comscore
News

जानें यूएसबी टाइप-सी की 5 खूबियां और 5 खामियां

पिछले कुछ माह से यूएसबी टाइप-सी के बारे में काफी कुछ सुनने को मिला है। हाल में

USB-Type-C

पिछले कुछ माह से यूएसबी टाइप-सी के बारे में काफी कुछ सुनने को मिला है। हाल में गूगल नेक्सस और माइक्रोसॉफ्ट लुमिया सहित कई फोन में इस तकनीक का उपयोग किया गया है। ऐसे में उपभोक्ता के लिए यह बहुत बड़ा सवाल है कि यूएसबी टाइप-सी है क्या और इसके क्या फायदे हैं। आगे हमने यूएसबी टाइप-सी के इन्हीं फीचर्स को समझाया है।

यूएसबी टाइप-सी ने मोबाइल फोन में भले ही इस साल दस्तक दिया हो लेकिन लैपटॉप और टैबलेट में यह पिछले साल ही देखने को मिला था। सबसे पहले एप्पल ने अपने मैकबुक में इस पोर्ट का उपयोग किया था। इसके बाद नोकिया द्वारा लॉन्च एन1 टैबलेट में भी कपंनी ने यूएसबी टाइप-सी पोर्ट का उपयोग किया था। फोन में सबसे पहले हमने वनप्लस 2 में देखा। इसके बाद गूगल द्वारा लॉन्च किए गए एलजी नेक्सस एक्स और हुआवई नेक्सस 6पी में भी यूएसबी टाइप-सी का उपयोग किया गया था।

एचटीसी वन ए9: क्या एप्पल आईफोन की बराबरी कर पाएगा यह फोन

हाल में माइक्रोसॉफ्ट द्वारा लॉन्च लुमिया 950 और लुमिया 950 एक्सएल में भी कंपनी ने यूएसबी टाइप-सी का उपयोग किया है। वहीं हाल में वर्चुअल मैमोरी निर्माता कंपनी सैनडिस्क ने विश्व का पहला यूएसबी टाइप-सी आधारित पेन ड्राइव को लॉन्च किया है।

एंडरॉयड आॅपरेटिंग सिस्टम 6.0 मार्शमेलो को क्विक एक्सेस करने के 5 टिप्स

यूएसबी टाइप-सी का उपयोग धड़ल्ले से मोबाइल और लैपटॉप तकनीक में किया जा रहा है। परंतु क्या कारण है जो इस बदलाव की जरूरत पड़ी।

यूएसबी टाइप सी के फायदे

1. दोहरी गति से डाटा हस्तांरण
यूएसबी टाइप-सी यूएसबी के नए तकनीक संस्करण 3.1 पर कार्य करता है। यूएसबी के पुराने संस्करण 3.0 के माध्यम से अधिकतम 5जीबीपीएस की गति से डाटा का हस्तांरण किया जा सकता था। वहीं यूएसबी टाइप-सी यूएसबी 3.1 को सपोर्ट करता है और यह 10जीबीपीएस की गति से डाटा हस्तांरण करने में सक्षम है। चंद सेकेंड में यह हाईडेफिनेशन वीडियो फाइल का हस्तांरण कर सकता है।

2. पहले से आसान
पुराने यूएसबी में आपको एक तरफ कंप्यूटर के लिए जबकि दूसरी ओर टैबलेट या मोबाइल के लिए कनेक्टिविटी का विकल्प दिया जाता था। वहीं नए यूएसबी टाइप-सी केबल में दोनों तरफ समान केबल होता है और आप किसी भी छोर से इसका उपयोग कर सकते हैं। वहीं इस चार्जर का सबसे बड़ा फायदा यह है कि लैपटॉप, टैबलेट और फोन के लिए एक ही चार्जर का उपयोग किया जा सकेगा। हर किसी के​ लिए अलग चार्जर लेकर चलने की आवश्यकता नहीं है।

एंडरॉयड आॅपरेटिंग सिस्टम 6.0 मार्शमेलो में कैसे करें फाइल एक्सप्लोरर और गैलरी का उपयोग

3. पहले से छोटा
यूसबी टाइप-सी की तुलना अगर पुराने यूएसबी टाइप ए और यूएसबी टाइप बी से करें तो यह छोटा और पतला है। हालांकि यह फोन में उपयोग होने वाले माइक्रोयूएसबी से थोड़ा बड़ा है लेकिन इससे अन्य डिवाइस को स्लिम रखने में मदद मिलेगी। यूएसबी टाइप सी की चौड़ाई मात्र 8.4 एमएम है जबकि उंचाई 2.6एमएम।

