comscore
News

जानें क्या है फोन रूट और इसके फायदे

एंडरॉयड फोन में अक्सर रूट शब्द सुनने को मिलता है। परंतु आपको मालूम है यह रूट है क्या?

Root-Android-1

आज एंडरॉयड स्मार्टफोन उपभोक्ता को फोन रूट के बारे में अक्सर सुनने को मिलता है। परंतु सवाल यही है कि फोन रूट है क्या और इसके क्या फायदे या नुकसान हैं। क्या हमें फोन को रूट करना चाहिए और यदि रूट करते हैं तो किन बातों का ध्यान रखना चाहिए। आगे हमनें इन्हीं सवालों का जवाब दिया है।

जानें क्या है रूटिंग

what is rooting of Android smartphone advantages and disadvantages फोटो साभार: lifehacker.com

आप कोई नए फोन की खरीदारी करते हैं तो मोबाइल फोन निर्माता द्वारा उसमें पहले से आॅपरेटिंग सिस्टम इंस्टॉल किया होता है। इसके माध्यम से आप उन्हीं चीजों को कर सकते हैं जिसके लिए कंपनी ने आपको एक्सेस दे रखा है। परंतु फोन को रूट कर आप एक सुपर यूजर बन सकते हैं। आप अपने एंडरॉयड स्मार्टफोन में उन चीजों को करने में भी सक्षम होंगे जिसके लिए कंपनी ने एक्सेस नहीं दे रखा था। आपके फोन की ताकत, उपयोगिता और परफॉर्मेंस बेहतर हो जाती है।

रूट किए फोन में आप कस्टम सॉफ्टवेयर जिसे कस्टम रोम भी कहा जाता है को इंस्टॉल कर सकते हैं। इसके माध्यम से आप फोन में कमांड आदि में भी बदलाव कर सकते हैं। आप चाहें तो होम बटन को बैक के लिए और वॉल्यूम बटन को कैमरे के लिए उपयोग कर सकते हैं। कुल मिलाकर कहा जा सकता है रूट करने के बाद फोन पर आपका कंट्रोल होता है। कंपनी का नियंत्रण खत्म हो जाता है। आईफोन में इसे जेलब्रेक के कहा जाता है। हालांकि जेलब्रेक और रूटिंग में थोड़ा अंतर है।

क्यों कहा गया रूटिंग

what is rooting of Android smartphone advantages and disadvantages फोटो साभार: youtube.com

रूट शब्द यूनिक्स/लाइनक्स से आया है। लाइनेक्स और यूनिक्स कंप्यूटर में उपयोग किए जानें वाले आॅैर आॅपरेटिंग सिस्टम हैं। इसके माध्यम से उपयोगकर्ता सुपर यूजर का अधिकार दिया जाता है। इसके तहत यूजर को अपने पीसी के सभी फाइलों और प्रोग्राम में बदलाव करने का अधिकार मिल जाता है। यह फंक्शन एंडरॉयड में भी है। रूट किए गए फोन में आप अपने फोन के फाइल, फोल्डर, सॉफ्टवेयर और यूजर इंटरफेस के कोड में बदलाव कर सकते हैं।

जब आप नया फोन लाते हैं तो मोबाइल निर्माता उसमें कई चीजें डालकर देता है। उनमें से कई ऐसे एप्स होते हैं जिनकी आपको जरूरत नहीं होती। परंतु साधारण फोन में इसे चाह कर भी आप हटा नहीं सकते। जबकि रूट में किए गए फोन में आप उस फीचर को अपने फोन में न सिर्फ लॉक कर कसते हैं बल्कि फोन से रिमूव भी कर सकते हैं।

क्या हैं ​रूटिंग के फायदे

what is rooting of Android smartphone advantages and disadvantages फोटो साभार: ityunit.com

यदि आप अपने फोन में सिर्फ कॉलिंग, मैसेजिंग और इंटरनेट जैसी सेवाओं को उपयोग करते हैं तो रूटिंग आपके लिए फायदेमंद नहीं है। रूट उनके लिए फायदेमंद है जो टेक सेवी हैं। जो अपने फोन के साथ बहुत कुछ करना चाहते हैं और जो अपने एंडरॉयड फोन पर पूरी तरह से अपना नियंत्रण चाहते हैं। आगे हमनें फोन रूट करने के फायदे बताएं हैं।

