comscore ISRO एक साथ लगभग 30 उपग्रहों को दिसम्बर में करेगा लॉन्च | BGR India
News

ISRO एक साथ लगभग 30 उपग्रहों को दिसम्बर में करेगा लॉन्च

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO) ने सोमवार को इस बात की घोषणा के है कि वह दिसम्बर में एक साथ अपने 30 उपग्रहों को अपने ध्रुवीय उपग्रह लॉन्च वाहन (PSLV) पर लॉन्च करेगा।

  • Published: October 31, 2017 11:30 AM IST
ISRO-IRNSS1H

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) ने सोमवार को इस बात की घोषणा के है कि वह दिसम्बर में एक साथ अपने 30 उपग्रहों को अपने ध्रुवीय उपग्रह लॉन्च वाहन (PSLV) पर लॉन्च करेगा। मिशन, जिसका मुख्य पेलोड कार्टोसैट -2 श्रृंखला धरती अवलोकन उपग्रह होगा, अगस्त में नेविगेशन उपग्रह IRNSS-1H के असफल लॉन्च के बाद पहला PSLV मिशन होगा। आपको बात दें कि ISRO के अध्यक्ष किरण कुमार ने कहा है कि, “हम अपने दूसरे लॉन्च को दिसम्बर के दूसरे चरण में लॉन्च करने पर विचार कर रहे हैं, सभी चीजें तय कर ली गई हैं, और सब कुछ सही चल रहा है… यह Cartosat-2 series का एक उपग्रह होगा, जो अन्य कई को-पैसेंजर्स के साथ लॉन्च किया जाएगा।” इसे भी देखें: OnePlus 5T स्मार्टफोन से क्लिक की गईं पोर्ट्रेट मोड तस्वीरें इंटरनेट पर हुईं लीक PSLV-C40 का उपयोग चेन्नई से लगभग 100 किलोमीटर दूर श्रीहरिकोटा में स्पेसपोर्ट से किया जाएगा। यह लगभग 25 नैनो उपग्रहों के मिश्रण का एक मिशन होगा, इसके अलावा इसमें तीन माइक्रो-उपग्रह, और एक Cartosat उपग्रह भी इनके साथ होने वाला है, इसके अलावा ऐसा भी हो सकता है कि इन सब के साथ एक Universal उपग्रह को भी लॉन्च किया जाये, यह जानकारी ISRO के एक अधिकारी के माध्यम से सामने आई है।  उन्होंने यह भी कहा है कि, Cartosat-2 सीरीज के उपग्रह के Co-पैसेंजर उपग्रह विदेशी देशों जैसे फ़िनलैंड और US के कमर्शियल उपग्रह हो सकते हैं। गौरतलब हो कि, कुछ समय पहले ऐसा भी सामने आया है कि ISRO Chandrayaan-2 के रूप में अगले साल की पहली तिमाही में चंद्रमा पर भेजेगा अपना दूसरा मिशन. आपको बता दें कि केन्द्रीय राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) डॉ। जितेंद्र सिंह (Ministry of Development of North Eastern Region (DoNER), MoS PMO, Personnel, Public Grievances and Pensions, Atomic Energy and Space) ने कहा है कि चांद पर दूसरे मिशन के रूप में Chandrayaan-2 को 2018 की पहली तिमाही में चांद पर प्रक्षेपित किया जा जा सकता है। इस बात के जानकारी डॉ। सिंह ने दिल्ली में आयोजित Asian Conference on Remote Sensing (ACRS) में दी है। इसे भी देखें: Samsung Galaxy S9 स्मार्टफोन को लेकर सामने आया एक और लीक: हेडफोन जैक के बिना किया का सकता है पेश? ISRO द्वारा बनाये गए प्लान के अनुसार, Chandrayaan-2 मिशन में एक लूनर ऑर्बिटर होगा, एक सॉफ्ट लैंडर के साथ साथ एक सेमी ऑटोनोमस रोवर भी होगा। बढ़ते हुए Payload का समर्थन करने के लिए, ISRO अपने Workhorse रॉकेट के खिलाफ अपने GSLV MKII का प्रयोग कर सकती है, PSLV का इस्तेमाल मेडेन मून मिशन के लिए किया जाता है। इसे भी देखें: TENAA पर डुअल रियर कैमरा के साथ नजर आए Oppo R11s और Oppo R11s Plus स्मार्टफोन

  • Published Date: October 31, 2017 11:30 AM IST