4. फास्ट चार्जिंग
यूसबी टाइप-सी के माध्यम से आप अपने फोन या टैबलेट को जल्दी चार्ज कर सकते हैं। पुराना केबल जहां 5 वोल्ट तक पावर सप्लाई करने में सक्षम है। वहीं नया यूसएबी टाइप-सी 20 वोल्ट तक का पावर सप्लाई करने में सक्षम है। यूसबी टाइप सी का एक और फायदा यह है कि इससे आप न सिर्फ इससे अपने फोन को चार्ज कर सकते हैं बल्कि अपका फोन दूसरे फोन को भी चार्ज करने में सक्षम होगा।

5. डिसप्ले पोर्ट तकनीक
यूएसबी टाइप-सी की सबसे बड़ी खासियत है कि यह अब डिसप्ले तकनीक से लैस है। इसमें आप यूएसबी के माध्यम से ही मॉनिटर और टीवी को कनेक्ट कर सकते हैं। यह आॅडियो व्युजूअल प्रदान करने में सक्षम है।

USB-Type-C-vs-Micro-USB

कुछ कमियां हैं
यूएसबी टाइप-सी कई मामलों में पुराने यूएसबी टाइप-ए और टाइप-बी की अपेक्षा बेहतर है। परंतु इस केबल के साथ थोड़ी कमियां भी हैं।

1. जरूरी नहीं फास्ट चार्जिंग सपोर्ट हो
यूएसबी टाइप-सी का आशय यह नहीं है कि उसमें फार्स्ट चार्जिंग सपोर्ट हो ही। यह बहुत कुछ अडाप्टर और कंपनी द्वारा उपयोग किए गए तकनीक पर निर्भर करती है। हाल में लॉन्च वनप्लस 2 स्मार्टफोन में यूएसबी टाइप-सी पोर्ट है लेकिन वह यूएसबी 2.0 तक ही सीमित है।

क्या एंडरॉयड फोन में धीमी चार्जिंग से हैं परेशान, इन 10 उपाए से करें समाधान

2. जरूरी नहीं तेज गति से डाउनलोड
यूसबी टाइप-सी से तेज डाउनलोड किया जा सकता है लेकिन इसके लिए जरूरी है कि दूसरे डिवाइस में भी यूएसबी टाइप-सी पोर्ट के साथ यूएसबी 3.1 संस्करण सपोर्ट हो। य​दि दूसरा डिवाइस यूएसबी 3.0 या 2.0 सपोर्ट करता है तो यह तेज गति से डाटा हस्तांरण सपोर्ट नहीं करेगा। जहां तक भारत की बात है तो आज भी यहां ज्यादातर डिवाइस यूएसबी 2.0 सपोर्ट कर रहे हैं।

3. कम उपलब्धता
यूएसबी टाइप-सी की सबसे बड़ी कमी यही है कि फिलहाल बेहद ही कम डिवाइस में उपलब्ध है। ऐसे में आपको अपने फोन या टैबलेट को चार्ज करने के लिए हर जगह केबल लेकर चलना होगा। वहीं दूसरी सबसे बड़ी समस्या है कि लैपटॉप व कंप्यूटर में यूएसबी टाइप सी पोर्ट ही नहीं है। ऐसे में फोन को कंप्यूटर या लैपटॉप के साथ कनेक्ट करने में बेहद समस्या होती है।

क्या आप जानते हैं एंडरॉयड स्मार्टफोन के इन पांच छुपे हुए फीचर्स के बारे में

4. थोड़ा महंगा
साधारण केबल की अपेक्षा यूएसबी टाइप-सी केबल काफी महंगे हैं।

5. पुराने डिवाइस हो जाएंगे बेकार
ज्यादतर पुराने डिवाइस में माइक्रो यूएसबी पोर्ट का उपयोग किया गया है। आज यह पोर्ट फोन के साथ कई इलेक्ट्रॉनिक्स डिवाइस के लिए मानक बन गया है। ऐसे में यूएसबी टाइप-सी के आने से इन डिवाइस का उपयोग मुश्किल हो जाएगा। या इनका उपयोग करने के लिए आपको अलग से कनेक्टर का उपयोग करना होगा।

  • Published Date: December 14, 2015 2:41 PM IST
  • Updated Date: December 14, 2015 4:00 PM IST