comscore जानें कैसे बच सकते हैं Petya मालवेयर से | BGR India
News

जानें कैसे बच सकते हैं Petya मालवेयर से

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, मंगलवार को पूरे यूरोप में 'Petya' नामक एक नया मालवेयर ने कंपनियों, सरकारों पर हमला किया, जो कि पर्याप्त रूप से सुरक्षित नहीं थे।

cyber-attack-virus

WannaCry रैनसमवेयर वायरस से अभी तक पीछा नहीं छुटा था, कि मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, मंगलवार को पूरे यूरोप में ‘Petya’ नामक एक नया मालवेयर ने कंपनियों, सरकारों पर हमला किया, जो कि पर्याप्त रूप से सुरक्षित नहीं थे। लेकिन इसकी पहुंच सिर्फ यूरोप तक ही सीमित नहीं रही है, क्योंकि ‘Petya’ मालवेयर ने भारत में भी हमला किया है। वहीं, ‘Petya’ मालवेयर दूसरा पब्लिक मालवेयर है। इससे पहले WannaCry रैनसमवेयर नाम के वायरस ने दुनिया भर के देशों को परेशान किया था। इन देशों में भारत भी शामिल था। इस रैनसमवेयर नाम के वायरस को WannaCry का नाम दिया गया है। इस वायरस ने लगभग 99 देशों में 230,000 सिस्टम्स को प्रभावित किया है।

‘Petya’ को पीटा नाम के पुराने रैनसमवेयर का ऐडवांस्ड वर्जन माना जा रहा है। ‘Petya’ ने 20 नामी कंपनियों की कंप्यूटर स्क्रीन्स लॉक कर दी थीं, जिन्हें अनलॉक करने के एवज में 300 डॉलर की डिमांड रखी गई थी। जानकारों का मानना है कि मंगलवार को रैनसमवेयर ने मॉन्डेल्ज, मर्क और मेर्स जैसों को खास तौर पर निशाना बनाया था। ऐंटीवायरस सॉफ्टवेयर्स सप्लाई करने वाली कंपनी ऐवीरा ने भी इसकी पुष्टि की है।

कई रिपोर्ट के मुताबिक, ‘Petya’ मालवेयर को पहली बार यूक्रेन अकाउंटिंग सॉफ्टवेयर के लिए एक अद्यतन के माध्यम से वितरित किया गया था, जो कि एक डिजिटल डिजिटल हस्ताक्षर का उपयोग करते हुए, मेडॉक कहा जाता था। हालांकि कंपनी ने इन आरोपों से इनकार कर दिया है, जबकि Kaspersky और Talos इंटेलिजेंस और यूक्रेन साइबरपुलिस के शोधकर्ताओं ने निष्कर्ष की पुष्टि की है।

‘Petya’ मालवेयर से कैसे बचें

इसे भी देखें: HMD ग्लोबल जल्द ही पेश करेगा Nokia का नया फीचर फोन, इंटरनेट पर सामने आई पहली आधिकारिक फोटो

यह Petya/GoldenEye के दो तरीके से कंप्यूटर पर अटैक करता है। सोफोस के बिजनेस सिक्योरिटी एक्सपर्ट डेविड साइकेस ने कहा, “हमलों के असुरक्षित विंडोज सर्वर मेसेज ब्लॉक (SMB) सेवा का फायदा उठाते हैं, जो स्थानीय नेटवर्क में फाइलों और प्रिंटर को साझा करने के लिए उपयोग किया जाता है।” “माइक्रोसॉफ्ट ने मार्च में अपने MS17-010 बुलेटिन में इस मुद्दे को संबोधित किया था। नया Petya वर्जन माइक्रोसॉफ्ट PsExec टूल के एक वर्जन का उपयोग करके एडमिन क्रेडेंशियल्स के साथ टारगेट कंप्यूटर में फैल सकता है। ”

इसे भी देखें: लावा ने लॉन्च किया Helium 14 लैपटॉप, कीमत: 14,999 रुपए, जानें स्पेसिफिकेशन और फीचर्स

सेफ रहने के लिए आपको सबसे पहले विंडोज का लेटेस्ट वर्जन अपडेट करने की जरुरत है। यदि आपके पास आटोमेटिक अपडेट है, तो उसे ऑन कर दें। आपके कंप्यूटर में विंडोज का अपडेट वर्जन होना चाहिए। इसके बाद, सुनिश्चित करें कि आपका एंटीवायरस सॉफ्टवेयर अपडेट हो।

अपने ईमेल देखते हुए सावधान रहें। अनजान ईमेल पर आने वाले संदिग्ध लिंक्स पर क्लिक न करें। अपने कंप्यूटर के सिक्योरिटी सिस्टम को अपडेट रखें। फायरवॉल और एंटी वायरस सॉफ्टवेयर का इस्तेमाल करें। अपनी सारी जरुरी फाइलों का बैकअप एक एक्सटर्नल ड्राइव में रखें।

इसे भी देखें: मोबाइल वर्ल्ड कॉन्ग्रेस शंघाई 2017: जानें इसके बारे में सबकुछ

  • Published Date: June 29, 2017 11:00 PM IST