1. कस्टम थीम
फोन जब आप लेते हैं तो उसमें डिफाल्ट थीम होता है। आप वॉलपेपर और कलर बदल सकते हैं लेकिन रूट किए गए फोन में आप सबकुछ बदल सकते हैं। आप होम स्क्रीन पर दिए जानें वाले चार बटन को कहीं भी रख सकते हैं। सेटिंग पेज के बैकग्रांड को बदल सकते हैं और मेन्यू का तरीका तक बदल सकते हैं। कुल मिलकार यह कहा जा सकता है कि पूरा लुक और फील बदल सकते हैं।

2. परफॉर्मेंस होगा बेहतर
रूट किए गए फोन के लिए कई ऐसे कस्टम रोम और एप्स उपलब्ध हैं जिनके माध्यम से आप फोन का परफॉर्मेंस बेहतर कर सकते हैंं। इतना ही नहीं रूट किए गए फोन में आप बैटरी परफॉर्मेंस भी बेहतर कर सकते हैं। कई डेवलपर्स हैं जो कर्नेल लेयर कोड में बदलाव कर फेन के परफॉर्मेंस को बेहतर कर देते हैं।

3. बेसबैंड
रूट किए गए फोन में आप बेसबैंड को अपडेट कर सकते हैं। बेसबैंड का का उपयोग खास तौर से फोन के रेडियो सिग्नल को कंट्रोल करने के लिए किया जाता है। अर्थात अपने रूट किए गए फोन में सिग्नल को बेहतर कर सकते हैं।

4. नया एंडरॉयड
यदि आपका फोन पुराना है और फोन निर्माता ने एंडरॉयड का नया अपडेट नहीं भी दिया है तो भी आप रूट किए गए फोन में नए आॅपरेटिंग सिस्टम का उपयोग कर सकते हैं। टेकसेवी लोगों के लिए यह रूट का सबसे बड़ा फायदा यही है कि पुराने फोन पर नए फीचर्स का उपयोग कर पाएंगे।

5. डिवाइस बैकअप
रूट किए गए फोन में आप आसानी से डिवाइस में उपलब्ध सभी एप्स का बैकअप ले सकते हैं। यह फीचर्स स्टॉक एंडरॉयड में नहीं है लेकिन रूट डिवाइस में आप अपने फोन में सबकुछ बैकअप ले सकते हैं। टाइटेनियम बैकअप रूट फोन के लिए पेश किया गया एंडरॉयड एप्लिकेशन है जो पूरी तरह से फोन का बैकअप ले सकता है।

6. फीचर्स करें अनलॉक
रूट किए गए फोन में आप उन फीचर्स को भी अनलॉक कर सकते हैं जिसे आपके सर्विस प्रदाता और फोन निर्माता द्वारा लॉक किया गया है जैसे फ्री वाईफाई और यूसबी टेथरिंग इत्यादि।

7. एड ब्लॉक
इंटरनेट के उपयोग के समय आने वाले विज्ञापनों को भी आप रूट किए गए फोन में पूरी तरह से बंद कर सकते हैं।

8. अतिरिक्त सिक्योरिटी
रूट किए गए फोन में आप एडिशनल सिक्योरिटी लेवल का उपयोग कर सकते हैंं। कई बेहतरीन सिक्योरिटी एप हैं तो सिर्फ रूट किए गए फोन के साथ कार्य करते हैं।

क्या है रूटिंग के नुकसान

what is rooting of Android smartphone advantages and disadvantages फोटो साभार: androidauthority.com

एंडरॉयड स्मार्टफोन को रूट करने के कुछ फायदे हैं तो कुछ नुकसान भी।

1. वारंटी होगी खत्म
फोन यदि आप रूट करते हैं तो वारंटी खत्म हो जाएगी। अथार्त रूट किए गए फोन में खराबी आने पर मोबाइल निर्माता आपकी कोई मदद नहीं करेंगे।

2. फोन हो सकता है बेकार
यदि रूट के दौरान थोड़ी भी गड़बड़ी होती है तो आपका फोन पूरी तरह से बेकार हो सकता है। अर्थात उसमें आप कुछ भी नहीं कर सकते।

3. सिक्योरिटी
रूट किए गए फोन के लिए कई अडिशनल सिक्योरिटी एप्स हैं लेकिन इस दौरान कई ऐसे एप्स आप इंस्टॉल कर लेते हैं जो फोन को भारी नुकसान पहुंचा सकते हैं।

Xiaomi Redmi Pro: Price, Specifications and Features

  • Published Date: June 17, 2016 2:09 PM IST