस को भी जोड़ दिया गया था। इसके बाद आई 3जी सर्विस में MMS का भी फायदा मिला। हालांकि इन सर्विसों का इस्तेमाल किसी एक इंसान से दूसरे इंसान को ही मिल रहा था।

इसके बाद आई 4G सर्विस में हमें वीडियो की भी सुविधा मिली और अब यह सर्विस ह्यूमन से मशीन तक हो गई। हालांकि अब इसकी अगली सर्विस यानी 5G की जो बात हो रही है जिसमें मशीन टू मशीन + वीडियो+MMS+SMS+वीडियो जैसी सर्विस का फायदा मिलेगा।5G एक ऐसे इकोसिस्टम को निर्माण करेगा जो सभी डिवाइसों को एक दूसरे से कनेक्ट कर देगा। इसका फायदा हर सेक्टर को मिलेगा। एग्रीकल्चर से लेकर हेल्थ समेत सभी सेक्टरों को इससे लाभ मिलेेगा। वहीं ग्रामीण इलाकों को भी आसानी से शहरों को जोड़कर सभी तरह की सर्विसों को आसानी से गावों तक पहुंचाया जा सकेगा।

सिक्योरिटी और वॉर

5G नेटवर्क फुल ऑटोनोमस वेपन को भी बढ़ाने में मदद करेगा। इसके जरिए ऑटोनोमस वेपन टारगेट को हिट करने के लिए अपने आप से फैसला लेंगे। इसके अलावा फेशियल रिक्गनाइजेशन टेक्नोलॉजी के जरिए रियल टाइम में किसी पब्लिक प्लेस में संदिग्ध लोगों को ट्रैक भी किया जा सकेगा।

कंज्यूमर को क्या मिलेगा

कंज्यूमर के लिहाज से उसे 5G सर्विस के जरिए फास्ट मोबाइल डाटा स्पीड मिलेगी। 4G के मुकाबले यह स्पीड 100 गुना तेज होगी। इसके जरिए इंडस्ट्री और वर्क स्पेस में टास्ट ऑटोमेशन और डिजिटल कनेक्टिविटी का चलन बढ़ेगा।

ट्रांसपोर्ट और लॉजिस्टिक

5G के जरिए ड्राउवरलैस कार का सपना तेजी से साकार हो सकता है। इसके अलावा यह शिपिंग और लॉजिस्टिक में भी बड़ा रोल निभाएंगे।

गांव में मरीज शहर से होगा इलाज

5G टेक्नोलॉजी के आने से शहर में बैठा डॉक्टर गांव के मरीज को ठीक कर पाएगा। इससे सर्जरी भी संभव होगी और आसानी से डॉक्टर गांव में बैठे मरीज को मॉनिटर कर पाएंगे। इसके अलावा यह स्मार्ट सिटी के लिए भी काफी महत्वपूर्ण होगी। इसके अलावा आपको सड़को पर सेल्फ ड्राइविंग मिनी क्लीनिक भी मिल जाएगा। जिसमें डॉक्टर वीडियो लिंक के जरिए मरीज को देख और उसका इलाज कर पाएगा।

इंटरनेट ऑफ थिंग्स से स्मार्ट होगा घर

5G टेक्नोलॉजी के बाद इंटरनेट ऑफ थिंग्स का प्रचलन बढ़ेगा और ज्यादा से ज्यादा डिवाइस इंटरनेट से कनेक्ट होंगे। इसमें होम अप्लायंसेज से लेकर ग्रासरी ऑर्डर करने के सभी काम स्मार्ट तरीके से होंगे।

कनेक्टिड दुनिया

5G एक ऐसे इकोसिस्टम को निर्माण करेगा जो सभी डिवाइसों को एक दूसरे कनेक्ट कर देगा। इसका फायदा हर सेक्टर को मिलेगा। एग्रीकल्चर से लेकर हेल्थ समेत सभी सेक्टरों को इससे लाभ मिलेेगा। वहीं ग्रामीण इलाकों को भी आसानी से शहरों को जोड़कर सभी तरह की सर्विसों को आसानी से गावों तक पहुंचाया जा सकेगा।

  • Published Date: April 9, 2019 4:52 PM IST